Jan Sandesh Online hindi news website

सोशल वर्क कोर्स से शुरू हुआ सफर आज लोगो को मुकाम दिलाने के लक्ष्य में हुआ तब्दील

लखनऊ
सोशल वर्क कोर्स के दौरान दोस्तों के साथ गांव-गांव घूमकर महिलाओं को जागरूक करने से शुरू हुआ सफर आज घरेलू और आर्थिक रूप से कमजोर महिलाओं को मुकाम दिलाने के लक्ष्य में तब्दील हो चुका है। आशियाना निवासी शैलजा चौधरीमहज 25 वर्ष की उम्र में ऐसी आंत्रप्रेन्योर बन चुकी हैं जो महिलाओं को बेहतर स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के साथ ही बच्चों की जिंदगी में शिक्षा का उजाला फैला रही हैं। शैलजा के प्रयासों का ही नतीजा है कि आज सरोजनीनगर के नटपुर गांव की ज्यादातर महिलाएं और किशोरियां सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल कर रही हैं। इसके साथ ही 50 महिलाएं आत्मनिर्भर बनने की दिशा में अग्रसर हैं।

2017 में इग्नू से मास्टर इन सोशल वर्क करने के बाद शैलजा ने किसी कंपनी से जुड़ने की जगह दूसरों के लिए काम करने का संकल्प लिया। शैलजा के अनुसार कोर्स के दौरान बाकी स्टूडेंट्स के साथ फील्ड वर्क में स्वास्थ्य, शिक्षा जैसे जरूरी मुद्दों पर काम किया था। इसके बाद खुद भी पहले बच्चों के शिक्षा पर काम करने का विचार आया। हालांकि इसी बीच माहवारी स्वच्छता को लेकर महिलाओं में कई भ्रांतियां दिखीं। ऐसे में भ्रांतियों को दूर कर महिलाओं को सेहत का ख्याल रखने के प्रति जागरूक करने की दिशा में काम शुरू किया। वर्ष 2018 में 15 दोस्तों ने मिलकर अक्षय फाउंडेशन शुरू किया, इसका मुख्य लक्ष्य महिलाओं की सेहत का ख्याल रखना तय हुआ।

और पढ़ें
1 of 388

शैलजा बताती हैं कि लोगों से मिलने वाली मदद से ही संस्था काम कर रही है। नटपुर गांव में एक सेंटर भी शुरू किया है। इसमें 50 महिलाओं को सिलाई, ब्यूटीशन जैसे कोर्स के साथ-साथ आत्मरक्षा की ट्रेनिंग दे रही हैं। कुछ समय पहले स्वच्छ भारत फेलोशिप के तहत मिले 30 हजार रुपये से अक्षय सैनिटरी नैपकिन भी लॉन्च किया है। इसी कोशिश को देखते हुए छत्तीसगढ़ सरकार ने शैलजा को सोशल विमिन आंत्रप्रिन्योर के रूप में सम्मानित भी किया।

घर से मिली मदद
शैलजा के अनुसार उनके पिता प्रेम शंकर चौधरी रेलवे में हैं और मां हाउस वाइफ हैं। परिवार में एक भाई और एक बड़ी बहन भी है। फाउंडेशन के लिए कुछ भी करने से पहले पिता से सलाह लेती हैं। यही नहीं, भाई और बहन भी फाउंडेशन से जुड़ी महिलाओं की आर्थिक मदद करने में पीछे नहीं रहते। परिवार के अलावा संस्था के साथ जुड़े रीना गोसाई, सीमा सिंह, आकाश कुशवाहा, दीक्षा द्विवेदी, यामिया सिद्दीकी और कनिका सचान मिलकर काम को आगे बढ़ा रहे हैं। सामाजिक कार्य के लिए अनुप्रिया पटेल और स्वाति सिंह जैसे नेता सम्मानित भी कर चुके हैं।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.