Jan Sandesh Online hindi news website

निकिता के हत्यारोपी को सजा दिलाने कि मांग लेकर किया विरोध प्रदर्शन

0

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद फरीदाबाद ने प्रदर्शन को दिया समर्थन राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य माधव रावत ने कहा कि कैम्पस में पिछले वर्ष 2019 जनवरी माह में छात्र संघ अध्यक्ष शुभम कपासिया पर दिन दहाड़े देशी कट्टे से हुए प्राणघातक हमले के बाद। आज एक बार फिर से एक दुःखद घटना घटित हुई है यह घटना कॉलेज प्रशासन की लचर व्यवस्था के कारण हुआ है। जिला संयोजक राहुल राणा ने बताया कि एबीवीपी ने छात्र संघ अध्यक्ष पर हुएं हमलें के विरोध में जोरदार विरोध प्रर्दशन किया था। उस समय कालेज प्राचार्य ने छात्रोंं को प्रर्दशन स्थल पर आकर आसवासन दिया था कि कालेज में शुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त की जाएगी।

निकिता के हत्यारोपी को सजा दिलाने कि मांग लेकर किया विरोध प्रदर्शन

और पढ़ें
1 of 3,053

लेकिन सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त नहीं कही गई जिसके कारण आज फिर यह घटना हम सभी के सामने है। प्रिति नागर ने कहा कल अग्रवाल कॉलेज बल्लभगढ़ के सामने फाइनल ईयर की छात्रा निकिता तोमर को सरेआम गोली मार दी गई जिसके बाद उसकी मौत हो गई। विद्यार्थी परिषद हत्याकांड की निंदा कर आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करती है। कंचन डागर ने कहा आखिर उसका गुनाह क्या था? जो उसे इस तरह से सरेआम गोली मार दी गई। पहले उसे जबरन गाड़ी में बैठाना चाहा और जब नहीं बैठी तो उसको गोली मार दी।

इस बेगुनाह बच्ची के साथ इन हत्यारों की क्या दुश्मनी थीं जो सीधा गोली ही मार दी? इतना बेखौफ होकर घूमने वाले अपराधियों में कानून नाम का कोई भय नहीं हैं? वो दिन कब आएगा जब हमारे देश में हमारी बहन-बेटियां अपने आप को सुरक्षित महसूस कर सकेंगी? मिडिया प्रमुख रवि पाण्डेय ने कहा विद्यार्थी परिषद मांग करती है इस हत्याकांड की विद्यार्थी परिषद कड़े शब्दों में निंदा करता है और इन हत्यारों को फांसी की सजा देने की मांग करता है। इस मौके पर शुभम शर्मा, मनजीत नागर, हेमंत राघव, मौनू समेत अनेक विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता समाजिक कार्यकर्ताओं ने रोस प्रकट किया।

Report – Ravi Pandey

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.