Jan Sandesh Online hindi news website

परीक्षा हुई 209 विश्वविद्यालयों में, 394 कर रहे हैं तैयारी : रमेश पोखरियाल निशंक

0

नई दिल्ली। परीक्षाओं को लेकर 818 विश्वविद्यालयों ने यूजीसी को अपना जवाब भेजा है। अपने जवाब में देशभर के 209 विश्वविद्यालयों ने बताया कि वे अपने संस्थानों में यूजीसी के दिशा निर्देश अनुसार परीक्षाएं सफलतापूर्वक पूरी करवा चुके हैं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए देशभर के विभिन्न विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों में होने वाली सेमेस्टर परीक्षाओं के लिए यूजीसी द्वारा 30 सितंबर तक का समय दिया गया है।

यूजीसी ने गुरुवार को जानकारी देते हुए कहा कि विश्वविद्यालयों की परीक्षा के लिए 6 जुलाई को पुन: निर्धारित किए गए दिशा-निर्देशों पर 818 विश्वविद्यालयों ने अपना जवाब दिया है। इनमें 121 डीम्ड यूनिवर्सिटी, 291 प्राइवेट यूनिवर्सिटी, 51 केंद्रीय विश्वविद्यालय एवं 355 राज्य विश्वविद्यालय शामिल हैं।

यूजीसी के मुताबिक, अपने जवाब में 209 विश्वविद्यालयों ने बताया कि उन्होंने ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन माध्यमों से कॉलेजों की परीक्षाएं करवा ली हैं। वहीं 394 विभिन्न विश्वविद्यालय अगस्त और सितंबर में ऑनलाइन, ऑफलाइन एवं मिश्रित संसाधनों से परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं।

और पढ़ें
1 of 3,374

कई विश्वविद्यालय ऐसे भी हैं जो अभी तक यह तय नहीं कर सके हैं कि वे परीक्षाएं कब और कैसे आयोजित करेंगे। ऐसे विश्वविद्यालयों की संख्या 215 है।

35 ऐसे नए विश्वविद्यालय हैं जिनकी स्थापना इसी वर्ष हुई है और वहां अभी परीक्षाओं के लिए पहला बैच तैयार नहीं हो सका है।

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय एवं यूजीसी का मानना है कि प्रत्येक क्षेत्र एवं राज्य की परिस्थितियों के अनुसार यह परीक्षाएं ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन करवाई जा सकती हैं। यूजीसी ने इस बारे में सभी विश्वविद्यालयों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए हैं।

यदि विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षा में टर्मिनल सेमेस्टर अंतिम वर्ष का कोई भी विद्यार्थी-उपस्थित होने में असमर्थ रहता है, चाहे जो भी कारण रहा हो, तो उसे ऐसे पाठ्यक्रमों एवं प्रश्नपत्रों के लिए विशेष परीक्षाओं में बैठने का अवसर दिया जा सकता है।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कोविड-19 स्थिति के कारण किए जाने वाले पूर्वोपायों के साथ परीक्षाओं के आयोजन के लिए गृह मंत्रालय एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर विस्तृत मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) तैयार की है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.