Jan Sandesh Online hindi news website

अमेज़न का उपभोक्ता कारोबार ओरेकल की बजाय अपनी वेब सर्विस पर

0
Share

सिएटल। अमेज़न ने ऐलान किया है कि उसने ओरेकल के डाटाबेस का इस्तेमाल पूरी तरह से बंद कर दिया है और अपने उपभोक्ता कारोबार को पूरी तरह से अपने खुद के डाटाबेस यानी एडब्लूएस (अमेज़न वेब सíवस) से चलाना शुरू कर दिया है। इस ऐलान के बाद क्लाउड सíवस के क्षेत्र की इन दोनों दिग्गज कंपनियों के बीच चल रहे कारोबारी संघर्ष के समाप्त हो जाने की उम्मीद है।

और पढ़ें
1 of 169

अमेज़न के क्लाउड कंप्यूटिंग विभाग यानी एडब्लूएस के प्रमुख जेफ बार ने कहा कि कंपनी को ये घोषणा करते हुए खुशी है कि डाटाबेस हटाने का काम पूरा कर लिया गया है और अमेज़न का उपभोक्ता कारोबार अब पूरी तरह ओरेकल से हटाया जा चुका है। अमेज़न ने सोमवार को देर रात यह घोषणा की।

कंपनी ने बताया कि उसने लगभग 75 पेटाबाइट डाटा ट्रांस्फर किया है। पहले ये डाटा ओरेकल के करीब 7500 अलग-अलग डाटाबेस में था लेकिन इसे अब वहां से हटाकर एडब्लूएस डाटाबेस सíवसेज़ में शिफ्ट कर लिया गया है। इनमें अमेज़न डायनमो डीबी, अमेज़न औरोरा, अमेज़न रिलेशनल सíवस और अमेज़न रेडशिफ्ट शामिल हैं।

बार ने बताया कि ओरेकल पर जो भी अमेज़न के स्वामत्वि का डाटा था वो सेवाओं में बिना किसी रुकावट के, अपने डाटाबेस में ट्रांसफर कर लिया गया है। इसमें अमेज़न में खरीद-फरोख्त, कैटेलॉग मैनेजमेंट, ऑर्डर पूरा करने, लेखा और वीडियो स्ट्रीमिंग से संबंधित डाटा भी शामिल है।

पिछले कुछ समय से अमेज़न के उपभोक्ता कारोबार के डाटाबेस को लेकर ओरेकल और एडब्लूएस के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच तनाव काफी बढ़ गया था। एडब्लूएस के सीईओ ऐंडी जैसी ने पिछले नंवबर में ही कह दिया था कि अमेज़न अगले साल यानी 2019 के अंत तक ओरेकल के डाटाबेस से अपना पूरा स्टोरेज हटा लेगा और इसे अपने खुद के डाटाबेस पर ले जाएगा।

बार ने कहा कि समय के साथ अमेज़न ने भी ये महसूस किया कि ओरेकल के हजारों डाटाबेस के प्रबंध में काफी अधिक समय लग जाता है।

अमेज़न के उपभोक्ता कारोबार के इस डाटा ट्रांस्फर में सौ से अधिक टीमों ने काम किया। इनमें कई आंतरिक टीमों के अलावा एलेक्सा, अमेज़न प्राइम, अमेज़न प्राइम वीडियो, अमेज़न फ्रेश, किंडले, अमेज़न म्यूज़िक, ऑडिबिल, शॉपबॉप, ट्विच एंड जैपोज़ भी शामिल थीं।

अमेज़न के मुताबिक डाटाबेस के इस ट्रांसफर से लागत में कमी, कार्यकुशलता में वृद्धि और प्रशासनिक दिक्कतों से छुटकारा जैसे फायदे मिलेंगे।

बार ने बताया कि इस ट्रांसफर के बाद से डाटाबेस की हमारी लागत में 60 फीसदी से अधिक की कमी आई है। दूसरे और क्लाइंट जो एडब्लूएस के डाटाबेस पर हैं, उनका भी कहना है कि उन्हें एडब्लूएस पर शिफ्ट होने से लागत में 90 फीसदी की कमी आई है। इसके अलावा उपभोक्ताओं को अमेज़न के ऐप में लगने वाले समय भी 40 फीसदी घट गया है और डाटाबेस के मैनेजमेंट पर लगने वाली लागत में भी 70 फीसदी कमी आई है।

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।
%d bloggers like this: