Jan Sandesh Online hindi news website

मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी को सुरक्षाबलों मार गिराया, सुरंग से आता जाता था, वहीं बन गई कब्र

0
Share

कश्मीर का मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी और हिज्बुल मुजाहिदीन का टॉप कमांडर रियाज नायकू (riyaz naikoo) पुलवामा जिले के बेगपोरा में सुरक्षाबलों के साथ हुए एनकाउंटर (pulwama encounter) मारा गया है। आतंकी रियाज नायकू A++ कैटिगरी का आतंकी था। सेना को उसकी लंबे समय से तलाश थी और उसके ऊपर सेना ने 12 लाख रुपये का इनाम भी रखा था। सेना ने उसे ढेर करने के लिए खास प्लान बनाया। रियाज नायकू बहुत ही शातिर आतंकी था। बताया जा रहा है कि उसने अपने घर तक जाने-आने के लिए सुरंगे बना रखी थीं। इस बात की सूचना बहुत ही गिने-चुने लोगों को थी क्योंकि वह किसी पर भरोसा नहीं करता था। सेना ने विस्फोटक से वह घर उड़ा दिया और जो सुरंग उसने जान बचाने के लिए खोदी थी उसी में उसकी कब्र बन गई।

और पढ़ें
1 of 1,235

सेना इस मामले में कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी इसलिए मारे जाने के बाद भी रियाज की पहचान को लेकर पूरी आश्वस्त होना चाहते थे। इसलिए साढ़े पांच घंटे तक उसके पहचान करने में लगाए गए। सबसे पहले उसके शरीर के निशानों को देखा गया, फिर पुलिस ने, उसके बाद सीआरपीएफ ने, फिर सेना ने, उसके बाद आईबी ने और अंत में स्थानीय लोगों से उसकी पहचान कराई गई। उसके बाद रियाज के मारे जाने की सूचना बाहर आई।

सुबह 2 बजे एरिया की घेराबंदी की गई और आसपास के घरों से सभी सिविलियंस को सुरक्षित बाहर निकाला गया। कोई सिविलियन इसमें घायल नहीं हुआ। आतंकियों से मुठभेड़ सुबह 9.30 बजे शुरू हुई। चार घंटे तक लगातार फायर फाइट के बाद रियाज नायकू मारा गया। बेगपोरो में नायकू के साथ एक और आतंकी था, उसे भी सुरक्षा बलों ने मार गिराया। दो एके-47 और गोलाबारूद बरामद हुआ है।

गणित के टीचर से आतंकी बने रियाज अहमद नायकू (35 साल) ने पुलिस अफसरों के परिवार के लोगों का अपहरण और आतंकी के मरने पर बंदूकों से सलामी देने का चलन शुरू किया था। बताया जा रहा है कि नायकू अपनी बीमार मां को देखने आया था। इसी दौरान उसके घर पहुंचने की सूचना पुलिस को मिली।

सेना ने मकान को मंगलवार ही घेर लिया था लेकिन कोई फायरिंग नहीं हुई। सेना को उसके भाग जाने का अंदेशा हुआ। कुछ खुफिया लोगों ने उसके मकान से बनी सुरंगों के रास्ते भागने की बात कही तो सेना ने जेसीबी मंगवाई।

इलाके के आसपास खेतों और रेलवे ट्रैक की खुदाई की गई। यहां जमीन के भीतर सुरंगे ढूंढी गईं। देर रात सेना ने सर्च ऑपरेशन रोक दिया, लेकिन इलाके से घेराबंदी नहीं हटाई गई। आखिर नायकू को जब एहसास हुआ कि वह अब बचकर नहीं भाग सकता तो उसने सुबह लगभग नौ बजे फायरिंग शुरू कर दी।

फायरिंग होने के बाद सेना ने भी जवाबी फायरिंग की और फिर एनकाउंटर शुरू हो गया। आखिर दोपहर को नायकू मार गिराया गया। सूत्रों के मुताबिक, थोड़ी देर बाद ओवैस हिज्बी भी ढेर कर दिया गया।

सितंबर 2018 में भी सेना को नायकू के पुलवामा में अपने गांव आने की जानकारी मिली थी। नायकू का गांव अवंतिपुरा के बेगपोरा में है। तब सेना ने पूरे इलाके को छान डाला था। स्थानीय लोगों के मुताबिक बेगपुरा की जामिया मस्जिद के पास एक प्लॉट की जेसीबी से खुदाई भी की गई थी। इनपुट्स थे कि वह किसी सुरंग में छिपा हुआ था, लेकिन सेना को खाली हाथ लौटना पड़ा था। लेकिन इस बार नायकू सेना को चमका नहीं दे सका।

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।
%d bloggers like this: