Jan Sandesh Online hindi news website

झारखंड चुनाव: BJP के रघुवर दास सरकार की विदाई , हार के ये मुख्य कारण सामने आये !

0

रांची। झारखंड बनने के 20 साल होने वाले हैं। इस दौरान बीजेपी के रघुवर दास ऐसे पहले मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा किया। इसके बावजूद पहले एग्जिट पोल और अब चुनाव रुझान बता रहे हैं कि बीजेपी का दोबारा सत्ता में आना मुश्किल है। झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए पड़े वोटों की गिनती जारी है और रुझानों में हेमंत सोरेन की अगुआई वाला महागठबंधन 41 के जादुई आंकड़े को पार कर चुका है। अगर अंतिम नतीजे भी यही रहे तो महाराष्ट्र के बाद अब झारखंड में भी बीजेपी सत्ता से बाहर हो जाएगी। मार्च 2018 में 21 राज्यों में बीजेपी या उसके सहयोगियों की सरकार थी लेकिन दिसंबर 2019 आते-आते यह आंकड़ा सिमटकर 15 राज्यों तक पहुंचता दिख रहा है। पिछले एक साल में ही 4 राज्य बीजेपी से छिटक चुके हैं और झारखंड ऐसा 5वां राज्य बनने की ओर है।

रघुवर दास की घटती लोकप्रियता
2014 में जब झारखंड में बीजेपी की सरकार बनी तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता की लहर चल रही थी। मोदी के नाम पर देश के कई कोने में बीजेपी की सरकार बनी, झारखंड में उन्हीं में से एक था। चुनाव से पहले किसी को अंदाजा भी नहीं था कि बीजेपी की तरफ से मुख्यमंत्री कौन बनेगा। मोदी लहर पर सवार बीजेपी ने चुनाव में शानदार प्रदर्शन किया और रघुवर दास झारखंड के पहले गैर आदिवासी मुख्यमंत्री बने। इसके बाद रघुवर दास जनता से उस तरह जुड़ नहीं पाए जैसा जुड़ाव एक जननेता का होता है। अधिकारियों के साथ उनका तल्ख व्यवहार हो या स्थानीय लोगों से कटे रहना. जनता एक मुख्यमंत्री के तौर पर रघुवर दास को बहुत पसंद नहीं कर पाई. चुनाव आते-आते तो यह तल्खी और बढ़ गई। झारखंड में इस बार रघुवर दास के काम के आधार पर वोट मिले हैं, मोदी की लोकप्रियता पर नहीं. अपने पहले टेस्ट में रघुवर दास फेल होते नजर आ रहे हैं।

विपक्ष की एकता, बीजेपी के एकला चलो पर पड़ा भारी

2019 विधानसभा चुनावों में बीजेपी अकेले उतरी। उसने किसी दल से गठबंधन नहीं किया। वहीं विपक्ष में झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल ने मिलकर चुनाव लड़ा। विपक्ष में किसी किस्म का विवाद भी नजर नहीं आया। बहुत संगठित और योजनाबद्ध तरीके से विपक्ष ने अपनी लड़ाई लड़ी। वहीं बीजेपी का अंहकार उस पर भारी पड़ा। अभी तक आए रुझानों के मुताबिक बीजेपी अभी भी सबसे बड़ी पार्टी है लेकिन विपक्षी गठबंधन सत्ता के करीब जा पहुंचा है। इस लिहाज से कहा जा सकता है कि झारखंड की चुनावी रणनीति में बीजेपी पर विपक्ष बीस पड़ा है।

बॉलीवुड एक्ट्रेस Sana Saeed ने भी अपनी Hotness से सोशल मीडिया पर लगा दी आग, Bold तस्वीरें आपको भी कर देगा पागल!

और पढ़ें
1 of 311

लोकल मुद्दों की उपेक्षा से उपजी नाराजगी
झारखंड में कई महीनों तक पैरा टीचर्स हड़ताल पर रहे. इस दौरान सरकार का रवैया भी तानाशाही भरा था. हजारों शिक्षकों को जेल में ठूंस दिया गया। कईयों पर केस दर्ज हुए। रघुवर दास ने कहा कि हम हड़ताली शिक्षकों की जगह नए शिक्षक नियुक्त किए जाएंगे. इस दौरान सरकारी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था ठप्प रही. इसके अलावा आंगनबाड़ी सेविकाओं की हड़ताल हो या रसोईयों की, सरकार ने इन्हें संतुष्ट करने का कोई प्रयास नहीं किया. झारखंड में केंद्र की सारी योजनाएं लागू होती रहीं लेकिन राज्य विशेष के लिए कोई योजना नहीं बन पाई। इस वजह से झारखंड की जनता में निराशा का माहौल था।

शहरी वोटर की उदासीनता, ग्रामीण वोटर्स का सबक
झारखंड में 2019 लोकसभा चुनावों में शहरी इलाकों में मत प्रतिशत कम रहा जबिक ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों ने जमकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया. यह तथ्य किसी से छुपा नहीं है कि बीजेपी को शहरों में ज्यादा वोट मिलते हैं। इस बार शहरी वोटर्स में उदासीनता देखने को मिली। अब चुनाव के रुझानों और परिणामों में भी यहीं बात सामने आ रही है। इस बार लोकसभा चुनावों के मुकाबले भी लगभग पांच फीसदी वोट प्रतिशत में कमी आई है। जाहिर है जब वोट प्रतिशत गिरता है तो इससे जनता की वर्तमान सरकार से नाराजगी के तौर पर ही देखा जाता है।

UP: युवाओं, नए चेहरों पर जताया BJP ने भरोसा, 59 जिलाध्यक्ष नियुक्त

घटता रोजगार, ग्रामीण इलाकोें में बढ़ती भुखमरी
झारखंड से भूख से हुई मौतों की खबरें आईं जिसने देश को शर्मसार किया. मॉब लिंचिंग से लेकर चोटीकटवा के अफवाहों से भी लोगोें की मौत हुई। इन सबसे से ऊपर एनएसएसओ के सर्वे से जो बात सामने आई वो ज्यादा परेशान करने वाली है। यह रिपोर्ट कहती है कि ग्रामीण प्रदेशों में लोगों ने अपने खाद्य सामग्री पर भी खर्च करना कम कर दिया है। रोजगार का संकट देश में विकराल रूप ले चुका है। अर्थव्यवस्था की हालत चैपट है. इन सारी परिस्थितियों ने बीजेपी के खिलाफ माहौल बनाने का काम किया।

मोदी सरकार सिर्फ 15 से 20 उद्योगपतियों के लिए करती है काम- राहुल गांधी

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: