Jan Sandesh Online hindi news website

पीलीभीत वारिश व तेज हवाओं ने बड़ाई ठंड घरों में कैद हुए लोग काफी रास्ते हुए बन्द कीचड़ की बजह से

0
पीलीभीत गुरुवार की रात से गड़गड़ाते बादलों ने बरसना क्या शुरू किया ठंड से लोग ठिठुर उठे । हालात कुछ ऐसे बन गये कि अचानक मौसम के द्वारा ली गई करबट से लोग जहां घरों में कैद हो कर रह गये वहीं पशु पक्षी तक ठंड की ठिठुरन के चलते अलोप से हो गये । मौसम में हुये बदलाब और सर्दी की सिरहन को देख अधिकांश लोग अपने घरों में ही कैद हो गए।बच्चे स्कूल कॉलेजों में भी नही जा सके बच्चे । जल भराव व कीचड़ की दिक्कत भी बनी बड़ी समस्या।एक ओर किसानों को जहां वारिश से सुकून हुआ बहीं तेज हवाओं से फसलों को काफी नुकसान भी हुआ।
पीलीभीत वारिश व तेज हवाओं ने बड़ाई ठंड घरों में कैद हुए लोग काफी रास्ते हुए बन्द कीचड़ की बजह से
पीलीभीत वारिश व तेज हवाओं ने बड़ाई ठंड घरों में कैद हुए लोग काफी रास्ते हुए बन्द कीचड़ की बजह से
और पढ़ें
1 of 97
गुरुवार की रात में हुई वारिश से किसानों को काफी हद तक फायदा हुआ लेकिन शुक्रवार सुबह से शाम तक जारी बरसात से लोगों को नुकसान ही नुकसान है खल्ला खेती में पानी भर जाने से गेहूं की फसल डूब गई है उस पानी को किसानों को खेत से निकालना पड़ेगा नही तो सारी फसल नष्ट हो जाएगी । काफी इलाकों में जल भराव हो गया है।ठंड इतना बढ़ गयी है कि लोग घरों बाहर निकल ही नही रहे हैं ठिठुरन काफी बढ़ गयी है।

पहली बार ली सेल्फी यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने

 

अमरिया क्षेत्र में भट्टों पर अबैध खनन होने से इलाके के पक्के रास्ते भी कच्चे से बदतर हो गए हैं।ट्रैक्टर ट्रालियों के द्वारा मिट्टी की ढुलाई होती है जिससे मिट्टी रोडों पर गिरती है अब वर्षा होने से वह मिट्टी पूरे रोडों पर रबड़ी की तरह फैल गयी है जिसपर चलने बाले पैदल यात्री भी फिसल कर गिर रहे हैं और चोटिल हो रहे हैं और साइकिल सवार व बाइक सवार लोगों को बड़ी समस्या का सामना करना पड़ रहा है लेकिन प्रसासनिक मिली भगत के कारण    अबैध खनन बाले धड़ल्ले से अबैध खनन करते जा रहे हैं l
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.