Jan Sandesh Online hindi news website

दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल

0

दुनियाभर में कोरोना की बढ़ती रफ्तार के पीछे तबलीगी तमात और इसी तरह के दूसरी कट्टरपंथी संगठन जिम्मेदार हैं। तबलीगी जमात के कोरोना कनेक्शन पर बड़ा इंटरनेशनल खुलासा हुआ है। जमात की निगरानी करने वाले यूरोपीय देशों के हवाले से ये बात सामने आई है कि जमात से जुड़े लोग कई आतंकी गतिविधियों में सक्रिय हैं। दिल्ली के निजामुद्दीन में मरकज से कोरोना फैलाने वाले संगठन तबलीगी के बारे में अब पोल खुलती जा रही है। इस संगठन का आतंकी नेटवर्क से गहरे संबंध की रिपोर्ट अब सभी के सामने खुलने लगी है। अलकायेदा से लेकर हरकत-उल-मुजाहिदीन जैसे आतंकी संगठन के साथ इसके संबंध होने की रिपोर्ट्स सामने आ रही है।

 दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल
दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल

तबलीगी जमात के लोगों ने कई और देशों में फैलाया कोरोना
तबलीगी जमात के लोगों ने भारत ही नहीं कई और देशों में कोरोना कैरियर का काम किया। पाकिस्तान से लेकर मलेशिया तक की सरकारों ने इन जमातियों के सामने सरेंडर कर रखा है और यही वजह है इन देशों में लगातार कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। तबलीगी का मतलब है अल्लाह की बातों का प्रचार-प्रसार करना जमात का मतलब होता है समूह। यानी अल्लाह की कही बातों का प्रचार प्रसार करने वाले समूह को तबलीगी जमात कहते हैं लेकिन अब ये तबलीगी जमात कई देशों में कोरोना कैरियर बन गए हैं । पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लाहौर में 11 मार्च से 15 मार्च तक तबलीगी जमात का बहुत ही बड़ा जलसा हुआ था। करीब ढाई लाख लोगों ने हिस्सा लिया था।

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान के 60 अलग-अलग शहरों में 10 हजार जमाती कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं। इन जमातियों की तलाश के लिए 5200 टीमें बनाई गई हैं. इन्हें देशभर की मस्जिदों में भेजा गया है।यही नहीं लाहौर में हुए जलसे में 26 देशों के 4500 लोगों ने हिस्सा लिया था।

बता दें की तबलीगी जमात भारत में सभी अधिक कोरोना फैलाने वाला एक मात्र संगठन है जिसके जलसे में शामिल होने वाले 8000 से अधिक लोगों में से 10 की मृत्यु हो गयी और 40 से अधिक कोरोना पॉजिटिव पाये गए हैं। यह संख्या बढ़ती ही जा रहे हैं और यह सिर्फ दिल्ली तक सीमित नहीं है बल्कि पूरे भारत सहित विश्व के कई देशों में भी है।

तब्लीगी जमात का पाकिस्तान स्थित प्रतिबंधित आतंकी संगठनों जैसे हरकत-उल-मुजाहिदीन के साथ लंबे समय तक संबंध रहा है। Times Now की एक रिपोर्ट में पाकिस्तानी सुरक्षा विश्लेषकों और भारतीय पर्यवेक्षकों के अनुसार यह कहा गया है कि वर्ष 1999 में भारतीय एयरलाइंस फ्लाइट 814 के अपहरण के लिए जाना जाने वाला आतंकी समूह हरकत-उल-मुजाहिदीन के मूल संस्थापक तब्लीगी जमात का सदस्य था।

दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल
दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल

बता दें कि 1985 में हरकत-उल-जिहाद-अल-इस्लामी के एक किरच समूह के रूप में अफगानिस्तान में USSR के शासन को उखाड़ फेंकने के लिए सोवियत सेना के खिलाफ पाकिस्तान द्वारा समर्थित जिहाद में भाग लिया था। खुफिया पड़ताल के अनुसार, पाकिस्तान में  आतंकी शिविरों में 6,000 से अधिक तब्लीगियों को प्रशिक्षित किया गया था।

