Jan Sandesh Online hindi news website

विंटर वजाइना का स्थिति हो सकती है खतरनाक, जानें कारण और बचाव

0

विंटर वजाइना…सुनने में यह बड़ा ही अटपटा लगे, लेकिन सर्दियों में यह समस्या महिलाओं को अपनी गिरफ्त में ले सकती है। विंटर वजाइना एक ऐसी स्थिति होती है जिसमें फीमेल प्राइवेट पार्ट ड्राई हो जाता है, उसकी नमी पूरी तरह से खत्म हो जाती है।

NHS की दाई और एक नर्स ने किया था आगाह

हाल ही में नैशनल हेल्थ सर्विस की एक दाई और लंदन ब्रिज प्लास्टिक सर्जरी ऐंड अस्ठेटिक क्लिनिक की एक सीनियर क्लिनिकल नर्स ने विंटर वजाइना के प्रति महिलाओं को आगाह किया था।
और पढ़ें
1 of 78

ठंड का असर वजाइना पर भी

एक इंटरनैशनल वेबसाइट से बातचीत में उन्होंने कहा था कि सर्दियों में त्वचा काफी खुष्क हो जाती है उसके साथ-साथ होठ भी फटने लगते हैं। लेकिन ज्यादा ठंड का असर महिलाओं के प्राइवेट पार्ट पर भी पड़ता है। ठंड की वजह से वजाइना की नमी खत्म होने लगती है और वह ड्राई हो जाती है।

सेक्स के दौरान होता है दर्द

इससे न सिर्फ प्राइवेट पार्ट में दर्द होता है बल्कि यौन संबंध बनाने के दौरान भी मुश्किल आती है।

घंटों तक AC में रहने से भी पड़ता है असर

ज्यादा देर तक एसी वाली जगहों पर रहने या फिर अत्यधिक गर्मी में भी वजाइना की नमी खो सकती है।

विंटर वजाइना में ऐसे करें स्मूद सेक्स

नैशनल हेल्थ सर्विस के अनुसार, विंटर वजाइना की स्थिति से निजात पाने और सेक्स की प्रक्रिया को स्मूद करने के लिए कुछ लुब्रिकेंट्स का सहारा लिया जा सकता है। लेकिन ध्यान रहे कि लुब्रिकेंट्स सिंथेटिक न हों, नहीं तो इनसे वजाइना में जलन और खुजली हो सकची है।

विंटर वजाइना से बचाव

अगर इनसे भी कुछ फायदा न हो तो गाइनैकॉलजिस्ट से संपर्क करें। इसके अलावा रोजमर्रा के खान-पान में बदलाव करके भी इस गंभीर स्थिति से बचा जा सकता है। रोजाना हरी सब्जियां और फल खाएं।

साबुन या केमिकल युक्त क्लीनर को ‘ना’

प्राइवेट पार्ट में किसी साबुन या केमिकल युक्त क्लीनर के इस्तेमाल से बचें।

वजाइना के लिए ऐसी चीजें करें इस्तेमाल

ऐसे प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल करें जो क्लिनिकली टेस्ट किए गए हों और वे मुख्य रूप से प्राइवेट पार्ट के हाइजीन के लिए ही हों।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.