Jan Sandesh Online hindi news website

Viral Video : ऑटो वाले किराये में ले रहे रूपये की जगह प्याज, होटल में टेबलों से चोरी हो रही प्याज

0

नई दिल्ली। देश में प्याज की कुल उपज का करीब 30 प्रतिशत हिस्सा महाराष्ट्र का है। बेमौसम बारिश के कारण प्याज की उपज पर इस साल बहुत बुरा असर पड़ा। लिहाजा प्याज की कीमते आसमान छूने लगीं। पिछले तीन महीने से ज्यादा समय से लगातार बढ़ रही प्याज की कीमतों को लेकर सड़क से लेकर संसद तक हंगामा मचा हुआ है।

अब लगभग 150 रुपए किलो प्याज के दाम पहुंच गए है। सरकार इस पूरे मसले पर कदम उठान की बात कर रही है, लेकिन अभी दूर-दूर तक इसकी बढ़ती कीमतों से राहत मिलने के आसार नहीं दिख रहे हैं। इस बीच प्याज की कीमतों को लेकर सोशल मीडिया में भी कई तरह से लोग रिएक्ट कर रहे है।

और पढ़ें
1 of 141

प्याज की बढ़ी कीमत को लेकर सोशल मीडिया एक टिक टॉक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें यह दिखाया जा रहा है कि एक ऑटो वाला अपने एक ग्राहकों को छोड़ने आता है। जब ड्राइवर ने अपने कस्टमर से किराया मांगा तो उसने उसे रुपए देने की बजाय दो बड़ी बड़ी प्याज निकाली और उसे दे दिया।

आटो ड्राइवर को कुछ रुपए लौटाने थे इसलिए उसने भी उसी अंदाज में अपने पास रखी छोटी छोटी प्याज निकाली और गिनकर ग्राहक को लौटा दिया। इस वीडियो के माध्यम से यह बताने की कोशिश की जा रही है कि प्याज की कीमत आज इतनी बढ़ चुकी है कि आप आसानी से इसके द्वारा किसी भी प्रकार का लेन देन कर सकते है।

राजनीतिक दल प्याज को लेकर केंद्र सरकार को घेरे में ले रही है। वहीं इस मुद्दे पर केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने बुधवार को बताया कि देश में विदेश व्यापार की सबसे बड़ी कंपनी एमएमटीसी ने 4,000 टन प्याज तुर्की से आयात करने का नया ठेका दिया है। यह प्याज जनवरी के मध्य तक देश में आएगा। साथ ही, एमएमटीसी ने 15,000 टन प्याज मंगाने के तीन नए टेंडर जारी किए हैं।

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: