Jan Sandesh Online hindi news website

पाकिस्तान घबराया कश्मीर पर भारत की नीति से? पाक आर्मी चीफ बाजवा का कार्यकाल बढ़ा 3 साल के लिए

माना जा रहा है कि बाजवा के कार्यकाल को बढ़ाने के प्रस्ताव की मंजूरी इमरान खान ने मौजूदा हालात को देखते हुए लिया है। स्थानीय सुरक्षा हालातों को ध्यान में रखते हुए इमरान खान ने यह कदम उठाया है। बता दें कि जनरल बाजवा के तीन साल का कार्यकाल नवंबर में समाप्त होने वाला था। 

जम्मू-कश्मीर पर भारत सरकार द्वारा लिए गए फैसले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच माहौल गर्म है। जम्मू-कश्मीर मसले पर भारत के साथ तनाव के बीच पाकिस्तान ने एक बड़ा फैसला लिया है और अपने आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा का कार्यकाल बढ़ा दिया है। कश्मीर के साथ-साथ पीओके पर भारत की रणनीति से घबराए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान के आर्मी प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा का कार्यकाल तीन साल के लिए बढ़ा दिया है।

माना जा रहा है कि बाजवा के कार्यकाल को बढ़ाने के प्रस्ताव की मंजूरी इमरान खान ने मौजूदा हालात को देखते हुए लिया है। स्थानीय सुरक्षा हालातों को ध्यान में रखते हुए इमरान खान ने यह कदम उठाया है। बता दें कि जनरल बाजवा के तीन साल का कार्यकाल नवंबर में समाप्त होने वाला था।

और पढ़ें
1 of 202

इमरान खान ने एक आदेश जारी किया है, जिसके मुताबिक, ‘जनरल क़मर जावेद बाजवा को वर्तमान कार्यकाल पूरा होने की तारीख से तीन साल के एक और कार्यकाल के लिए सेनाध्यक्ष नियुक्त किया जाता है। यह फैसला क्षेत्रीय सुरक्षा माहौल को ध्यान में रखते हुए लिया गया है।’

जनरल कमर जावेद बाजवा को पहली बार साल 2016 में तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ द्वारा नियुक्त किया गया था। बता दें कि राजनाथ सिंह ने रविवार को एक बयान देकर पाकिस्तान को सहमा दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि अब पाकिस्तान से बात होगी तो सिर्फ पीओके पर ही होगी। ऐसा माना जा रहा है कि पाकिस्तान इस बयान से सहम गया है, क्योंकि इस बयान के आते ही पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इसकी निंदा की थी।

उल्लेखनीय है कि बाजवा, खान की पहली अमेरिका यात्रा के समय उनके साथ गए थे जहां प्रधानमंत्री ने व्हाइट हाउस में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात की थी। खान ने एक अभूतपूर्व कदम के तहत बाजवा को राष्ट्रीय विकास परिषद का सदस्य भी मनोनीत किया था। पाकिस्तान में सेना प्रमुख के पद पर नियुक्ति प्रधानमंत्री और उनकी सरकार का विशेषाधिकार होती है। यहां सबसे वरिष्ठ सैन्य अधिकारी को सेना प्रमुख बनाने की परंपरा का पालन नहीं किया जाता।

बाजवा को ऐसे समय में सेवा विस्तार दिया गया है जब जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के फैसले के कारण भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध खराब दौर से गुजर रहे हैं। कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के भारत के फैसले पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए पाकिस्तान ने नयी दिल्ली के साथ अपने राजनयिक संबंधों का दर्जा कम करने का फैसला किया था और भारतीय उच्चायुक्त को निष्कासित कर दिया था।

इसके साथ ही पाकिस्तान ने भारत के साथ अपने कारोबारी रिश्तों पर भी विराम लगा दिया। उधर, भारत अंतरराष्ट्रीय बिरादरी को साफ शब्दों में कह चुका है कि जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 को हटाने का उसका फैसला पूरी तरह उसका आंतरिक मामला है। भारत ने पाकिस्तान को भी सलाह दी है कि वह सचाई को स्वीकार करे ।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.