भारत के खुफिया अधिकारी और सुरक्षा विशेषज्ञ स्वर्गीय बी. रमन द्वारा लिखे गए एक लेख के अनुसार, पाकिस्तान और बांग्लादेश में तब्लीगी जमात के “हरकत उल मुजाहिदीन जैसे जिहादी आतंकवादी संगठनों के साथ समय-समय कनेक्शन सामने आए हैं।“ क्रूसेडर्स और यहूदी लोगों के खिलाफ ओसामा बिन लादेन द्वारा बनाया गया संगठन अंतरराष्ट्रीय इस्लामिक फ्रंट फॉर जिहाद में हरकत-उल-जिहाद-अल-इस्लामी, लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठन शामिल थे।

दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल
दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल

1990 के दशक के पाकिस्तानी अखबार की खबरों का हवाला देते हुए, रमन ने बताया कि हूडी जैसे जिहादी आतंकवादी संगठनों के प्रशिक्षित कैडरों ने तब्लीगी जमात के प्रचारकों के रूप में वीजा प्राप्त किया और युवा मुसलमानों को पाकिस्तान में आतंकी प्रशिक्षण के लिए भर्ती करने के लिए विदेश गए।

जमात के ‘ग्लोबल आतंकवाद’ के 10 सबूत!
1. तबलीगी जमात के कई सदस्यों पर आतंकी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है.
2. विदेशी ज़मीन से आतंकवाद फैलाने में शामिल होने के आरोप हैं.
3. पाकिस्तान और बांग्लादेश में भी जमात की शाखाएं हैं.
4. भारत के ख़िलाफ़ जेहाद और आतंकवाद की साज़िश रचने के आऱोप हैं.
5. अमेरिका पर 9/11 हमले में शामिल आतंकियों की जमात से लिंक की बात सामने आई है.
6. हरकत-उल-मुजाहिदीन का संस्थापक भी जमात का सदस्य था.
7. 1999 में मुजाहिदीन ने इंडियन एयरलाइंस का विमान हाइजैक किया था.
8. 1980-90 के दशक में 6 हज़ार जमातियों ने पाकिस्तान में आतंकी ट्रेनिंग ली.
9. लश्कर आतंकी हामिर मोहम्मद ने जमात सदस्य बनके पाकिस्तान का वीज़ा लिया.
10. 2005 में लंडन अंडरग्राउंड रेलवे ब्लास्ट में भी नाम आया था.

दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल
दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल
और पढ़ें
1 of 222

वर्ष 2011 में विकीलिक्स द्वारा जारी गुप्त अमेरिकी दस्तावेजों से यह भी बात सामने आई थी कि अलकायदा के कुछ एजेंटो ने जमात का इस्तेमाल अपनी पाकिस्तान की यात्रा के लिए वीजा और फंड हासिल करने के लिए किया था।

साथ ही यह बात भी सामने आई थी कि अल-कायदा के एजेंटो ने यात्रा दस्तावेजों के साथ-साथ आश्रय प्राप्त करने के लिए एक नई दिल्ली स्थित तब्लीगी जमात के ऑफिस मरकज का इस्तेमाल किया।

यही नहीं, स्ट्रैटफोर की भी तबलीगी जमात और ग्लोबल जिहाद के संबंध पर प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि जमात और शिया विरोधी संप्रदाय समूहों, कश्मीरी आतंकवादियों और तालिबान के बीच ‘अप्रत्यक्ष कनेक्शन’ का सबूत है।

विकीलिक्स में यह भी बात सामने आयी थी कि 11 जुलाई, 2006 को मुंबई में हुए आतंकवादी हमलों में तबलीगी जमात का भी कनेक्शन था। इस हमले में कम से कम 207 लोग मारे गए थे और 800 से अधिक घायल हुए थे।”

दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल
दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल

