Jan Sandesh Online hindi news website

प्रधानमंत्री 22 नवम्बर को मिर्जापुर एवं सोनभद्र की 23 ग्रामीण पाइप पेयजल योजनाओं का शिलान्यास वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे

0
और पढ़ें
1 of 492

लखनऊ: प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी 22 नवम्बर, 2020 को जल जीवन मिशन, उत्तर प्रदेश के अन्तर्गत विंध्य क्षेत्र के जनपद मिर्जापुर एवं सोनभद्र की 23 ग्रामीण पाइप पेयजल योजनाओं का शिलान्यास वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी मुख्य कार्यक्रम स्थल ग्राम पंचायत करमाँव, विकास खण्ड चतरा, जनपद-सोनभद्र से इस कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे। इन योजनाओं की कुल लागत 5555.38 करोड़ रुपये है।

विंध्य क्षेत्र में पाइप पेयजल योजनाओं के आच्छादन से शेष 2,995 राजस्व ग्रामों को लाभान्वित करने के लिए यह योजनाएं क्रियान्वित की जाएंगी। इन योजनाओं के पूर्ण हो जाने पर इन गांवों की 41,41,438 जनसंख्या को पाइप पेयजल सुविधा प्राप्त होगी। प्रधानमंत्री जी द्वारा घोषित जल जीवन मिशन के अन्तर्गत इन योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। योजनाओं के निर्माण के लिए फिजिबिलटी रिपोर्ट तैयार कराते हुए डी0पी0आर0 बनाने के लिए उच्च गुणवत्ता वाले कंसल्टेण्ट्स का चयन किया गया।

इनके द्वारा सतही जल स्रोत आधारित 23 योजनाओं एवं भूगर्भ जल स्रोत आधारित 140 योजनाओं के माध्यम से विंध्य क्षेत्र के सभी ग्रामों को संतृप्त करने की डी0पी0आर0 तैयार की गयी। भूगर्भ जल स्रोत आधारित योजनाओं को सतही जल स्रोत आधारित योजनाओं के साथ क्लब किया गया है। इन योजनाओं के अन्तर्गत ग्रामीण परिवारों को 7,35,094 जल संयोजन प्रदान किये जाएंगे। इन योजनाओं का 10 वर्ष तक रख-रखाव भी निर्माण करने वाली संस्था द्वारा किया जाएगा।
विंध्य क्षेत्र में कुल 3,393 राजस्व ग्राम हैं, जिनकी आबादी 45,40,829 है। इनमें से 398 ग्रामों को 126 पूर्ण तथा 17 निर्माणाधीन पाइप पेयजल योजनाओं से आच्छादित किया गया है। शेष 2,995 गांवों को पाइप पेयजल योजनाओं से आच्छादित करने के लिए मुख्यमंत्री जी द्वारा इन योजनाओं के संचालन का निर्णय लिया गया।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.