Jan Sandesh Online hindi news website

फिर बढ़ी नवाज शरीफ की मुश्किलें, 34 साल पुराना भ्रष्टाचार का एक और मामला किया गया दर्ज

0

लाहौर। पाकिस्तान के भ्रष्टाचार रोधी निकाय ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और तीन अन्य के खिलाफ भ्रष्टाचार का एक और मामला दर्ज किया है। यह केस 34 साल पहले पंजाब प्रांत में भूमि के अवैध आवंटन से जुड़ा है। बता दें कि चिकित्सा उपचार के लिए लंदन में रह रहे 70 वर्षीय शरीफ के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट भी जारी किया गया है। साथ ही किसी भी समन का जवाब नहीं देने पर राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने शरीफ को भगोड़ा घोषित करने के लिए भ्रष्टाचार निरोधक अदालत का दरवाजा खटखटाया है।

और पढ़ें
1 of 391

लाहौर में 54 कनाल भूमि आवंटित की गई थी

एनएबी द्वारा दायर मामले में जिन तीन अन्य लोगों को आरोपी बनाया गया है उनमें जंग/जियो मीडिया समूह के मालिक मीर शकीलुर रहमान, लाहौर विकास प्राधिकरण (एलडीए) के निदेशक हुमायूं फैज रसूल और पूर्व निदेशक (भूमि) मियां बशीर हैं। ऐसा आरोप है कि 1986 में जब शरीफ पंजाब के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने नियमों को धता बताकर मीर शकीलुर रहमान को लाहौर में 54 कनाल भूमि आवंटित की। रहमान को 12 मार्च को एनएबी ने गिरफ्तार किया था, जिसके बाद से वह न्यायिक रिमांड पर हैं। शरीफ और एलडीए के दो अधिकारियों पर नियमों का उल्लंघन कर रहमान को नहर के निकट की कीमती जमीन आवंटित करने के लिए पद का दुरुपयोग करने का आरोप है।

इलाज के लिए विदेश जाने की मिली थी अनुमिति

तीन बार प्रधानमंत्री रह चुके शरीफ नवंबर में लंदन गए थे। लाहौर हाईकोर्ट ने उन्हें इलाज के लिए चार सप्ताह के लिए विदेश जाने की अनुमति दी थी। उन्हें अज- अजीजिया मिल्स भ्रष्टाचार मामले में जमानत दे दी गई थी, जिसमें वह कोट लखपत जेल में सात साल की जेल की सजा काट रहे थे। उन्हें विदेश जाने के लिए मनी लांड्रिंग के एक मामले में भी जमानत दी गई थी।

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।
%d bloggers like this: