Jan Sandesh Online hindi news website

सनसनीखेज खुलासा : तालिबान के पूर्व प्रवक्ता एहसानुल्लाह ने बताया- PAK कई हस्तियों की कराना चाहता था हत्या

0

इस्लामाबाद। आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने और आतंकियों को पालन-पोषण करने के मामले में पूरी दुनिया में बदनाम पाकिस्तान ( Pakistan ) की पोल एक बार फिर से खुल गई है। दरअसल, पाकिस्तान को लेकर एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है। यह खुलासा तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ( Tehreek-e-Taliban Pakistan ) और जमात-उल-अहरार ( Jamaat-ul-Ahrar ) का पूर्व प्रवक्ता एहसानुल्लाह एहसान ( Ehsanullah Ehsan ) ने किया है।

एहसानुल्लाह एहसान ने बताया है कि पाकिस्तान कई बड़ी हस्तियों की हत्या कराना चाहता था। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान चाहता था कि तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान कई बड़ी हस्तियों की हत्या कर दे। एहसानुल्लाह ने आगे खुलासा किया है कि जब मैं जेल में बंद था, तब पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों ने उसको पाकिस्तान के दुश्मनों को मारने को कहा था। हालांकि उसने पाकिस्तान के इस पेशकश को ठुकरा दिया। उन्होंने कहा कि वह किसी और युद्ध या प्रॉक्सी वॉर में शामिल नहीं होना चाहता था।

और पढ़ें
1 of 833

एहसानुल्लाह ने आगे यह भी खुलासा किया है कि जब उसने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों के इस पेशकश को ठुकरा दिया, उसपर तरह-तरह के दबाव बनाया गया, लेकिन उसने अपना फैसला नहीं बदला।मलाला यूसुफजई पर हमला करने का दोषी है एहसानुल्ला\r\nएहसानुल्लाह ने यह दावा किया कि पाकिस्तान ने एक लिस्ट उनको सौंपी थी, जिसमें उन सभी लोगों की नाम लिखा था, जिनको वे मारना चाहते थे। हालांकि एहसानुल्ला ने किसी एक भी हस्ति के नाम का खुलासा नहीं किया है।

आपको बता दें कि साल 2012 में मलाला यूसुफजई पर हमला करने और साल 2014 में पेशावर आर्मी स्कूल पर आतंकी हमले को अंजाम देने के मामले में एहसानुल्लाह को दोषी करार देते हुए जेल भेजा गया था। हालांकि वह इसी साल जेल से फरार हो गया। उसके बाद उसने एक ऑडियो क्लिप जारी करते हुए के जेल से भागने की बात बताई थी।

ऑडियो क्लिप में उसने कहा था, ‘अल्लाह की मदद से मैं 11 जनवरी, 2020 को सुरक्षा बलों की जेल से भागने में सफल रहा’। उसने पाकिस्तानी सेना पर वादे पूरा करने का आरोप लगाया था।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.