Jan Sandesh Online hindi news website

PM Modi 7th Speech on Red Fort: ‘LoC से LAC तक आंख दिखाने वालों को सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब’

0

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 74 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले के प्राचिर से देश को संबोधित करते हुए सबसे पहले कोरोना वायरस से जंग जीतने की बात कही और कोरोना वॉरियर्स को नमन किया। करीब 1 घंटे 27 मिनट लंबे भाषण में प्रधानमंत्री का फोकस कोरोना वायरस, आर्थिक विकास और आत्मनिर्भर भारत पर रहा। इस दौरान उन्होंने महिला शक्ति से लेकर डिजिटल इंडिया और लद्दाख में चीनी घुसपैठ से लेकर शिक्षा व्यवस्था तक पर बात की। उन्होंने चीन और पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए करते हुए कहा कि एलओसी से लेकर एलएसी तक देश की संप्रभुता पर जिस किसी ने आंख उठाई है, देश की सेना ने उसका उसी भाषा में जवाब दिया है।

पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि भारत की संप्रभुता का सम्मान हमारे लिए सर्वोच्च है। इस संकल्प के लिए हमारे वीर जवान क्या कर सकते हैं, देश क्या कर सकता है, ये लद्दाख में दुनिया ने देखा है। आतंकवाद, विस्तारवाद का देश डटकर मुकाबला कर रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत के जितने प्रयास शांति और सौहार्द के लिए हैं, उतनी ही प्रतिबद्धता अपनी सुरक्षा के लिए और अपनी सेना को मजबूत करने की है। पीएम ने कहा कि भारत अब रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए भी पूरी क्षमता से जुट गया है।

देश के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं

इससे पहले पीएम ने कहा कि देश के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं। पीएम ने कहा कि आज भारत में कोराना की एक नहीं, दो नहीं, तीन-तीन वैक्सीन इस समय टेस्टिंग के चरण में हैं। जैसे ही वैज्ञानिकों से हरी झंडी मिलेगी, देश की तैयारी उन वैक्सीन की बड़े पैमाने पर उत्पादन की है। जब कोरोना शुरू हुआ था तब देश में टेस्टिंग के लिए सिर्फ एक लैब थी। आज देश में 1,400 से ज्यादा लैब हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि से देश में एक और बहुत बड़ा अभियान शुरू होने जा रहा है। ये है नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, भारत के हेल्थ सेक्टर में नई क्रांति लेकर आएगा। उन्होंने कहा कि आपके हर टेस्ट, हर बीमारी, आपको किस डॉक्टर ने कौन सी दवा दी, कब दी, आपकी रिपोर्ट्स क्या थीं, ये सारी जानकारी इसी एक हेल्थ कार्ड में समाहित होगी।

वोकल फॉर लोकल आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था का संचार करेगा

स्वतंत्रता दिवस पर देश को संबोधित करते हुए कहा कि वोकल फॉर लोकल, री-स्किल और अप-स्किल का अभियान, गरीबी की रेखा के नीचे रहने वालों के जीवनस्तर में आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था का संचार करेगा। देश के जो 40 करोड़ जनधन खाते खुले हैं, उसमें से लगभग 22 करोड़ खाते महिलाओं के ही हैं। कोरोना के समय में अप्रैल-मई-जून, इन तीन महीनों में महिलाओं के खातों में करीब-करीब 30 हज़ार करोड़ रुपए सीधे ट्रांसफर किए गए हैं। देश के जो 40 करोड़ जनधन खाते खुले हैं, उसमें से लगभग 22 करोड़ खाते महिलाओं के ही हैं। कोरोना के समय में अप्रैल-मई-जून, इन तीन महीनों में महिलाओं के खातों में करीब-करीब 30 हज़ार करोड़ रुपए सीधे ट्रांसफर किए गए हैं। आज से देश में एक और बहुत बड़ा अभियान शुरू होने जा रहा है। ये है नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, भारत के हेल्थ सेक्टर में नई क्रांति लेकर आएगा।

अगले 1000 दिनों में लक्षद्वीप सबमरिन ऑप्टिकल फाइबर केबल से जुड़ जाएगा

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में 1300 से अधिक द्वीप हैं। उनकी भौगोलिक स्थिति और राष्ट्र के विकास में उनके महत्व को ध्यान में रखते हुए, इनमें से कुछ द्वीपों में नई परियोजनाएं शुरू करने का काम चल रहा है। अगले 1000 दिनों में, लक्षद्वीप को सबमरिन ऑप्टिकल फाइबर केबल से भी जोड़ा जाएगा।

