Jan Sandesh Online hindi news website

आप शायद न जानते हो एक मच्छर के काटने से क्या हो सकता है !

CAMBODIA ,NEWS IN HINDI,MOSQUITO BITE ,NEWS IN HINDI,SHOCKING NEWS IN HINDI,WEIRD NEWS IN HINDI

0

कम्बोडिया में एक शख्स के पैर का साइज सामान्य से पांच गुना ज्यादा हो गया। दरअसल, युवक को 20 साल पहले एक मच्छर ने काटा था, जिसके इंफेक्शन के कारण उसका एक पैर गुब्बारे की तरह फूल गया। कम्बोडिया के Kampong Chhnang प्रांत के 27 वर्षीय बोंग चेट (Bong Chet) मुश्किल से ही चल पाते हैं। कथित रूप से इसकी शुरुआत तब हुई थी जब वह 6 साल के थे। तब बोंग के पैर में खरोंच आई थी जिसे उनके माता-पिता ने ये सोचकर अनदेखा कर दिया कि वो उन्हें बाहर खेलने के दौरान लगी होगी। लेकिन वक्त बीतने के साथ बोंग का पैर फूलता चला गया।

टूट गया फुटबॉलर बनने का ख्वाब

12 साल की उम्र आते-आते बोंग का पैर सूजकर मोटा हो गया। माता-पिता फैक्ट्री में मजदूरी करते हैं तो उनके पास इतना पैसा नहीं था कि वो बेटे का इलाज करवा सकें। उन्होंने अपने स्तर पर जो बन सका वो किया। लेकिन बेटे का पैर सूजता गया और उसका चलना भी बंद हो गया। इसके कारण उसका स्कूल छूट गया और फुटबॉलर बनने का ख्वाब भी टूट गया।

और पढ़ें
1 of 285

एक कपल ने बढ़ाया मदद को हाथ

लगभग 20 साल से बिना इलाज के जिंदगी गुजार रहे बोंग हाल ही अस्पताल गए। यह मुमकिन हो पाया एक नेकदिल कपल की वजह से, जिन्होंने बोंग को इलाज के लिए करीब 2,500 डॉलर (1.82 लाख रुपये) दिए। जांच में डॉक्टरों ने पाया कि बोंग दुर्लभ बीमारी Lymphatic Filariasis से पीड़ित हैं, जो सूक्ष्म कीड़े के कारण होती है। यह कीड़े मच्छर के काटने से शरीर में दाखिल होते हैं। डॉ. को शक है कि बोंग बचपन में मच्छर के काटने से आई खरोंच से इस कीड़े के संपर्क में आए होंगे।

सर्जरी से हो सकती है मुश्किल कम

यह बीमारी दुनियाभर में विकलांगता के सबसे बड़े कारणों में से एक है। और हां, फिलहाल Lymphatic Filariasis का टीका भी मौजूद नहीं है। लेकिन डॉक्टर सर्जरी के जरिए मुश्किलों को कम करने में कामयाब रहे हैं। साल 2018 में एक भारतीय मरीज की सर्जरी कर डॉक्टर ने 30 पाउंड वजन घटाया था, जिसके बाद उसने अपना पहला कदम चल सका।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.