Jan Sandesh Online hindi news website

कद-काठी के कारण स्पिन से जोफ्रा आर्चर ने की शुरुआत, अब बन गए हैं रफ्तार की मिसाल

0

क्रिकेटर जोफ्रा आर्चर वेस्टइंडीज के हीरो बन सकते थे, लेकिन उन्होंने चुना इंग्लैंड के लिए सुपरहीरो बनना। आज के समय के सबसे खतरनाक गेदबाजों में गिने जाते हैं- जोफ्रा आर्चर। वे अपनी तेज रफ्तार बॉलिंग और खतरनाक बाउंसर्स के कारण चर्चा में रहते हैं। कद-काठी के कारण जोफ्रा ने क्रिकेट की शुरुआत स्पिन गेंदबाजी से की थी,लेकिन बाद में तेज गेंदबाजी करने लगे।

जोफ्रा आर्चर का जन्म 1 अप्रैल 1995 को बारबाडोस, ब्रिजटाउन में हुआ था। उनके पिता का नाम फ्रैंक आर्चर है जो कि एक ब्रिटिश निवासी थे। उनकी मां का नाम जॉली है और वे बारबाडोस की हैं। पिता के ब्रिटिश निवासी होने की वजह से ही जोफ्रा के पास ब्रिटिश नागरिकता भी है। क्योंकि उनका जन्म बारबाडोस में हुआ था इसलिए उनमें क्रिकेट को लेकर जुनून शुरू से ही था। दरअसल यहां के लोग क्रिकेट को खूब पसंद करते हैं। ब्रिजटाउन के ही एक स्कूल में पढ़ते हुए उन्होंने क्रिकेट में भी खूब ध्यान लगाया। वहां पर क्रिकेट खेलते हुए वे स्पिन गेंदबाजी किया करते थे। गेंदबाजी की तरह ही बैटिंग में भी वे काफी अच्छे थे। अपने लाजवाब टैलेंट की वजह से ही वे अपने स्कूल की टीम को कई बार चैंपियनशिप जितवाने में भी मदद कर चुके हैं।

और पढ़ें
1 of 121

2013 में तेज गेंदबाज बने आर्चर

जोफ्रा की कद-काठी बाकि बच्चों की तरह नहीं थी, इसीलिए उन्होंने स्पिन गेंदबाजी को अपनाया था। लेकिन 2013 में उन्होंने तेज गेंदबाजी को अपना हथियार बनाया। यहीं से वे निकल पड़े एक नई मंजिल की तरफ। हालांकि इस दौरान वे वेस्टइंडीज की अंडर 19 टीम की तरफ से भी मैच खेल चुके थे, लेकिन एक चोट की वजह से उन्हें टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। इससे वे बेहद निराश हुए और दोगुनी मेहनत के साथ क्रिकेट के मैदान पर फिर से उतरे। 2015 में बारबाडोस में जन्मे इंग्लिश क्रिकेटर क्रिस जॉर्डन ने जोफ्रा को खेलते हुए देखा। वे उनकी गति और बाउंसर्स को देखकर बहुत प्रभावित हुए। जोफ्रा से मिलकर उन्होंने इंग्लैंड के क्रिकेट क्लब के लिए उन्हें खेलने का सुझाव दिया। जोफ्रा भी तुरंत ही तैयार हो गए थे और इस तरह उनके इंग्लैंड सफर की शुरुआत हुई। फर्स्ट क्लास डेब्यू के साथ ही जोफ्रा ने अपनी गेंदबाजी से ऐसी छाप छोड़ी कि सबसे लोकप्रिय टी-20 लीग आईपीएल में भी उन्हें 2018 में खेलने का मौका मिल गया।

आर्चर आईपीएल में राजस्थान की ओर से खेले

राजस्थान रॉयल्स की टीम से खेलते हुए उन्होंने अपनी गेंदबाजी से सभी को खूब प्रभावित किया। यही समय था जब सभी को लगने लगा था कि इंग्लैंड की वर्ल्ड कप टीम में भी उन्हें होना चाहिए। जोफ्रा आर्चर के लिए इंग्लैंड की वर्ल्ड कप टीम में जगह बनाना मुश्किल ही नहीं बल्कि असंभव-सा था। क्योंकि नियमों के मुताबिक उन्हें कम से कम सात साल तक इंग्लैंड के नागरिक के रूप में देश के अंदर ही रहना पड़ता। नियम के अनुसार तो जोफ्रा 2022 से पहले इंग्लैंड से नहीं खेल सकते थे, लेकिन इंग्लैंड के क्रिकेट बोर्ड ने वर्ल्ड कप से कुछ समय पहले ही अपने नियमों में बदलाव किया और इंग्लैंड में रहने वाले 7 साल के नियम को 3 साल कर दिया। अब जोफ्रा इंग्लैंड की टीम में खेल सकते थे।

वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा थे आर्चर

3 मई 2019 को जोफ्रा ने आयरलैंड के खिलाफ इंग्लैंड की तरफ से अपना अंतरराष्ट्रीय ओडीआई डेब्यू किया। इसके बाद पाकिस्तान के खिलाफ घरेलू सीरीज में भी उन्हें खेलने का मौका मिला। वर्ल्ड कप के लिए इंग्लैंड के पहले स्क्वॉड का जब एलान किया गया तो उसमें जोफ्रा का नाम नहीं था। इस पर कई बड़े खिलाड़ियों ने आपत्ति जताई। बाद में इंग्लैंड की फाइनल वर्ल्ड कप टीम में उन्हें चुन लिया गया।

अपने परफॉर्मेंस के दम पर उन्होंने दिखा दिया कि वे किसी भी टीम के लिए कितने उपयोगी साबित हो सकते हैं। वे वर्ल्ड कप में अपनी टीम की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे। उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ फाइनल मैच में सुपर ओवर खेलने का मौका भी दिया गया। उन्होंने इंग्लैंड को वर्ल्ड कप जितवाने में अहम भूमिका निभाई और एशेज सीरीज में भी अपनी घातक गेंदबाजी का नजारा पेश किया।

इनके जीवन से मिली ये सीख

  • जीवन में आपको दोबारा मौका जरूर मिलता है, दूसरा मौका मिलने के बाद ये आपके ऊपर है कि आप उसका क्या उपयोग करते हैं।
  • सफल लोग केवल भाग्यशाली नहीं होत हैं, लेकिन सफल होने के लिए अन्य चीजों के साथ भाग्य का होना भी बहुत जरूरी है।
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।