विकीलीक्स में खुलासा किया गया है कि उस एजेंटो को फिर नई दिल्ली में जमात तबलीगी के नेता से मिलवाया गया, जिसने उससे संगठन के लिए एक जीवन समर्पित करने के लिए कहा गया। यह कनेक्शन तबलीगी जमात के सदस्यों के इरादों और इस्लामिक जेहाद के नए रूप-स्वरूप के लिहाज से दुनिया भर के लिए बेहद खतरनाक संकेत दे रहा है।

यही नहीं 1 सितंबर 2008 को सोमालियाई मोहम्मद सोलिमन बर्रे पर प्रकाशित एक रिपोर्ट में धर्मांतरण करवाने वाली संस्था जमात तबलीगी की पहचान अलकायदा कवर स्टोरी के रूप में की गई थी। अलकायदा, तबलीगी जमात के सदस्यों की अंतर्राष्ट्रीय यात्रा को सुविधाजनक बनाने और फंड देने का काम करती है।

मलेशिया के राजनीतिक वैज्ञानिक फारिश नूर ने अपनी किताब Islam On Move में भी यही बाते कहीं हैं। इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व निदेशक और वर्तमान NSA अजीत डोभाल ने भी कहा कहा हैं कि,” इस संगठन में  Secretism की संस्कृति है, जो संदेह को विकसित करती है।”

जियोपॉलिटिकल इंटेलीजेंस प्लेटफॉर्म स्ट्रैटफोर ने तबलीगी जमात और उसके जिहादी अभियान पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि जमात और शिया विरोधी संप्रदाय समूहों, कश्मीरी आतंकवादियों और तालिबान के बीच ‘अप्रत्यक्ष कनेक्शन’ का सबूत है।

तबलिगी जमात और उसका आतंकवादी संगठनों से कनेक्शन कई बार तथ्यों के साथ सामने आया। जिसमें अक्टूबर 2002 पोर्टलैंड सेवन और सितंबर 2002 लाकवाना संयुक्त राज्य अमेरिका में छह मामले, साथ ही अगस्त 2006 में लंदन से अमेरिका जाने वाली फ्लाइट में बम रखने की साजिश है। साथ ही 7 जुलाई 2005 को लंदन भूमिगत बम विस्फोट और जुलाई 2007 में लंदन और ग्लासगो, स्कॉटलैंड में बम विस्फोट में भी तबलीगी जमात का नाम सामने आया था।

जिसके बाद कहा गया कि तबलीगी जमात संगठन इस्लामिक चरमपंथियों के लिए और नए सदस्यों की भर्ती के लिए अलकायदा जैसे समूहों के लिए एक वास्तविक समूह के रूप में कार्य करता है।

दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल
दुनिया भर में तबलीगी जमात कैसे चुपचाप वर्षों से ग्लोबल आतंकवाद से जुड़ी हुई है, अब कोरोना वायरस ने खोल दी तबलीगी जमात की पोल

एक और रिपोर्ट में यह कहती है कि 2017 के लंदन ब्रिज हमले में हमलावरों में से एक, यूसुफ जाग्बा को तबलीगी जमात से जुड़ा था। वहीं वर्ष 2005 में लंदन बम धमाकों को अंजाम देने वाले 7 आतंकवादियों के सरगना मोहम्मद सिद्दीकी खान और सहयोगी शहजाद तनवीर को भी तबलीगी जमात से जुड़ा पाया गया था।

नतीजतन, अब तब्लीगी जमात को ब्लैक लिस्ट किया गया और इसके प्रचारकों को वीजा से वंचित कर दिया गया। हालांकि, भारत में हर साल, कई देशों से हजारों तब्लीगी जमात के सदस्य स्वतंत्र रूप से कई राज्यों में यात्रा करते हैं और अपनी अभियोजन गतिविधियों का प्रदर्शन करते हैं। अब देखने वाली बात होगी की भारत सरकार अब इस संगठन को लेकर क्या कदम उठाती हैं। अब तो भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्वयं अजित डोभाल हैं जो इस संगठन के रग-रग से वाकिफ हैं।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.