Jan Sandesh Online hindi news website

आतंकी कैंप और लॉन्च पैड बना रहा एलओसी पर पाकिस्तान , इंटेलिजेंस रिपोर्ट्स में खुलासा

0

कश्मीर पर चारों ओर मुंह की खाने के बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। खुफिया सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार, एलओसी के पास पाकिस्तान के आतंकी कैंप फिर से सक्रिय हो गए हैं। इसके साथ ही 7 लॉन्च पैड भी तैयार किया गया है और 275 आतंकी भी ऐक्टिव हैं। जम्मू-कश्मीर में अशांति फैलाने के लिए अफगान और पश्तून सिपाही भी तैनात किए जा रहे हैं। पाकिस्तान ने यह कदम ऐसे वक्त में उठाया है जब अगले महीने वैश्विक आतंकी वित्त पोषण गतिविधियों पर नजर रखने वाली संस्था फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स पाकिस्तान के भविष्य पर महत्वपूर्ण फैसला लेनेवाला है।

कश्मीर में आतंकी भेजने का काम पाक पहले भी करता रहा है

और पढ़ें
1 of 1,264

एख वरिष्ठ इंटेलिजेंस सूत्र ने बताया कि पाकिस्तान द्वारा अफगान और पश्तून जिहादियों को सीमापार से आतंकी गतिविधियों के लिए इस्तेमाल करना कोई अचरज की बात नहीं है। हालांकि, यह सामान्य तरीके से अलग जरूर है। इससे पहले 1990 के दौर में भी पाकिस्तान ने विदेशी लड़ाकों को कश्मीर में हिंसा भड़काने और आतंक फैलाने के लिए इस्तेमाल किया था।

90 के दशक में प्रॉक्सी वॉर में पाक ने चला था यह पैंतरा
1990 के दशक में पाकिस्तान ने सबसे पहले विदेशी लड़ाकों का प्रयोग भारत के खिलाफ सीमापार से आतंक फैलाने के लिए किया था। भारत के खिलाफ घाटी में प्रॉक्सी वॉर को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान ने यह चाल चली थी। भारत ने जब पाक प्रायोजित आतंकवाद के खिलाफ सख्त कार्रवाई की तो पाकिस्तान ने अपनी रणनीति में बदलाव किया। पाकिस्तान अब आम तौर पर पंजाब और पीओके के जनजातीय समुदाय को ही कश्मीर में हिंसा के काम के लिए भेज रहा है।

इंटेलिजेंस के पास पाक की हरकतों के पुख्ता सबूत

इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि पाकिस्तानी सेना और आईएसआई मिलकर भारत के खिलाफ षड्यंत्र रचने में पूरा जोर लगा रहे हैं। LoC में पाकिस्तान अधिकतम संख्या में आतंकियों को तैयार कर रहा है और लॉन्च पैड निर्माण का भी काम किया जा रहा है। आतंकी उत्तरी कश्मीर के गुरेज सेक्टर के जरिए भारत में घुसने के फिराक में है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.