Jan Sandesh Online hindi news website

कुशीनगर मे सिर्फ कागज मे ही बाट दी कबंल और जला दी कई लाख रुपयो का अलाव

0
पडरौना,कुशीनगर : बढ़ती ठंड व शीतलहरी से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने गरीबों को कंबल वितरण का कार्य सिर्फ कागज से ही शुरू किया है। लगातार बढ़ रही ठंड के चलते अब ठिठुरन भरी सर्दी से बचाव के लिए गरीबों को कंबल देने की शुरुवात सिर्फ कागज मे ही कई लाखो का वारा न्यारा कर लिए गए हैं। हालाकी जिला प्रशासन के साथ पडरौना कस्बे के कई नीजी संस्था की टीम ने अपने ओर से कम्बल गरीबो मे वितरित किए है।
सुत्रो की माने तो कुशीनगर मे गरीबो मे बाटे जाने वाली आपदा बिभाग की ओर से कबंल बितरण मे लाखो रुपयो का गोल माल करके सिर्फ कागज मे ही कबंल बितरण हो गया है । जबकी अभी और गरीबो मे कबंल बितरण के लिए जिला प्रशासन मे सासन को पत्र लिखकर मांग की है।उधर इसी तरह के खेल आलाव जलाने के नाम पर भी लाखो रुपया का खेल सिर्फ पडरौना नगरपालिका मे कागज मे ही खेला जा रहा है ।
कागज मे ही जल गए  नगरपालिका पडरौना मे कई लाख रुपये की आलाव
भीषण ठंड व शीतलहर में जनपद का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जबकी नगरपालिका पडरौना प्रशासन ने अब तक कई लाखो का आलाव सिर्फ कागज मे ही जलवा रहा है। हकीकत यह की सोमवार को जब संवाददाता की ओर से किए गए आलाव जलने के मामले मे जांच पडताल मे शहर मे दिन मे तो कहीं भी अलाव नहीं जल रहा है।जबकी आलावे जलवाने के मामले मे यहा की पडरौना नगरपालिका प्रशासन का दावा झूठा साबित हो रहा है। उधर शहर के चौराहों पर ठंड से बचने के लिए लोग कागज का गत्ता व पुआल जलाकर शरीर गर्म कर रहे हैं।पडरौना शहर के सुबाष चौक,बेलवां चुगीं,तिलक चौक,अंबे चौक,बावली चौक, कठकुईया मोड आदि जगहों पर अलाव नहीं जलने से प्रशासन के प्रति लोगों में आक्रोश है।
सामाजिक व ब्यापारी ने मनोज मोदनवाल ने प्रशासन पर जनता के जानमाल के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाते हुए सुबह से लेकर रात तक अलाव जलाने की मांग की है। बेलवा चुंगी  चौराहा के व्यवसायी,मनोज चौरसिया,कठकुईया मोड स्थित भुजा बेचने वाले राजू मदेृशिया आदि का कहना है कि भीषण ठंड का प्रकोप चल रहा है। लेकिन प्रशासन द्वारा कभी कभार  अलाव जलवाया जा रहा है। ठंड से निजात पाने के लिए पुआल व गत्ता जला कर किसी तरह से ठंड से बचाव किया जा रहा है।
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.