Jan Sandesh Online hindi news website

300 से अधिक यौन शोषण के शिकार बच्चों को नाइजीरियाई पुलिस ने इस्लामिक स्कूल से बचाया

0
Share

उत्तरी नाइजीरिया में पुलिस ने छापेमारी की और एक इस्लामिक बोर्डिंग स्कूल में बंधक बना कर यौन उत्पीड़न का सामना रहे 300 से अधिक बच्चों को मुक्त कराया। एक महीने में छापेमारी कर 300 से अधिक बच्चों को ऐसे संस्थान से मुक्त कराने की यह दूसरी घटना है। कैटसिना राज्य के दौरा क्षेत्र में रविवार को कुछ छात्र छात्रावास से भाग कर सड़क पर प्रदर्शन करने लगे थे। इसके बाद पुलिस ने स्कूल में छापा मारकर छात्रों को मुक्त कराया।

जंजीरों से बांधकर रखा गया था बच्चों को

कैटसिना पुलिस प्रमुख सानुसी बुबा ने पत्रकारों को बताया कि छात्रों को बंधक बना कर उत्पीड़ित किया जाता था। इन छात्रों को जंजीरों से बांध कर रखा गया था। उन्होंने बताया, ‘हमें जानकारी मिली कि यहां 300 से अधिक छात्र हैं जिन्हें कई प्रकार से यातनाएं दी जा रही थी। अमानवीय व्यवहार की वजह से कुछ छात्र रविवार को निकल भागे और विरोध किया। लगभग 60 छात्र वहीं रह गए।’

और पढ़ें
1 of 379

शिक्षकों पर यौन उत्पीड़न का लगाया आरोप
बुबा ने बताया कि इस स्कूल की स्थापना 78 वर्षीय उलेमा बेलो माय अल्माजीराई ने 40 साल पहले की थी। बाद में उन्होंने स्कूल का प्रबंधन अपने बेटे को सौंप दिया। इस स्कूल में बच्चों को उनके माता-पिता कुरान सीखने और नशामुक्ति के लिए भेजते थे। दौरा राजधानी से 70 किमी दूर और नाइजर की सीमा के पास स्थित है। बुबा के बताया कि छात्रों को अमानवीय ढंग से रखा जाता था। कुछ छात्रों ने खुलासा किया कि उनके शिक्षक उनका यौन उत्पीड़न भी करते थे।

पिछले महीने भी पुलिस ने कई छात्रों को मुक्त कराया था

पुलिस ने छात्रों को उनके घर पहुंचाने का आश्वासन दिया है। पिछले महीने पुलिस ने एक ऐसे ही स्कूल से, इसी तरह के उत्पीड़न का सामना कर रहे 300 से अधिक छात्रों को मुक्त कराया था। उत्तरी नाइजीरिया में नशीली दवाओं के उपयोग और पुनर्वास सुविधाओं की कमी के कारण माता-पिता अपने बच्चों को अनौपचारिक सुधारवादी इस्लामी स्कूलों में भेजते हैं। छात्रों को अक्सर ऐसे स्कूलों में उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है।

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।
%d bloggers like this: