Jan Sandesh Online hindi news website

संशय बरक़रार कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पायलट के शामिल होने पर

0

नई दिल्ली/ जयपुर। राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच आज एक बार फिर कांग्रेस ने विधायक दल की बैठक बुलाई है। सचिन पायलट समेत उनके समर्थक विधायकों को बैठक में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है। इस बैठक के बाद पायलट का भविष्य तय हो सकता है। समाचार एजेंसी एएनआइ ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी समेत अन्य नेताओं ने पायलट से कई बार बात की है, लेकिन काफी कम संभावना है कि वह बैठक में शामिल होंगे। एएनआइ ने यह भी जानकारी दी कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक सचिन पायलट को संदेश भेजने के लिए बार-बार आयोजित की जा रही है कि अभी भी उनके पास लौटने का समय है। आगे की कार्रवाई को लेकर आज की बैठक के बाद निर्णय लिया जाएगा।

वहीं राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने समाचार एजेंसी एएनआइ से कहा है, ‘ हम सचिन पायलट को दूसरा मौका दे रहे हैं, उनसे आज की सीएलपी बैठक में शामिल होने के लिए कहा गया है। आशा है कि आज सभी विधायक आएंगे और नेतृत्व के साथ एकजुटता दिखाएंगे, जिसके लिए राजस्थान के लोगों ने मतदान किया। हम सभी राज्य के विकास के लिए काम करना चाहते हैं।’

गौरतलब है कि सोमवार को सीएम अशोक गहलोत के निवास पर विधायक दल की बैठक हुई थी। बैठक के बाद विधायकों को रिजॉर्ट भेज दिया गया था। पार्टी नेताओं ने दावा किया कि इस बैठक में 122 विधायकों में से 106 शामिल हुए। हालांकि, पायलट समर्थकों ने दावे को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा है कि बहुमत विधानसभा में साबित होता है, सीएम आवास पर नहीं। समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार  कल हुई बैठक में पायलट और 18 विधायक शामिल नहीं हुए। सचिन पायलट ने रविवार को 30 कांग्रेस विधायकों और कुछ निर्दलीय के समर्थन का दावा किया था।

LIVE Rajasthan Political Crisis

पायलट खेमे ने वीडियो जारी किया

और पढ़ें
1 of 1,675

सचिन पायलट के खेमे ने सोमवार को एक वीडियो जारी किया। इस वीडियो में 16 विधायक एक साथ बैठे दिखाई दे रहे हैं। यह वाक्या कांग्रेस विधायक दल की बैठक के कुछ घंटों बाद का है। इस 10 सेकंड के वीडियो को देर रात पायलट के आधिकारिक व्हाट्सएप ग्रुप पर शेयर किया गया। समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार वीडियो में, कम से कम 16 विधायक एक साथ बैठे दिखाई दे रहे हैं। हालांकि, वीडियो में पायलट नजर नहीं आ रहे है। वीडियो में छह अन्य लोगों को देखा जा सकता है, लेकिन उनकी पहचान नहीं हो सकी है। वीडियो में दिख रहे कुछ विधायकों में इंद्रराज गुर्जर, मुकेश भाकर, हरीश मीणा हैं। पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने वीडियो को कैप्शन के साथ ‘परिवार’ के साथ ट्वीट किया। वहीं लाडनू से विधायक मुकेश भाकर ने ट्वीट कर कहा, ‘कांग्रेस में निष्ठा का मतलब अशोक गहलोत की गुलामी है। यह हमें स्वीकार्य नहीं है।’

राजस्थान के कैबिनेट मंत्री बीडी कल्ला और कांग्रेस विधायक रामनारायण मीणा, हाकम अली और गोपाल मीणा जयपुर के फेयरमोंट होटल में कसरत करते नजर आए। कल सीएम अशोक गहलोत के आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद विधायकों को होटल में ठहरने के लिए भेज दिया गया था।

राजस्थान विधानसभा में दो विधायकों वाली भारतीय ट्राइबल पार्टी (BTP) ने अपने विधायकों को तटस्थ रहने और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत या उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट किसी का भी समर्थन न करने को कहा है। इसके अलावा बीटीपी ने अपने विधायकों से राज्य में चल रहे राजनीतिक संकट के दौरान न तो कांग्रेस और न ही भाजपा का साथ देने को कहा है। बीटीपी अध्यक्ष महेशभाई वसावा ने दोनों विधायकों को व्हिप जारी किया। हालांकि, गहलोत खेमा बीटीपी विधायकों को सरकार का समर्थक मानता है। बीटीपी के एक विधायक ने भी कहा है कि सरकार को समर्थन जारी रहेगा।

पायलट के करीबी सूत्रों ने भाजपा में शामिल होने की संभावना से किया इनकार 

समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार पायलट के करीबी सूत्रों ने उनके भाजपा में शामिल होने की संभावना से इनकार किया है। 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा में, फिलहाल कांग्रेस के 107  और भाजपा 72 विधायक हैं। सत्तारूढ़ दल को 13 निर्दलीय विधायकों, सीपीएम और भारतीय ट्राइबल पार्टी (BTP) के दो-दो विधायकों, और एक राष्ट्रीय लोक दल के विधायक का समर्थन प्राप्त है।

राहुल और प्रियंका समेत कांग्रेस के कई नेता पायलट के संपर्क में

जनाकारी के अनुसार पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पायलट के संपर्क में हैं। इनके अलावा अहमद पटेल, पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम और एआइसीसी के महासचिव केसी वेणुगोपाल की भी पायलट के साथ बातचीत हुई है।

You might also like
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: