Jan Sandesh Online hindi news website

सुशांत की मौत ‘SUICIDE नहीं ‘प्लान्ड मर्डर’ है………?

0

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद सोशल मीडिया पर कई तरह की थिअरीज वायरल हो रही हैं। इतनी कम उम्र में सुशांत के मौत को गले लगा लेने की तमाम वजहें बताई जा रही हैं। कोई कह रहा है कि उन पर आउटसाइडर होने की वजह से दबाव था, तो काम की कमी को उनके इस दुनिया से जाने की वजह बता रहा है। हमने इनमें से कुछ वजहों की पड़ताल की।

सुशांत की मौत पर बॉलिवुड से लेकर सोशल मीडिया तक में फिल्म इंडस्ट्री में चलने वाले नेपोटिजम और खेमेबाजी पर बहस शुरू कर दी है। सोशल मीडिया पर इस बहस में अब सोनम कपूर, यशराज फिल्म्स, करण जौहर और सलमान खान जैसे स्टार्स के नामों की भी चर्चा हो रही है।

सुशांत सिंह राजपूत ने खुदकुशी क्यों की?

आखिर मीडिया किस सबूत को आधार मानकर सुसाइड मान रही है?

आत्महत्या के सम्भावना से इंकार नही किया जा सकता है लेकिन सुशांत राजपूत से सम्बंधित तीन लोगों ने पिछले 1 महीने में सुसाइड किया है?

sushant-singh-rajput suicide case

यह एक महज संयोग है कि मीडिया हाउस के द्वारा सिर्फ एक महिला पूर्व सेकेट्री की आत्महत्या को दिखाया जा रहा है जिससे प्रेम-मोहब्बत ब्लेममेलिंग इत्यादि का संदेह उतपन्न हो जबकि दो और लोगो ने भी आत्महत्या की है उसको क्यों छिपाया जा रहा है? क्या यह संयोग मात्र है ?

क्या सुशांत राजपूत से जुड़े उसके मित्र-सहयोगी एक ही समय मे फ्रस्टेशन में आ गए?

इन सब की मौत अप्राकृतिक रूप से हुई जिसे एक के बाद सुसाइड से जोड़ दिया गया?

इन एक के बाद एक हुई मौत क्या एक दूसरे से जुड़े नहीं हो सकते है?

सुशांत की मौत ने हम सबको झक-झोर कर रख दिया है। मगर कुछ लोग इस तरह से चला रहे हैं कि जिन लोगों का दिमाग कमजोर होता है, वे डिप्रेशन में आते हैं और सूइसाइड करते हैं। एक इंजीनियरिंग के इंट्रेंस एग्जाम रैंक होल्डर का दिमाग कमजोर कैसे हो सकता है? वह साफ कह रहे थे कि प्लीज मेरी फिल्में देखो, मेरा कोई गॉडफादर नहीं है, मुझे इंडस्ट्री से निकाल दिया जाएगा। क्या इस हादसे की कोई बुनियाद नहीं है। सुशांत सिंह राजपूत के लिए आप लिखते हैं वह साइकोटिक थे, न्यूरोटिक थे, अडिक्ट थे और बड़े स्टार्स की अडिक्शन तो बहुत क्यूट लगती है। तो यह सुइसाइड नहीं प्लान्ड मर्डर था। उन्होंने कहा तुम किसी काम के नहीं हो और वह मान गया और उन्होंने कहा तुम्हारा कुछ नहीं होगा, वह मान गया। दरअसल, वे चाहते ही हैं कि वे इतिहास लिखें कि सुशांत सिंह राजपूत कमजोर दिमाग का था। लेकिन वे यह नहीं बताएंगे सच्चाई क्या है।’

सुशांत की मौत में रिश्तेदारों को साजिश का शक

और पढ़ें
1 of 1,388
sushant-singh-rajput suicide case…

दिवंगत ऐक्टर सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदारों को यकीन ही नहीं हो रहा कि सुशांत ने आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया। पटना में सुशांत के अंकल ने सुशांत की एक्स मैनेजर दिशा सलियान का जिक्र करते हुए कहा कि सुशांत पर काफी प्रेशर डाला गया था, जिसकी जांच की जानी चाहिए। वहीं जन अधिकार पार्टी के मुखिया पप्पू यादव ने भी सुशांत की मौत की सीबीआई जांच की मांग की है।

बीजेपी सांसद ने आरोप लगाया कि ‘मुंबई में एक बड़ा सिंडिकेट चल रहा है। वहां भाई-भतीजावाद हावी है। जो कलाकार यदि जाना चाहते हैं जो उसको कोई माफियागिरी में, कोई दलाली में इस तरह से प्रताड़‍ित करने की कोशिश की जाती है कि वे आत्‍महत्‍या को मजबूर हो जाते हैं। मेरा पूर्वांचल के कलाकारों से अनुरोध है कि आप सरकार पर दबाव डालिए।’ उन्‍होंने महाराष्‍ट्र पुलिस से अपील की कि ‘जिन प्रोड्यूसर्स ने सुशांत सिंह राजपूत को बायकॉट किया था या उन्‍हें फिल्‍म से निकाला था, उन सबों के ऊपर एफआइर्आर करके आत्‍महत्‍या के लिए प्रेरित करने का केस चलाना चाहिए।’

