Jan Sandesh Online hindi news website

विवश हुए फ्रेंच ओपन आयोजक दर्शक संख्या घटाने पर

0

पेरिस| क्ले कोर्ट के एकमात्र ग्रैंड स्लैम फ्रेंच ओपन का आयोजन 27 सितम्बर से होना है। मूल रूप से मई में होने वाले इस टूर्नामेंट की नई तारीख की घोषणा के वक्त आयोजकों ने कहा था कि हर दिन मैचों के लिए 11500 दर्शकों को स्टेडियमों में प्रवेश की अनुमति होगी लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण आयोजक दर्शक संख्या घटाने पर मजबूर हुए हैं। फ्रेंच टेनिस फेडरेशन ने कहा है कि देश में जिस तेजी से हाल के दिनों में कोरोना के मामले बढ़े हैं, उसे देखते हुए अब स्टेडियम में 11,500 दर्शकों का प्रवेश सम्भव नहीं हो सकेगा। अब एक दिन में सिर्फ 5000 दर्शकों को प्रवेश मिल सकेगा।

एफएफटी के मुताबिक ऐसा पेरिस पुलिस विभाग के कहने पर किया जा रहा है। एफएफटी के मुताबिक एक दिन में फिलिप कार्टियर और सुजेन लेंग कोर्ट पर पहले 5-5 दर्शकों के प्रवेश की अनुमति की थी लेकिन अब यह संख्या कम कर दी गई है।

फ्रेंच ओपन का आयोजन रोलां गैरों परिसर में होता है, जो 12 एकड़ में फैला हुआ है और इतनी जगह के लिए 5000 दर्शक अगर होंगे तो सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जा सकेगा।

और पढ़ें
1 of 456

फ्रेंच ओपन का आयोजन 27 सितम्बर से 11 अक्टूबर तक होना है।

इस बीच, हाल ही में अमेरिकी ओपन खिताब जीतने वाली जापान की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका नें फ्रेंच ओपन से अपना नाम वापस ले लिया है।

ओसाका ने न्यूयार्क में बीते सप्ताह अपने करियर का तीसरा ग्रैंड स्लैम खिताब जीता था। वह अभी हैमस्ट्रिंग इंजुरी से परेशान हैं और इसी कारण उन्होंने फ्रेंच ओपन में नहीं खेलने का फैसला किया है।

22 साल की ओसाका ने सोशल मीडिया के माध्यम से यह जानकारी साझा की। ओसाका ने लिखा, “दुर्भाग्य से मैं इस साल फ्रेंच ओपन में नहीं खेल पाउंगी। मेरा हैमस्ट्रिंग अच्छी स्थिति में नहीं है और मेरे पास क्ले कोर्ट इवेंट के लिए तैयारी का भी वक्त नहीं है। मैं आयोजकों और खिलाड़ियों का शुभकामनाएं देती हूं।”

ओसाका के अलावा वर्ल्ड नम्बर-1 और मौजूदा चैम्पियन एश्ले बार्टी ने भी इस साल फ्रेंच ओपन से दूर रहने का फैसला किया है। बार्टी ने कहा है कि वह स्वास्थ कारणों और तैयारी की कमी के कारण इस साल रोलां गैरों में नहीं खेल सकेंगी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.