Jan Sandesh Online hindi news website

भोपाल पर चिकनगुनिया, डेंगू का भी खतरा कोरोना के साथ

0

भोपाल । देश-दुनिया के अन्य हिस्सों की तरह मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना का संक्रमण बना हुआ है। इसके साथ ही बारिश का मौसम होने के कारण डेंगू और चिकनगुनिया का भी खतरा मंडरा रहा है। इससे निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने व्यापक अभियान भी शुरू कर दिया है। स्वस्थ्य विभाग की ओर से कहा गया है कि वर्षा ऋतु के साथ डेंगू और चिकनगुनिया के फैलने की संभावना अधिक रहती है। इसलिए शहर के विभिन्न इलाकों में डेंगू लार्वा की सघन जांच की जा रही है। विभिन्न क्षेत्रों में व्यापक अभियान चलाया जा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग ने शहर के सभी लोगों से डेंगू और चिकनगुनिया की बीमारी से बचाव के लिए आवश्यक सावधानी बरतने को कहा है। किसी तरह की दिक्कत होने पर या डेंगू और चिकनगुनिया के लक्षण दिखने पर नजदीकी अस्पताल में जांच कराने के लिए कहा गया है।

और पढ़ें
1 of 171

डेंगू के लक्षणों को लेकर बताया गया है कि तेज बुखार, आंखों के पीछे दर्द, मांसपेशियों और सिर में तेज दर्द, मसूड़े व नाक से खून बहना और शरीर पर लाल चकत्ते होते है तो डेंगू हो सकता है। वहीं चिकनगुनिया के लक्षण तेज बुखार, सिर दर्द, जोड़ों में सामान्य दर्द और शरीर पर लाल चकत्ते आना है। ये लक्षण हों तो डेंगू, चिकनगुनिया हो सकता है, इसलिए नजदीकी उपचार केंद्र पर अपनी जांच कराएं।

स्वास्थ्य विभाग ने आमजनों से अपील की है कि डेंगू एवं चिकनगुनिया का वाहक एडीज मच्छर रुके हुए साफ पानी में होता है और दिन के समय काटता है। इसलिए जरूरी है कि दिन में पूरी बाह के कपड़े पहने तथा पानी को जमा न होने दें। इससे बचने के लिए घरों के आसपास सफाई रखें, सभी कंटेनर जिनमें पानी भरा हो एवं कूलर के पानी सप्ताह में एक बार खाली कर सुखाकर उनमें नया पानी भरें, और दिन में भी सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें।

राजधानी में कोरोना का संक्रमण भी तेजी से फैल रहा है। यहां कोरोना मरीजों की संख्या सात हजार के करीब पहुंच रही है। 10 दिन की पूर्णबंदी रही, मगर मरीजों की संख्या में ज्यादा कमी नहीं आई है। राज्य के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि अब कोरोना से बचने के लिए आम नागरिक से लेकर व्यापारी और अन्य लोगों को ही ख्याल रखना होगा।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.