Jan Sandesh Online hindi news website

पीरियड सेक्स इन महिलाओं के लिए होता है Pleasure देने वाला

0
आमतौर पर महिलाएं पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से बचती हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह होती है लगातार होनेवाली ब्लीडिंग से uneasy फील होना। लेकिन वहीं कुछ महिलाओं के लिए पीरिड्स के दौरान सेक्स करना आम दिनों की तुलना में कहीं अधिक प्लेजर देनेवाला होता है।

बढ़ जाती है सेक्स की इच्छा

पीरिड्स के दौरान महिलाओं के शरीर में बड़े स्तर पर हॉर्मोनल चेंजेज होते हैं। इस कारण कई महिलाओं में उत्तेजना बढ़ जाती है और वे पीरियड्स के दौरान सेक्स को ज्यादा इंजॉय करती हैं।
और पढ़ें
1 of 26

दर्द में आराम

पीरियड्स के दौरान आमतौर पर महिलाओं को क्रैम्प्स की दिक्कत होती है। इसकी तकलीफ कई बार असहनीय भी हो जाती है। लेकिन जो महिलाएं पीरियड्स के दौरान सेक्स इंजॉय करती हैं, उन्हें क्रैंम्प्स में राहत महसूस होती है।

टच थेरपी का असर

कई महिलाओं को पीरियड्स के दौरान सेक्स से पहले पार्टनर के साथ फॉरप्ले इंजॉय करना ही दर्द में राहत देनेवाला होता है। इसकी वजह होते हैं हैपी हॉर्मोन्स और कडलिंग का टच थेरपी की तरह काम करना।

हैपी हॉर्मोन्स का रिलीज होना

पीरियड्स पेन के दौरान पार्टनर द्वारा आपको प्यार से सहलाना और पैंपर करना दर्द की पीड़ा को कम करता है। फॉरप्ले के दौरान मस्तिष्क में इन्डॉर्फिन हॉर्मोन रिलीज होता है, जो मन को खुशी देता है और दर्द का असर कम करता है।

Heavyness में राहत

पीरियड्स के दौरान कडलिंग और सेक्स महिलाओं को दो तरीके से हेल्प करता है। कई महिलाओं को सेक्स के बाद पीरियड्स के दौरान बॉडी में फील होनेवाली हेविनेस कम हो जाती है। तो कई महिलाओं को हेवी ब्लीडिंग से राहत मिलती है।

चिड़चिड़ाहट में कमी

पीरियड्स के दौरान हॉर्मोन्स बदलाव के कारण महिलाओं को मूड स्विंग की दिक्कत होती है। कई महिलाओं में चिड़चिड़ाहट बढ़ जाती है। लेकिन इस दौरान सेक्स इंजॉय करनेवाली महिलाओं में हैपी हॉर्मोन्स बढ़ने के कारण इस परेशानी में राहत महसूस होती है।
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।