Jan Sandesh Online hindi news website

रेपो रेट में बदलाव नहीं करने के फैसले का RBI गवर्नर ने किया बचाव, बोले…

0

मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गुरुवार को आश्चर्यजनक रूप से रेपो रेट को अपरिवर्तित रखा, जिससे बाजार में बेचैनी पैदा हो गई। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने इस फैसले का बचाव किया और केंद्रीय बैंक के मुख्य उद्देश्य महंगाई व मूल्य नियंत्रण की याद दिलाई। यह मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) के अधिकांश सदस्यों के साथ-साथ गवर्नर के पूर्व के फैसले के विपरीत है।

और पढ़ें
1 of 411

लगातार छठी बार दर में कटौती की उम्मीदों की उपेक्षा करते हुए आरबीआई ने गुरुवार को घोषणा की कि रेपो रेट को अपरिवर्तित (5.15 फीसदी) रखा जाएगा। इस अप्रत्याशित फैसले को लेकर सभी में इसका कारण जानने की उत्सुकता पैदा हुई। घोषणा के बाद मीडिया से बातचीत में दास ने कहा कि वर्तमान में महंगाई की मार ज्यादा है, ऐसा व्यापक रूप से उच्च खाद्य महंगाई की वजह से है।

उन्होंने आगे कहा कि जनवरी-मार्च के दौरान खाद्य मुद्रास्फीति बहुत ज्यादा रहेगी, जिसने आरबीआई को दर में कटौती पर रोक लगाने के लिए प्रेरित किया। दास ने कहा कि वर्तमान में महंगाई ज्यादा है, जो खाद्य महंगाई की वजह से है। हमारा आंकलन बताता है कि चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में खाद्य महंगाई विशेष रूप से बहुत ज्यादा है और इसका संतुलन आगामी महीनों में कई कारकों पर निर्भर करता है। आरबीआई का मुख्य काम महंगाई पर नियंत्रण है।

कोर महंगाई के बारे में उन्होंने कहा कि इसके 4 फीसदी से नीचे रहने की संभावना है, जबकि कुछ कारकों, जिसमें टेलीकॉम टैरिफ व अन्य का भी इस पर असर पडऩे की संभावना है। दास ने यह भी कहा कि पिछली पांच एमपीसी बैठकों में 135 आधार अंकों बीपीएस की दर में कटौती के बावजूद, खुदरा ऋण में संचरण केवल 44 बीपीएस रहा है। उन्होंने कहा कि दरों में कटौती को कुछ और समय दिए जाने की जरूरत है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.