Jan Sandesh Online hindi news website

भाजपा सांसद ने प्याज को लेकर कांग्रेस पर कसा तंज, कही ये बड़ी बात

0

नई दिल्ली। भाजपा सांसद वीरेंद्र सिंह ने गुरुवार को लोकसभा में कृषि विषय पर चर्चा के दौरान प्याज के मसले को लेकर चर्चा विपक्षी सदस्यों पर तंज कसते हुए उनसे प्याज की बुवाई का सीजन पूछा। उन्होंने कहा, “अभी प्याज की चर्चा हुई। अधीर रंजन (कांग्रेस) और सौगत राय जी (तृणमूल कांग्रेस) से पूछिए कि प्याज कब बोया जाता है। रबी की फसल बोने का महीना चल रहा है, यदि माननीय सदस्य एक भी रबी फसल का नाम बता दें तो मैं इनका स्वागत करूंगा।”

चर्चा के दौरान बलिया से सांसद सिंह ने विपक्ष की आलोचना करते हुए सरकार के कार्यो की सराहना की। उन्होंने कहा कि इनके (कांग्रेस) नेता राहुल गांधी को किसी ने बताया है कि किसान की बात करने से उन्हें लोग किसान नेता मानने लगेंगे।

और पढ़ें
1 of 1,096

उन्होंने कहा, “किसान नेता नेता बनने के लिए सरदार वल्लभ भाई पटेल के रास्तों पर चलना होता है। किसान नेता बनने के लिए जो काम प्रधानमंत्री के नाते नरेंद्र भाई (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) कर रहे हैं, उस रास्ते पर चलना होता है। पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, जिस तरह किसानों के कार्यक्रमों के लिए दल का नेता होने के नाते जितना समाधान के रास्ते निकालते हैं, उस रास्ते पर चलना होता है।”

लोकसभा में नियम 193 के तहत चर्चा के दौरान वीरेंद्र सिंह ने जापान से सीख लेकर देश के किसानों के खेतों की जोत को ध्यान रखकर कृषि उपकरण बनाने की मांग की। उन्होंने कहा, “जापान में किसानों के पास औसतन ढाई एकड़ जमीन है और अमेरिका में साढ़े चार सौ एकड़। जापान ने अपने ढाई एकड़ भूमि के किसानों के लिए उसी के हिसाब से मशीन बनाई ताकि वे उनके काम आ सके। अमेरिका ने अपने साढ़े चार सौ एकड़ भूमि वाले किसानों के अनुसार मशीनें बनाई हैं।”

लोकसभा में नियम 193 के तहत कृषि विषय पर चर्चा के दौरान कई सांसदों ने हिस्सा लिया। इस दौरान केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी सदन में मौजूद थे।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.