अयोध्या में एक भव्य राम मंदिर का निर्माण 10 दिन पहले शुरू हुआ 

लाल किले से देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अयोध्या में एक भव्य राम मंदिर का निर्माण 10 दिन पहले शुरू हुआ। रामजन्मभूमि मुद्दा जो सदियों से चला आ रहा है, शांति से हल हो गया है। देश के लोगों का आचरण अभूतपूर्व रहा है और भविष्य के लिए एक प्रेरणा है।

देश में एनसीसी का विस्तार होगा

पीएम मोदी ने कहा कि अब देश में एनसीसी(NCC) का विस्तार किया जाएगा। एनसीसी को देश के 173 सीमाओं और तटीय जिलों तक सुनिश्चित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत करीब 1 लाख नए एनसीसी कैडेट को विशेष ट्रेनिंग दी जाएगी। इसमें भी करीब एक तिहाई बेटियों को ये स्पेशल ट्रेनिंग दी जाएगी।

लद्दाख आज विकास की नई ऊंचाइयों को छूने के लिए आगे बढ़ रहा

पीएम मोदी ने कहा कि लोकतंत्र की सच्ची ताकत स्थानीय इकाइयों में है। हम सभी के लिए गर्व की बात है कि जम्मू-कश्मीर में स्थानीय इकाइयों के जनप्रतिनिधि सक्रियता और संवेदनशीलता के साथ विकास के नए युग को आगे बढ़ा रहे हैं। बीते साल लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाकर, वहां के लोगों की बरसों पुरानी मांग को पूरा किया गया है। हिमालय की ऊंचाइयों में बसा लद्दाख आज विकास की नई ऊंचाइयों को छूने के लिए आगे बढ़ रहा है। यह एक वर्ष जम्मू-कश्मीर के लिए विकास की नई यात्रा का वर्ष है। यह एक वर्ष जम्मू और कश्मीर में महिलाओं और दलितों को मिले अधिकारों का वर्ष है। यह एक साल जम्मू-कश्मीर में शरणार्थियों के लिए सम्मान की जिंदगी का साल भी है। जम्मू-कश्मीर में परिसीमन की कवायद की जा रही है। देश इस काम को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है ताकि वहां चुनाव हो और लोगों के प्रतिनिधि चुने जाएं।

आत्मनिर्भर भारत की एक अहम प्राथमिकता- आत्मनिर्भर कृषि और आत्मनिर्भर किसान

पीएम मोदी ने इससे पहले कहा कि एक समय था, जब हमारी कृषि व्यवस्था बहुत पिछड़ी हुई थी। तब सबसे बड़ी चिंता थी कि देशवासियों का पेट कैसे भरें। आज हम सिर्फ भारत ही नहीं, दुनिया के कई देशों का पेट भर सकते हैं। किसानों ने कृषि क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बना दिया है। आत्मनिर्भर भारत की एक अहम प्राथमिकता है – आत्मनिर्भर कृषि और आत्मनिर्भर किसान। किसान को तमाम बंधनों से मुक्त करना हो वो काम हमने कर दिया है।

आधुनिक, नए और समृद्ध भारत के निर्माण में शिक्षा की अहम भूमिका

आधुनिक, नए और समृद्ध भारत के निर्माण में शिक्षा की अहम भूमिका है। इसलिए, हम तीन दशकों के बाद नई शिक्षा नीति लाए हैं, जिसका पूरे देश में स्वागत किया गया है, जो नए आत्मविश्वास को बढ़ाती है। 2014 से पहले केवल 5 दर्जन ग्राम पंचायतें ऑप्टिकल फाइबर से जुड़ी थीं। पिछले 5 वर्षों में, 1.5 लाख ग्राम पंचायतों को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा गया है। आने वाले 1000 दिनों में, राष्ट्र के हर गांव को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा जाएगा।

बेटियों की शादी के लिए न्यूनतम आयु पर पुनर्विचार करने के लिए समिति का गठन

जब भी महिलाओं को अवसर मिला, उन्होंने भारत को गौरवान्वित किया और इसे मजबूत बनाया। आज देश उन्हें रोजगार के समान अवसर प्रदान कर रहा है। आज महिलाएं कोयला खदानों में काम कर रही हैं, हमारी बेटियां लड़ाकू विमान उड़ाते हुए आसमान को छू रही हैं। हमने अपनी बेटियों की शादी के लिए न्यूनतम आयु पर पुनर्विचार करने के लिए समिति का गठन किया है। समिति अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के बाद उचित निर्णय लेगी

