Jan Sandesh Online hindi news website

फ्रांस इलेक्ट्रिक खराबी के चलते ट्रैक पर 20 घंटे तक खड़ी रही हाई स्पीड ट्रेनें, ताजी हवा न मिलने से यात्री हुए बेचैन

ताजी हवा न मिलने से यात्री हुए बेचैन

0

पेरिस, एपी। दक्षिण-पश्चिम फ्रांस (Southwestern France) में बिजली की समस्याओं की वजह से एक हाई स्पीड टीजीवी ट्रेनों अचानक बीच रास्‍ते में ही रुक गई। इस घटना के चलते हजारों यात्री रात भर ट्रेन में ही फंसे रहे। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक, यात्रियों को भोजन, पानी और ताजी हवा नहीं मिलने के कारण मुश्किलों का सामना करना पड़ा। य‍ात्रियों ने मदद के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। उन्‍होंने फर्श पर सो रहे बच्चों की तस्वीरें पोस्ट कीं और 20 घंटे तक ट्रेन के डिब्‍बों में मास्‍क पहने हुए बिताने की चुनौती का वर्णन किया।

 

फांस में इलेक्ट्रिक खराबी के चलते ट्रैक पर 20 घंटे तक खड़ी रही हाई स्पीड ट्रेनें ताजी हवा न मिलने से यात्री हुए बेचैन
और पढ़ें
1 of 833

नौबत यहां तक आ गई  कि बाद में कई लोगों कोमेडिकल समस्‍याओं के चलते वहां से निकालना पड़ा। राष्ट्रीय रेल प्राधिकरण एसएनसीएफ ने रविवार को दोपहर से कई मार्गों पर समस्याओं की घोषणा की। इनमें विद्युत आपूर्ति की विफलता जैसी समस्‍याएं शामिल थीं। इनको ठीक करने के लिए व्यापक मरम्मत के कार्यों की जरूरत बताई गई थी। अमूमन फ्रांस जैसे देश में ऐसी समस्‍याएं कम ही होती हैं। बताया जाता है कि कम से कम तीन ट्रेनें इस समस्‍या के चलते रेलवे ट्रैकों पर जहां तहां फंस गईं। कई यात्री तो सोमवार की सुबह तक ट्रेनों में फंसे रहे।

परिवहन मंत्री जूनियर बैप्टिस्ट जेब्‍बारी (Jean Baptiste Djebbari) ने बीएफएम टेलीविजन पर बताया कि मंगलवार सुबह तक यातायात सामान्य होने की उम्मीद नहीं है। राष्ट्रीय रेल प्राधिकरण एसएनसीएफ ने कहा कि सभी यात्रियों को उनके टिकटों की लागत के तीन गुना की भरपाई की जाएगी। एसएनसीएफ ट्रेनों में फंसे यात्रियों को चार हजार मास्क, पानी और भोजन वितरित कर रहा है। इस समस्‍या से 60 किलोमीटर ट्रैक पर हाई-पावर ओवरहेड केबल्स को नुकसान पहुंचा है। यह समस्‍या ऐसे वक्‍त में सामने आई है जब लाखों फ्रांसीसी लोग इस हफ्ते काम पर लौटने की तैयारी कर रहे हैं।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.