Jan Sandesh Online hindi news website

रायबरेली जिला जेल से 2 कैदी फरार,जिला प्रशासन की खुली पोल

0
और पढ़ें
1 of 29

रिपोर्ट संदीप पांडेय

रायबरेली – प्रदेश सरकार चाहे जितने दावे कर ले सुरक्षा व्यवस्था की मगर धरातल पर देखें तो वह कुछ और ही निकल कर आता है। ताजा मामला रायबरेली का है जहाँ बीती रात रायबरेली जिला कारागार से दो बंदी फरार हो गए। मंगलवार की सुबह जब गिनती हुई तो नदारत रहे जिससे घटना का पता चला। जिसके बाद एसपी समेत पुलिस महकमे के अफसर जेल पहुंचे। काफी छानबीन के बाद भी जब उन दोनों का पता नहीं चला तो कोतवाली में तहरीर दी गई। इस घटनाक्रम से जेल के अधिकारी खासे सकते में हैं। उन पर कार्रवाई की गाज गिर सकती है।

बताते चले कि दोनों कैदियों को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन बैरक में रखा गया था। जिसमे शिवगढ़ के शेरगढ़ मजरे पडरिया निवासी शारदा पुत्र रामफेर को चोरी के आरोप में पांच सितंबर को जेल भेजा गया। वहीं सलोन के अतरथरिया गांव के रंजीत को दुष्कर्म के मामले में तीन सितंबर को जिला कारागार लाया गया। दोनों को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन बैरक में रखा गया था। सोमवार की रात गिनती के दौरान वे दोनों थे पर मंगलवार की सुबह की गिनती में वे नदारद रहे। इसकी सूचना जेल प्रशासन द्वारा तुरंत कोतवाली पुलिस को दी गई। जिसके बाद कोतवाल ने एसपी श्लोक कुमार समेत अन्य अधिकारियों को पूरा प्रकरण बताया। कुछ ही देर में एसपी, एएसपी, सीओ भी जेल पहुंच गए। जेल की सभी बैरकों की बारी-बारी से छानबीन की गई लेकिन, उन दोनों का पता नहीं चल पाया।

कयास लगाई जा रही है कि क्वारंटाइन बैरक में बने बाथरूम में सेंध लगाकर दोनों बैरक से बाहर आए। फिर तीन-चार बड़ी दीवारें पार करके भाग गए। ऐसा करना बहुत कठिन था पर उन दोनों ने ऐसा करके जेल प्रशासन की नींद उड़ा दी। जेलर ने बताया कि दो बंदियों के जेल से भागने की तहरीर दी गई। डीआईजी सजीव त्रिपाठी लखनऊ जोन भी जिला जेल पहुँचे, सीसीटीवी फुटेज खंगालने में जुटी जांच टीम। वहीं जेल अधीक्षक ज्ञान प्रकाश श्रीवास्तव की माने तो दो बंदी जेल से फरार हुए हैं उसी के बारे में डीआईजी साहब जांच करने आएं हैं और जांच चल रही है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.