Jan Sandesh Online hindi news website

यूपी पुलिस जोश में आयी और किसान के खेत के सामने खड़ी बैलगाड़ी का काट दिया चालान, ये वजह बतायी !

0

बिजनौर । जब से देश में नया मोटर वीइकल ऐक्ट लागू हुआ है तभी पुलिस धड़ाधड़ चालान काट रही है। और आम आदमी परेशान चालान का बिल का भरते -भरते परेशान हो रहा है। यूपी टैªफिक पुलिस का जोश भी कम नहीं है। जब से यहां नया मोटर वीइकल ऐक्ट लागू होने के बाद ताबड़तोड़ चालान काटे जा रहे हैं। इनमें कई अजीबोगरीब मामले भी सामने आ रहे हैं।

यूपी के बिजनौर जिले के साहसपुर में एक बैलगाड़ी वाले का चालान काट दिया गया। पुलिस ने शनिवार को बैलगाड़ी मालिक को चालान थमाया। हालांकि मोटर वीइकल ऐक्ट में बैलगाड़ी पर जुर्माने का कोई प्रावधान न होने पर पुलिस ने चालान कैंसल करने का फैसला लिया।

और पढ़ें
1 of 438

साहसपुर पुलिस थाने के प्रभारी पीडी भट्ट ने बताया कि अवैध खनन की सूचना मिलने के बाद पुलिस टीम इलाके में पट्रोलिंग कर रही थी। उन्होंने कहा, अधिकतर गांव वाले बैलगाड़ी के जरिए खनन की रेत ले जाते हैं। पुलिस टीम को लगा कि हसन की गाड़ी का भी इस मकसद से इस्तेमाल हुआ होगा। टीम मोटर वीइकल ऐक्ट के तहत काटे जाने वाले चालान और दूसरे अपराधों में अंतर नहीं कर पाई और आईपीसी की धारा के बजाय मोटर वीइकल ऐक्ट के तहत चालान काट दिया।

पुलिस ने देखा कि बैलगाड़ी के आस-पास कोई मौजूद नहीं है। ग्रामीणों से पूछने पर पता लगा कि बैलगाड़ी हसन की है। पुलिस बैलगाड़ी लेकर हसन के घर गई और अबीमाकृत वाहन को चलाने वाले मोटर वीइकल ऐक्ट के सेक्शन 81 के तहत 1 हजार रुपये का चालान थमा दिया।

मालिक रियाज हसन ने शनिवार को अपने खेत के बगल में बैलगाड़ी खड़ी की थी। इतने में सब इंस्पेक्टर पंकज कुमार के नेतृत्व में एक पुलिस टीम वहां आ पहुंची जो उस इलाके में पट्रोलिंग कर रही थी। हसन ने कहा, मेरा चालान कैसे कट सकता है जब मैंने अपने ही खेत के बाहर अपना वाहन खड़ा किया था। उन्होंने मोटर वीइकल ऐक्ट के तहत मेरी बैलगाड़ी का चालान कैसे काट दिया ? इसके बाद रविवार को उनका चालान रद्द कर दिया गया।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।