Jan Sandesh Online hindi news website

डिजिटल शोक पुस्तक का विमोचन , बांग्‍लादेश स्थित भारतीय उच्‍चायोग में प्रणब मुखर्जी की स्मृति में

बांग्‍लादेश स्थित भारतीय उच्‍चायोग में प्रणब मुखर्जी की स्मृति में

0
भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की स्मृति में यहां भारतीय उच्‍चायोग में एक डिजिटल शोक पुस्तक का विमोचन किया गया।

ढाका, एएनआइ। भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) की स्मृति में यहां भारतीय उच्‍चायोग में एक डिजिटल शोक पुस्तक का विमोचन किया गया। बांग्लादेश में भारतीय उच्चायोग ने यह जानकारी दी। उच्चायोग ने बताया कि बांग्लादेश के विदेश मंत्री डॉ. एके अब्दुल मोमन (Dr AK Abdul Momen) ने प्रणब मुखर्जी को श्रद्धांजलि भी अर्पित की।

और पढ़ें
1 of 829

बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने भी पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक जताया है। उन्होंने मुखर्जी को एक महान नेता बताते हुए कहा कि उनके दूरदर्शी नेतृत्व से भारत को वैश्विक ताकत के रूप में उभरने में मदद मिली। यही नहीं मुखर्जी के दूरदर्शी नेतृत्‍व के चलते ही अमेरिका और भारत के बीच मजबूत साझेदारी का रास्‍ता खुला।

उल्‍लेखनीय है कि मुखर्जी का सोमवार को निधन हो गया। वह 84 साल के थे। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा है कि भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन से दुख हुआ। मैं उस महान नेता के निधन के चलते शोकसंतप्‍त उनके परिजनों के प्रति मैं अपनी संवेदना भेजता हूं। इससे पहले अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने कहा था कि मुखर्जी के निधन से अमेरिका को गहरा दुख हुआ है।

पोंपियो ने जारी बयान में कहा कि प्रणब मुखर्जी के दूरदर्शी नेतृत्व ने वैश्विक ताकत के रूप में भारत के उदय में मदद की और मजबूत अमेरिका-भारत साझेदारी का मार्ग प्रशस्त हुआ है। मुखर्जी की कई उपलब्धियों के कारण भारत अधिक समृद्ध बना है। विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री के तौर पर उन्होंने भारत और अमेरिका असैन्य परमाणु करार और रणनीतिक साझेदारी की नींव में अहम भूमिका निभाई…

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.