Jan Sandesh Online hindi news website

ठंड में चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले गिरोह के सक्रियता को लेकर कुशीनगर पुलिस हुई सतर्क,विशेष जांच के मूड में

0
उपेंद्र कुशवाहा
कुशीनगर : ठंड की दस्तक के साथ ही वारदातों को अंजाम देने वाले कई गिरोह भी सक्रिय हो जाते हैं। ऐसे में कुशीनगर की पुलिस अब सतर्क रहने के साथ विशेष जांच अभियान चलाने के मुड में है। कुशीनगर में एसपी विनोद कुमार सिंह ने रेलवे स्टेशन और सड़क किनारे झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों की विशेष रूप से जांच करने के निर्देश दिए हैं।
दरअसल,बावरिया व कच्छा बनियान गिरोह के बदमाश दिवाली के त्योहार से ही वारदात को अंजाम देना शुरू करते हैं। इसे देखते हुए पुलिस कप्तान जनपद के सभी थाने की पुलिस को दिशा-निर्देश जारी किया है। बावरिया गिरोह के सदस्य दिवाली की रात से लेकर कर होलिका दहन तक अलग-अलग जगहों पर जाकर वारदातों को अंजाम देते हैं। आमतौर पर ये लूट व डकैती के दौरान घर में मौजूद सदस्यों की हत्या तक भी कर देते हैं या उन्हें गंभीर रूप से घायल कर देते हैं।
ऐसे में एडीजी के निर्देश पर कुशीनगर के एसपी विनोद कुमार सिंह ने पुलिस को सतर्क रहने का निर्देश दिया है। उन्होंने शहर के बाहरी इलाकों की नई कॉलोनियों में खासकर गश्त बढ़ाने के निर्देश दिया है। एसपी ने कहा है कि इस तरह के लोग डेरा डालकर रहते हैं और खिलौने,कागज के फूल आदि बेचने के बहाने कॉलोनियों में जाकर पहले रेकी करते हैं और फिर घटनाओं को अंजाम देते हैं। लिहाजा खिलौने बेचने वाले, भिखारियों और घुमंतू लोगों की विशेष तलाशी ली जाए।
एसपी बिनोद कुमार सिंह की माने तो यह गिरोह रात के दो बजे के आसपास महिला सदस्यों के साथ के पुरूष सदस्य निकलते हैं। चिन्हित मकान के पास से पेड़ की हरी डाल तोड़ते हैं। घर में दाखिल होते ही सो रहे लोगों के चेहरे पर टार्च की रोशनी डालते हैं और सिर पर प्रहार कर हत्या करते हैं। ये इतने क्रूर होते हैं कि छोटे बच्चों को भी नहीं छोड़ते।
जिले में एक घटना को अंजाम देकर दूसरे जिलों में चले जाते हैं। बावरिया गिरोह के सदस्य यदि किसी मकान को निशाना बनाते हैं तो वहां बिना खून बहाए वापस नहीं आते। खून गिराना ये अपने लिए शुभ मानते हैं। उल्लेखनीय है कि कुशीनगर जिले के तमकुहीराज में भी गत वर्ष पहले बावरिया गिरोह ने छह लोगों को घायल कर लूटपाट करने वाली घटना को अंजाम दी थी। एसे में एसपी बिनोद कुमार सिंह ने बावरिया गिरोह की गतिविधियों पर जनपद के सभी थाने के पुलिस को निर्देश दिए हैं।
और पढ़ें
1 of 751
ये बरतें सावधानियां
अगर फेरी वालों से सामान खरीद रहे हैं तो उन्हें घर के अंदर ना आने दें। भीख मांगने वाली महिलाओं व बच्चों से सतर्क रहें।
पड़ोसियों व रिश्तेदारों के मोबाइल नंबर अपने पास रखें ताकि जरूरत पर काम आ सके। कोई आवाज होने पर हड़बड़ी में दरवाजा न खोलें। संदेह होने पर घर के अंदर व बाहर की लाइट जला दें और तत्काल पड़ोसी,रिश्तेदार व पुलिस को सूचना दें।
वैसे तो पुलिस हमेशा सतर्क रहती है,लेकिन ठंड को देखते हुए पुलिस को और सतर्कता बरतने को कहा गया है। रात्रि गश्त बढ़ाने व सीओ तथा थानेदार को रात के समय भ्रमणशील रहने को कहा गया है।
अयोध्या प्रसाद सिंह सिंह,अपर पुलिस अधीक्षक-कुशीनगर
ऐसे करते हैं वारदात
पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक, बावरिया गिरोह के बदमाश पहले शहर के बाहरी इलाकों में डेरा डालते हैं। गिरोह की महिलाएं खिलौने,कागज के फूल आदि बेचने के बहाने टोलियों में अलग-अलग इलाकों में जाकर रेकी करती हैं। लक्ष्य चिन्हित करने के बाद डकैती डालने से पहले लोहे की सरिया और अपने विशेष नुकीले औजारों की पूजा करते हैं।
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.