Jan Sandesh Online hindi news website

वर्जुअल दुनिया : कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर पोस्ट की गई एक और निराधार स्टडी

0

नई दिल्ली,  कोरोना वायरस को लेकर शुरूआत से ही तरह-तरह की बातें फैलाई जा रही है। पहले कहा गया कि कोरोना वायरस चीन में चमगादड़ से फैला है फिर इसके जानवरों से इंसानों में फैलने की बात सामने आई।

मगर अब तक ऐसी कोई भी पुख्ता स्टडी या रिपोर्ट सामने नहीं आ सकी है कि आखिर कोरोना वायरस कहां से फैला और इसका आधार क्या है? मगर अधिकतर सबूत यह पुष्टि करते हैं कि  कोरोनावायरस पशुओं के स्त्रोत से ही मनुष्यों में फैला है। इससे पहले भी जो घातक वायरस मनुष्यों में पाए गए या जिसकी वजह से ऐसी महामारियां फैली हैं उसके पीछे जानवर ही पाए गए हैं। कोरोना वायरस चीन की एक प्रयोगशाला से फैला है इसको लेकर वैज्ञानिकों को सफाई देनी पड़ी है।

अब तक ऐसी कोई भी पुख्ता स्टडी या रिपोर्ट सामने नहीं आ सकी है कि आखिर कोरोना वायरस कहां से फैला और इसका आधार क्या है? मगर अधिकतर सबूत यह पुष्टि करते हैं कि कोरोनावायरस पशुओं के स्त्रोत से ही मनुष्यों में फैला है।

बीते सप्ताह भी ऐसी ही एक अफवाह फैलाई गई। ऑनलाइन एक रिपोर्ट पोस्ट की गई जिसमें ये लिखा गया कि यह एक कृत्रिम वायरस है और चीनी रिसर्चरों द्वारा जारी एक अप्रतिबंधित जैव हथियार है। इस रिपोर्ट को किसी पत्रिका में प्रकाशित नहीं किया गया है। जो रिपोर्ट पोस्ट की गई उसमें कई वर्ग के लोगों को शामिल किया गया। इसमें निजी रिसर्चर भी शामिल किए गए है, इन्होंने लैब को सेंसर करने और आलोचना करने का आरोप लगाया। इसमें चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के साथ तथ्यहीन विचार विमर्श और मिलीभगत का भी आरोप लगाया है।

पोस्ट किए जाने के बाद वैज्ञानिकों ने इस अध्ययन को तुरंत विवादित और खतरनाक बताया, लेकिन इस रिसर्च रिपोर्ट ने सोशल मीडिया का ध्यान अपनी ओर खींचा, इस पोस्ट को ट्विटर पर 14,000 से अधिक बार लाइक किया गया और 12,000 से अधिक बार रीट्वीट किया गया। फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर इसे साझा किया गया, अब तक यह लाखों उपयोगकर्ताओं तक पहुंच गया और कम से कम एक दर्जन लेखों को कई भाषाओं में लिखा गया।

और पढ़ें
1 of 863

कोलंबिया विश्वविद्यालय के एक वायरोलॉजिस्ट एंजेला रासमुसेन ने कहा कि यह हास्यास्पद और निराधार है। उन्होंने ट्विटर पर इस अध्ययन की आलोचना की, जिस दिन इसे जारी किया गया था। उन्होंने कहा कि यह वैज्ञानिक साक्ष्य के रूप में है, लेकिन वास्तव में यह सिर्फ एक डंपस्टर आग है। यह प्रकाशन एक चीनी वैज्ञानिक ली-मेंग यान की अगुवाई वाली एक टीम का है, इससे पहले भी टीम एक इसी तरह की रिपोर्ट प्रकाशित कर चुकी है।

यान के एक बयान के अनुसार, कुछ समय पहले अज्ञात कारणों से हांगकांग विश्वविद्यालय में पोस्ट डॉक्टरल रिसर्च फेलो के रूप में अपना पद छोड़ दिया और संयुक्त राज्य अमेरिका भाग गई। यान के मूल पत्र को “द यान रिपोर्ट” के रूप में जाना जाता है। उनकी रिसर्च को हजारों लोगों ने ऑनलाइन डाउनलोड कर लिया। इसी रिपोर्ट को द न्यूयॉर्क पोस्ट में रिपोर्ट किया गया है।

इस रिपोर्ट पर विशेषज्ञों ने तेजी से अपने निष्कर्ष निकाले। शोधकर्ताओं ने इसे अवैज्ञानिक बताया और कहा कि इसने वायरस की प्राकृतिक उत्पत्ति की ओर इशारा करते हुए डेटा की संपत्ति को नजरअंदाज कर दिया गया। वायरस चमगादड़ से लोगों में सीधे स्थानांतरित हो सकता है या पहले मनुष्यों में संक्रमण से पहले एक अन्य जानवर, जैसे कि पैंगोलिन में पाया गया था। इन दोनों से पहले भी इस तरह की बीमारियों के सबूत पाए जा चुके हैं मगर वो इतने भयंकर नहीं थे जितना की कोरोना है।

येल विश्वविद्यालय के एक विज्ञानी ब्रैंडन ओबगुनु ने कहा कि हमारे पास एक बहुत अच्छी तस्वीर है कि कैसे इस तरह का एक वायरस मनुष्यों में घूम सकता है और फैल सकता है। अगर यह वायरस कभी-कभी वायरस के मूल कहानी के कुछ हिस्सों को अनिवार्य रूप से छोड़ देता है, तो इसे ठीक करने में काफी समय लग सकता है।

ओगुनु ने कहा कि वायरस के लिए एक सिंथेटिक स्रोत का समर्थन करने के लिए अब तक कोई सबूत नहीं है। कोरोनोवायरस कीटाणुशोधन को आगे बढ़ाने के लिए यान के ट्विटर अकाउंट को सितंबर में निलंबित कर दिया गया था। उसने एक दूसरे ट्विटर अकाउंट से “दूसरी यान रिपोर्ट” साझा की, जिसे 34,000 से लोगों ने लाइक किया और उसे फालो किया।

साथ में, यान और उनके सहयोगियों द्वारा लिखे गए पत्रों ने यह पता लगाया कि कोरोनोवायरस के जीनोम  अनुक्रम में असामान्यताओं के रूप में उनकी पहचान क्या है। लेखकों ने यह भी कहा कि मानव कोशिकाओं को संक्रमित करने और बीमारी पैदा करने की वायरस की क्षमता को बढ़ाने के लिए वैज्ञानिकों द्वारा कोरोनोवायरस के जीनोम में हेरफेर किया गया था।

लेकिन बाहर के विशेषज्ञों ने यान की रिपोर्ट में कोई वैधता नहीं पाई है। कार्नेगी मेलन विश्वविद्यालय के एक वायरोलॉजिस्ट किशन टेलर ने कहा कि वायरस से आनुवांशिक आंकड़ों से पहले विरोधाभासी बयानों और निराधार व्याख्याओं से भरा था। जिगी होपकिंस सेंटर फॉर हेल्थ सिक्योरिटी के एक वरिष्ठ विद्वान और मूल यान रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देने वाले एक लेखक गिगी क्विक ग्रोनवॉल ने कहा कि दूसरी यान रिपोर्ट पहले की तुलना में और भी अधिक अपरिवर्तित थी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.