और पढ़ें
1 of 3,367

सामान्य नागरिक की मेहनत का कोई मुकाबला नहीं

पीएम मोदी ने कहा कि देश के सामान्य नागरिक की मेहनत का कोई मुकाबला नहीं है। बीते 6 सालों में देश में मेहनत करने वाले लोगों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चलाई गई हैं। बिना किसी भेद-भाव के, पूरी पारदर्शिता के साथ सभी लोगों को कई योजनाओं के द्वारा मदद पहुंचाई गई है।

दुनिया कोरोना काल में भी भारत पर भरोसा कर रही है

पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए यह भी कहा कि दुनिया कोरोना काल में भी भारत पर भरोसा कर रही है। भारत में सुधारों के दौर को दुनिया देख रही है। आज दुनिया इंटर-कनेक्टेड है। इसलिए समय की मांग है कि विश्व की अर्थव्यवस्था में भारत का योगदान बढ़ाना चाहिए, इसके लिए भारत को आत्मनिर्भर बनना ही है। जब हमारा अपना सामर्थ्य होगा तो हम दुनिया का कल्याण भी कर पाएंगे।

देश के युवाओं को अवसर मिल रहा है

पीएम मोदी ने इस दौरान यह भी कहा कि आज देश अनेक नए कदम उठा रहा है। इसलिए आप देखिए स्पेस सेक्टर को खुला कर दिया। देश के युवाओं को अवसर मिल रहा है। हमने कृषि क्षेत्र को बंधनों से मुक्त कर दिया। हमने आत्मनिर्भर भारत बनाने का प्रयास किया है। सिर्फ कुछ महीना पहले तक N-95 मास्क, PPE किट, वेंटिलेटर ये सब हम विदेशों से मंगाते थे। आज इन सभी में भारत, न सिर्फ अपनी जरूरतें खुद पूरी कर रहा है, बल्कि दूसरे देशों की मदद के लिए भी आगे आया है।

आत्मनिर्भर भारत देशवासियों का मंत्र बन गया है

पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि आत्मनिर्भर भारत देशवासियों का मंत्र बन गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के दौरान 130 करोड़ भारतीयों ने आत्मनिर्भर होने का संकल्प लिया है। पूरे देश के दिमाग में ‘आत्मानिर्भर भारत’ है। यह सपना एक प्रतिज्ञा में बदल रहा है। आज 130 करोड़ भारतीयों के लिए आत्मनिर्भर भारत ‘मंत्र’ बन गया है। मुझे पूरा विश्वास है कि भारत इस सपने को साकार करेगा। मुझे अपने साथी भारतीयों की क्षमता और आत्मविश्वास पर भरोसा है। एक बार जब हम कुछ करने का निर्णय लेते हैं, तब तक हम आराम नहीं करते हैं जब तक कि हम उस लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर लेते।

वीरों को नमन

पीएम मोदी ने संबोधन के दौरान कहा कि आजादी का पर्व हमारे लिए आजादी के वीरों को याद करके नए संकल्पों की ऊर्जा का एक अवसर होता है। ये हमारे लिए नई उमंग, उत्साह और प्रेरणा लेकर आता है।अगला आजादी का पर्व जब हम मनाएंगे, तो आजादी के 75 वें वर्ष में प्रवेश करेंगे। तो ये हमारे लिए बहुत बड़ा अवसर है। गुलामी का कोई कालखंड ऐसा नहीं था, जब हिंदुस्तान में किसी कोने में आजादी के लिए प्रयास नहीं हुआ हो, प्राण-अर्पण नहीं हुआ हो। एक प्रकार से जवानी जेलों में खपा दी। ऐसे वीरों को हम नमन करते हैं।

कोरोना वॉरियर्स को भी मैं आज नमन करता हूं

इससे पहले पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस के इस असाधारण समय में, सेवा परमो धर्म: की भावना के साथ,अपने जीवन की परवाह किए बिना हमारे डॉक्टर्स, नर्से, पैरामेडिकल स्टाफ, एंबुलेंस कर्मी, सफाई कर्मचारी, पुलिसकर्मी, सेवाकर्मी, अनेको लोग, चौबीसों घंटे लगातार काम कर रहे हैं। ऐसे सभी कोरोना वॉरियर्स को भी मैं आज नमन करता हूं। हम एक अलग समय से गुजर रहे हैं। मैं आज (लाल किले पर) मेरे सामने छोटे बच्चों को नहीं देख सकता। कोरोना ने सभी को रोक दिया है। प्रधानमंत्री मोदी पहली बार बुलेट प्रूफ शीशे के घेरे में भाषण दे रहे हैं।

