Jan Sandesh Online hindi news website

सीबीआई ने एनसीबी से ड्रग एंगल जांच के लिए मदद मांगी

0

नई दिल्ली/मुंबई, । दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में पैसे की हेराफेरी की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) से ड्रग सिंडिकेट क नेक्शन की जांच के लिए मदद मांगी है। ईडी के एक उच्च पदस्थ सूत्र ने बताया कि वित्तीय जांच एजेंसी ने एनसीबी को पत्र लिखा है जिसमें ड्रग एंगल की जांच के लिए सहयोग मांगा है। इडी ये जानना चाहती है कि क्या सुशांत सिंह की मौत के मामले में कोई ड्रग एंगल है।

ईडी ने बिहार पुलिस की एफआईआर के आधार पर 31 जुलाई को मनी लांड्रिंग केस दायर किया था। बिहार पुलिस की एफआईआर सुशांत सिंह के पिता के.के. सिंह की शिकायत के बाद लिखी गई थी। इस मामले में पहले ही ईडी ने सुशांत के पिता, सुशांत की बहन – प्रियंका सिंह, मीतू सिंह के बयान दर्ज किए हैं।

ईडी ने सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती, उसके भाई शौविक, पता इंद्रजीत के बयान भी दर्ज किए हैं। इसके अलावा ईडी सुशांत के पूर्व मैनेजर, फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी, हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा, सीए संदीप आदि से पूछताछ कर चुकी है।

और पढ़ें
1 of 978

इस बीच मंगलवार को सीपबीआई की टीम ने सिद्धार्थ पिठानी, सुशांत के पर्सनल स्टाफ नीरज सिंह से पूछताछ जारी रखी।

सूत्रों के मुताबिक, सीबीआई ने मुंबई पुलिस के दो अधिकरियों को पूछताछ के लिए बुलाया है।

सीबीआई की टीम ने फॉरेंसिक टीम के साथ सुशांत के फ्लैट का भी दो बार दौरा किया। पिछले चार दिनों में सीबीआई ने वाटरस्टोन रिसोर्ट का दो बार दौरा किया। सीबीआई की टीम कूपर अस्पताल भी गई जहां सुशांत का ऑटोप्सी हुअ था।

लेकिन सीबीआई ने अभी तक रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार के सदस्यों को पूछताछ के लिए नहीं बुलाया है। सीबीआई ने एम्स के फॉरेसिक डिपार्टमेंट से भी सुशांत की ऑटोप्सी रिपोर्ट समझने के लिए मदद मांगी है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने सुशांत की मौत के मामले की जांच संभाली है, जिसके बाद से जांच में काफी तेजी आई है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.