Jan Sandesh Online hindi news website

आइएमएफ ने दिए संकेत पाक को कर्ज देने पर रोक लगाने के….

0

इस्लामाबाद। आर्थिक तंगी से बेहाल पाकिस्तान के सिर पर खतरे की नई तलवार फिर लटक गई है। इस बार अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) पाकिस्तान को अल्पकालिक ऋण देने पर रोक लगा सकता है। इस तरह के ऋण से पाकिस्तान बजट संबंधी जरूरी प्रावधानों के लिए धन जुटा लेता था लेकिन आइएमएफ के ताजा संकेत से पाकिस्तान के लिए कोढ़ में खाज वाली स्थिति पैदा होने की आशंका है।

और पढ़ें
1 of 841

पाकिस्तान में इस साल पिछले वर्ष के बजट की अपेक्षा करीब 1.5 प्रतिशत ज्यादा धन की जरूरत होगी। इससे वह अपनी घरेलू जरूरतें पूरी करने के साथ ही अंतरराष्ट्रीय जिम्मेदारियां पूरी कर पाएगा। आइएमएफ के अनुसार पाकिस्तान को आगामी वित्त वर्ष के लिए एक लाख करोड़ रुपये की जरूरत होगी। लेकिन मौजूदा कर ढांचे में इतने धन का इंतजाम होना मुश्किल है। चालू वर्ष में भी कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हुई हैं।

इससे करों की वसूली की स्थिति खराब रही है। आर्थिक विशेषज्ञों के अनुसार पाकिस्तान में एक तरफ तो करदाताओं की संख्या बहुत कम है। इस बार उनसे वसूली भी कम हुई है। जबकि कोविड महामारी के चलते सरकार पर जिम्मेदारी ज्यादा रही है। आने वाले समय जनसुविधाओं पर खर्च बढ़ने के आसार हैं। ऐसे में बोझ सरकार पर ही आएगा जबकि आगामी वर्ष में भी आर्थिक गतिविधियां धीमी रहने की आशंका है।

आइएमएफ के जताए गए आसार के अनुरूप पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने स्पष्ट कर दिया है कि जरूरतों को पूरा करने के लिए अल्प अवधि और मध्यम अवधि के ऋणों की जरूरत होगी। इनके बिना काम चलना मुश्किल है। पाकिस्तान ने हाल के वर्षों में जिस तरह से सऊदी अरब, यूएई और चीन से कर्ज लिया है। उसके चलते अब आने वाले समय में इन देशों से भी उसे कर्ज मिलने की उम्मीद कम है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.