‘मेक इन इंडिया’ के साथ-साथ ‘मेक फॉर वर्ल्ड’ के मंत्र के साथ आगे बढ़ना होगा

पीएम मोदी ने लाल किले से देश को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले साल हमारे देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में रिकॉर्ड 18% की वृद्धि हुई थी। दुनिया ने भारत पर भरोसा दिखाया है क्योंकि हमने अपनी नीतियों, लोकतंत्र और हमारी अर्थव्यवस्था की नींव को मजबूत करने पर काम किया है। आज, कई बड़ी कंपनियां भारत की ओर रुख कर रही हैं। हमें  ‘मेक इन इंडिया’ के साथ-साथ ‘मेक फॉर वर्ल्ड’ के मंत्र के साथ आगे बढ़ना होगा।

चीन पर साधा निशाना 

पीएम मोदी ने लाल किले से अपने संबोधन में बिना नाम लिए चीन पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि विस्तारवाद की सोच ने विस्तार की कई कोशिशें की। प्रधानमंत्री ने कहा कि विस्तावाद की सोच ने सिर्फ कुछ देशों को गुलाम बनाकर नहीं छोड़ा, बात उन्हीं पर खत्म नहीं हुई। प्रधानमंत्री ने कहा कि भीषण युद्धों और उसकी भयावहता के बीच भी भारत ने आजादी की जंग में कमी और नमी नहीं आने दी।

लगातार सातवीं बार लाल किले पर तिरंगा फहराया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगातार सातवीं बार लाल किले पर तिरंगा फहराया और प्राचीर से देश को संबोधित कर रहे हैं। लाल किले से सबसे ज्यादा बार तिरंगा फहराने के मामले में अभी वह अटल बिहारी वाजपेयी के साथ संयुक्त रूप से चौथे स्थान पर हैं। शनिवार को तिरंगा फहराने के साथ ही उन्होंने सबसे ज्यादा बार लाल किले पर तिरंगा फहराने के मामले मामले में वाजपेयी को पीछे छोड़ दिया। हालांकि, वह तब भी चौथे स्थान पर ही हैं। देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 15 अगस्त को सबसे ज्यादा 17 बार लाल किले पर तिरंगा फहराया है। दूसरे नंबर पर इंदिरा गांधी (16) और तीसरे नंबर पर मनमोहन सिंह (10) हैं।

लखनऊ की श्वेता ने पीएम के साथ ध्वजारोहण समारोह की कमान संभाली

लालकिले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ लखनऊ की बेटी मेजर श्वेता ध्वजारोहण समारोह की कमान संभाली। इससे पहले वह रूस में विक्ट्री डे पर भी भारत के तीनों अंगों की सेनाओं के मार्च पास्ट दल का नेतृत्व कर चुकीं हैं। इस दल का नेतृत्व करने वाली वह पहली महिला सैन्य अधिकारी हैं।मार्च 2012 में ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी (ओटीए) से सेना की ईएमई कोर में कमीशंड श्वेता लखनऊ के प्रतिष्ठित सिटी मॉन्टेसरी स्कूल (सीएमएस) की छात्रा रह चुकीं हैं। वह कम्प्यूटर साइंस से बीटेक हैं। उनके पिता राज रतन पांडेय यूपी सरकार के वित्त विभाग में अतिरिक्त निदेशक हैं, जबकि मां अमिता पांडेय प्रोफेसर हैं। उनकी तैनाती अभी दिल्ली में 505 फील्ड यूनिट में है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी

लाल किला पहुंचने पर लाहौरी गेट की तरफ पीएम मोदी की रक्षामंत्री राजनाथ सिह व रक्षा सचिव अजय कुमार ने अगवानी की। इसके बाद उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत यहां पहले से ही लाल किले पर मौजूद रहे। इससे पहले उन्होंने राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने ट्वीट करके स्वतंत्रता दिवस पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी।  इस बार कोरोना संक्रमण के कारण 4000 अतिथियों को ही स्वतंत्रता दिवस समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया। मेहमानों के बैठने की व्यवस्था में भी परिवर्तन किया गया। शारीरिक दूरी का विशेष ध्यान रखा गया।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.