Jan Sandesh Online hindi news website

यह महिला हर रोज सिर मुंडा लेती है, कारण है हैरान करने वाला !

0

लखनऊ/झांसी । उत्तर प्रदेश की पुलिस एक बार फिर जनता को तत्काल न्याय दिलाने की प्रक्रिया में फिसड्डी साबित होती नज़र आ रही है। इसका जीता जागता उदाहरण सूबे के जनपद झांसी में देखा जा सकता है।

जनपदीय पुलिस की कार्यवाही से निराश जनपद निवासी एक सिक्ख महिला ने न्याय प्राप्त करने और अधिकारियों का ध्यान खींचने के लिए नया तरीका अपनाया है।

महिला हर रोज अपना सिर मुंड़ा लेती है। महिला का कहना है कि वह अपने बालों को तब तक बड़ा नहीं होने देगी, जब तक पुलिस उसके पिता के हत्यारों गिरफ्तार नहीं कर लेती।

दरअसल, सुन्दर बिहार कालोनी, सिविल लाइन थाना नवाबाद जनपद झांसी निवासी पुनीत सिंह के मुताबिक उनके पिता जोगिन्दर उर्फ योगेन्द्र सिंह बत्रा की 22 अगस्त 2019 को पड़ोसी वीरेन्द्र खण्डेलवाल व उसके पुत्र राजीव खण्डेलवाल द्वारा सम्पत्ति के विवाद में हत्या कर दी गयी थी।

और पढ़ें
1 of 967

पुत्री पुनीत ने 25 अगस्त को थाना नवाबाद में आईपीसी की धारा 302, 506/34 के तहत वीरेन्द्र और राजीव के खिलाफ मुकद्मा दर्ज कराया। लेकिन पुनीत का कहना है कि आज 16 सितम्बर हो गयी और मेरे पिता के हत्यारे घूम रहे हैं।

पुलिस उनकी गिरफ्तारी नहीं कर रही है, और मुझे सिर्फ आश्वासन दे रही है। महिला ने नवाबाद पुलिस थाने के प्रभारी (एसएचओ) संजय सिंह पर आरोपियों को सह देने का आरोप लगाया है, जिन्हें अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) झांसी ओम प्रकाश सिंह ने सोमवार को पुनीत के घर जाकर उनसे घटनाक्रम के विषय में जानकारी ली है। वहीं पुलिस ने आज पीड़ित महिला के बयान दर्ज किये हैं।

उधर पीड़ित महिला के मुताबिक, उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व अल्पसंख्यक आयोग को अपने पिता के लिए न्याय की मांग करते हुए अर्जी भेजी है।

अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य परमिन्दर सिंह ने आईपीएन को बताया कि आयोग ने इस मामले में झांसी के एसएसपी को रिपोर्ट के साथ तलब किया है।

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: