Jan Sandesh Online hindi news website

नौकरी के लालच ने करवाई बेटे के हाथों पिता की हत्या

0

महज सरकारी नौकरी पाने के लालच में बेटे और पत्नी एक शख्स की हत्या कर दी और तीन टुकड़े कर कूड़े के ढेर में फेंक आए। यह अमानवीय और दर्दनाक घटना बुलंदशहर जिले के बीबीनगर इलाके की है। यहां के अहमदनगर गांव के 59 साल के तेजराम की हत्या उनकी पत्नी और बेटी ने की थी। एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने मंगलवार को यह खुलासा किया।
हत्या की वजह सरकारी नौकरी और पेंशन बताई गई। पुलिस की जांच में पता चला कि खाना खाते समय पत्नी ने कुल्हाड़ी से वार कर पति का एक हाथ अलग कर दिया। फिर बेटे ने उनकी गर्दन उड़ा दी। शव का तीसरा टुकड़ा किया गया, जिससे पैककर फेंकने में आसानी हो। उसके बाद गांव के कूड़े के ढेर में तीनों टुकड़े फेंक दिए।

कूड़े में मिला था शव, तीन टुकड़े कर फेंका
अहमदानगर गांव के तेजराम (59) बहुपुर आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में चपरासी थे। अगले साल रिटायर होने वाले थे। तीन हिस्सों में कटा उनका शव रविवार को कूड़े के ढेर में मिला था। पुलिस को शुरुआती जांच में ही मामला संदिग्ध लगा। तेजराम की पत्नी मेमवती और उनके बेटे कपिल को पूछताछ के लिए थाने बुलाया गया। सख्ती करने पर दोनों ने वारदात का जो हाल सुनाया उसके बाद पुलिसवालों के भी रोंगटे खड़े हो गए।

और पढ़ें
1 of 437
“तेजराम की हत्या उनकी पत्नी और बेटे ने पेंशन व नौकरी की लालच में की थी। दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया गया है।”-संतोष कुमार सिंह, एसएसपी, बुलंदशहर


पत्नी ने काटा हाथ और फिर बेटे ने गर्दन

तेजराम शनिवार रात खाना खा रहे थे। उसी समय मेमवती ने पीछे से हमला कर उनका एक हाथ काटकर अलग कर दिया। दर्द से तड़पते हुए तेजराम वहीं गिर गए। फिर बेटे ने उसी कुल्हाड़ी से उनकी गर्दन अलग कर दी। कपिल ने पुलिस को बताया कि बॉडी फेंकने के लिए ले जाने में दिक्कत न हो, इसलिए पिता की बॉडी को तीसरे हिस्से में काटा। फिर तीनों हिस्सों को पैककर गांव के कूड़े के ढेर में दबा दिया। ग्रामीणों ने रविवार सुबह शव मिलने की सूचना पुलिस को दी थी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।