Jan Sandesh Online hindi news website

कामयाबी की चाहत और संघर्ष

0

वशिष्ठ चौबे

कामयाबी की चाहत तो सभी करते हैं, किन्तु कामयाबी को पाने के लिए संघर्ष हर कोई नही करना चाहता। संघर्ष से भागते हैं, डरते हैं, कतराते हैं। सफलता सबको आकर्षित तो सभी को करती है, लेकिन उस सफलता की प्राप्ति के लिए किए जाने वाले संघर्ष को कोई नहीं देखता, न ही उसकी और आकर्षित होता है। जबकि सफलता तक पहुँचने की वास्तविक कड़ी है, तो वह संघर्ष ही है। क्योंकि जीवन में अगर संघर्ष न हों, चुनौतियाँ न हों तो मनुष्य के व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास नहीं हो पाता। प्रखर और प्रतिभाशाली बनने के लिए संघर्ष और चुनौतियों को हर कदम पर स्वीकार करते हुए आगे बढ़ना ही पड़ता है।

और पढ़ें
1 of 52

पिछले लेख में भी चर्चा कर चुके हैं कि जीवन संघर्ष का ही दूसरा नाम है। आर्थत संघर्ष ही जीवन है। इस सृष्टि में छोटे-से-छोटे प्राणी से लेकर बड़े-से-बड़े प्राणी तक, सभी किसी-न-किसी रूप में संघर्षरत हैं। जीवन में संघर्ष है प्रकृति के साथ, स्वयं के साथ, परिस्थितियों के साथ। किन्तु जो संघर्षों का सामना करने से कतराते हैं, वे जीवन से भी हार जाते हैं, जीवन भी उनका साथ नहीं देता। जिसने संघर्ष करना छोड़ दिया, वह मृतप्राय हो गया।

संघर्ष जीवन को निखारते हैं, संवारते व तराशते हैं और गढ़कर कोयले को भी हीरा बना देते हैं। संघर्ष हमें जीवन का वास्तविक अनुभव कराते हैं। सतत सक्रिय बनाते हैं। हमें जीना सिखाते हैं। जीवन को निखारते हैं। संघर्ष का दामन थामकर न केवल हम आगे बढ़ते हैं, बल्कि जीवन जीने के सही अंदाज़ को – आनंद को अनुभव कर पाते हैं। जिस जीवन में संघर्ष नहीं, वहाँ प्रसन्नता व आनंद भी नहीं टिक पाता। वहां सफलता कभी अपने कदम भी नही रखती। जिस तरह नदी के प्रवाह के सतत संपर्क में रहने से पत्थर के आकार में धीरे-धीरे परिवर्तन हो जाता है, और वह कभी इतनी सुंदर आकृति प्राप्त कर लेता है, कि पूजनीय हो जाता है।

इसी तरह हमारा जीवन भी संघर्ष की तपिश से निखरता है, ऊँचा उठता है, मनोवांछित लक्ष्य को प्राप्त करता है। संघर्ष की लगन ही व्यक्ति की गति को थमने नहीं देती। सफलता की इमारत संघर्ष की नींव पर ही खड़ी होती है। संघर्ष आशा की किरण को टूटने नहीं देता, बल्कि उत्साह, उमंग को निरंतर बनाये रखता है। संघर्ष के बल पर ही अभावों के अंधेरों के बीच, सफलता की रोशन राहें निकलती हैं। इसलिए कभी भी संघर्ष से डरे नहीं। संघर्ष से भागें नहीं। संघर्ष से कतराएं नहीं। बल्कि डटकर संघर्ष करें। भिड़कर संघर्ष करें और पूरी ऊर्जा के साथ संघर्ष करें।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: