Jan Sandesh Online hindi news website

ककवन : खेत की रखवाली कर रहे किसान की हत्या, वजह पता लगा रही पुलिस

0

कानपुर, बिल्हौर क्षेत्र के ककवन थानांतर्गत गहदेवा रोड पर खेत पर धान की फसल की रखवाली करने गए किसान की धारदार हथियार से चेहरा व सिर कुचलकर हत्या कर दी गई। गुरुवार की सुबह खेत पर पहुंची पुत्री ने जमीन पर लगे बिस्तर पर पिता का रक्त रंजित शव पड़ा देखा तो चीख पड़ी। घटना की जानकारी पर गांव में सनसनी फैल गई और पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की है।

बिल्हौर क्षेत्र के ककवन कस्बे के गांव में किसान की हत्या की वारदात के बाद सनसनी फैल गई। खेत की रखवली करने गए पिता को देखने के लिए बेटी पहुंची तो रक्तरंजित शव देखकर सन्न रह गई। ग्रामीणों से सूचना मिलने पर पुलिस ने जांच शुरू कराई है।
और पढ़ें
1 of 159

ककवन निवासी 58 वर्षीय खुशीलाल कुशवाहा खेती-बाड़ी के साथ राजमिस्त्री का काम भी करते थे। परिवार में विवाहित पुत्र लालजीत, अविवाहित पुत्र शिवपाल व अविवाहित पुत्री मोहिनी साथ में रह रहे थे। उसकी पत्नी नन्ही की चार साल पहले मौत हो गई थी। उसके पास करीब 12 बीघा खेत हैं, जिससे वह परिवार का पालन पोषण कर रहा था, बड़ी बेटी की शादी कर चुका था।

भाई राजू ने पुलिस को बताया कि बुधवार रात खुशीलाल गहदेवा रोड के किनारे गांव से एक किलोमीटर दूर खेत पर कटी पड़ी धान की फसल की रखवाली करने गए थे । सुबह काफी देर तक वापस न लौटने पर पुत्री मोहिनी खेत पर गई तो पेड़ के नीचे जमीन पर बिस्तर पर पिता का लहूलुहान शव पड़ा देखा। इसपर वह भागकर गांव आई और घर वालों को जानकारी दी। घटना की जानकारी पर गांव में सनसनी फैल गई।

स्वजन और ग्रामीण मौके पर पहुंच गए ।सूचना पर पहुंची पुलिस ने जांच शुरू की और फॉरेंसिक टीम ने साक्ष्य एकत्र किए। थाना प्रभारी अमित कुमार मिश्रा ने बताया कि प्राथमिक जांच में अभी हत्या की वजह सामने नहीं आई है। घरवालों ने किसी से रंजिश न होने की बात कही है, तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। ग्रामीणों में चर्चा है कि दीपावली में छोटा बेटा जुएं में काफी रकम हार गया था।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.