अभिनव सिंह कश्यप ने बताया अपना अनुभव

अभिनव ने जो बताया, वो काफ़ी शॉकिंग है। उन्होंने बताया कि दूसरे प्रोडक्शन हाउसेज भी उन कलाकारों के साथ ऐसा ही व्यवहार करते हैं। उन्होंने कहा कि अंत में कई मजबूर कलाकारों को एस्कॉर्ट सर्विस या फिर वेश्यावृत्ति के धंधों की ओर रुख करना पड़ता है। बकौल अभिनव सिंह कश्यप, बॉलीवुड में कई पुरुष एस्कॉर्ट्स भी हैं, जिनका इस्तेमाल अमीर और प्रभावशाली हस्तियों के अभिमान और यौन भूख मिटाने के लिए किया जाता है।

अभिनव सिंह कश्यप के अनुसार, वो भी धमकियों और जबरदस्ती कॉन्ट्रैक्ट साइन कराने जैसी हरकतों का सामना कर चुके हैं। उदाहरण स्वरूप उन्होंने ‘दबंग’ की शूटिंग के समय अरबाज खान द्वारा उनके साथ किए गए व्यवहार की बात की। अभिनव ने आरोप लगाया कि अरबाज खान और सलमान खान उनके करियर को अपनी मुट्ठी में रखना चाहते थे, इसलिए उन्होंने ‘दबंग 2’ का निर्देशन करने से इनकार कर दिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि अरबाज खान अष्टविनायक फिल्म्स के मुखिया राज मेहता को कॉल कर के उनके अगले प्रोजेक्ट को रुकवा दिया। इसके बाद वो वायकम पिक्चर्स के साथ जुड़े लेकिन वहाँ सोहैल खान ने इसके सीईओ विक्रम मल्होत्रा को फोन कर के ये प्रोजेक्ट भी रुकवा दिया। बकौल अभिनव, उन्हें न सिर्फ़ 7 करोड़ रुपए का साइनिंग अमाउंट वापस करना पड़ा बल्कि 90 लाख रुपए अतिरिक्त ब्याज के रूप में भी देने पड़े।

अभिनव बताते हैं कि उन्हें रिलायंस एंटरटेनमेंट ने बचा तो लिया लेकिन ‘बेशरम’ को लेकर इतना नकारात्मक प्रचार अभियान चलाया गया कि वो फ्लॉप हो जाए। इसके बाद फिल्म के सैटेलाइट राइट्स न बिकने देने की कोशिश की गई लेकिन रिलायंस और Zee के बीच किसी तरह डील हो गई। उन्होंने बताया कि उन्हें लगातार धमकियाँ मिल रही हैं और उनके परिवार के महिला सदस्यों को बलात्कार की धमकी मिलती है।

उन्होंने कहा कि पुलिस ने भी जाँच करने से इनकार कर दिया और जाँच हुई भी तो निष्कर्ष नहीं निकल पाया कुछ। उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ ये सब अभी भी चालू है, वो लड़ रहे हैं। बाद में कई लोगों ने अभिनव के स्वास्थ्य और स्थिति को लेकर चिंता जाहिर की, जिसके बाद उन्होंने एक अन्य फेसबुक पोस्ट लिख कर बताया कि वो बिलकुल ठीक हैं। उन्होंने विवेक ओबेरॉय और कंगना रनौत का समर्थन किया।

सुशांत सिंह राजपूत के अंतिम संस्कार में भाग लेने के बाद विवेक ओबेरॉय ने कहा कि जब उन्होंने सुशांत के पिता को अपने बेटे की चिता को अग्नि देते हुए देखा तो उनकी आँखों में जो दर्द झलक रहा था वो बर्दाश्त के बाहर था। विवेक ने लिखा, “मैंने सुशांत की बहन को रोते देखा और उसे वापस आ जाने के लिए कहते देखा तो मैं बता नहीं सकता कि मुझे अपने मन में कैसा अनुभव हुआ। काश मैं सुशांत को अपने अनुभवों के बारे में बता पाता।“

वहीं कंगना ने करीब दो मिनट का वीडियो जारी कर बॉलीवुड इंडस्ट्री से सवाल पूछा है कि सुशांत की मौत आत्महत्या थी या प्लान्ड मर्डर? कंगना ने लिखा, “सुशांत सिंह की मौत ने हम सबको झकझोर के रख दिया है। लेकिन वे लोग, जो इस चीज में माहिर हैं कि कैसे समानांतर नैरेटिव चलाया जाए, वो ये कहने लगे हैं कि जिनका दिमाग कमजोर होता है, वे डिप्रेशन में आते हैं और सुसाइड कर लेते हैं।”

 

 

 

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: