Jan Sandesh Online hindi news website

अब किसान भी अपने बच्चों को दिला पाएंगे उच्च शिक्षा, सहकारी बैंक देगा कम ब्याज पर ऋण

0

कानपुर, अब किसानों को बच्चों को पढ़ाने में होने वाले खर्च के लिए निजी बैंकों का मुंह नहीं ताकना पड़ेगा। किसानों को बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाने के लिए उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक कम ब्याज पर ऋण मुहय्या कराएगा। उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक के सभापति संतराज यादव ने कहा है कि किसान अपने बच्चे अगर उच्च शिक्षा दिलाना चाहते हैं तो उत्तर प्रदेश सहकारी भूमि विकास बैंक 4 फीसद ब्याज दर से शिक्षा लोन प्रदान करेगा।

और पढ़ें
1 of 2,230
उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक के सभापति संतराज यादव ने कहा है कि अब किसान के बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए 4 फीसद की दर से लोन दिया जाएगा। उन्होंने कानपुर में छह जिलों की बैंक शाखा के अफसरों के साथ समीक्षा बैठक की।

उन्होंने बताया कि योजना अभी आई है और इस पर काम भी चल रहा है। अगले शिक्षा सत्र से किसान के बच्चों को लोन मिलना शुरू हो जाएगा। बैंक की मंडलीय समीक्षा बैठक लेने आए संतराज यादव ने प्रगति की जानकारी ली। समीक्षा बैठक में छह जिलों के 21 शाखा के अधिकारी उपस्थित रहे। उन्होंने कहा कि अब तक बैंक जिन लोगों के हाथों में था, उन्होंने इसे अपनी निजी संपत्ति के रूप में उपयोग किया था। इन लोगों ने बैंकों की हालत बहुत खराब कर दी। अब हम लोग सामूहिक प्रयास से सभी बैंक शाखाओं की स्थिति सुधारने का काम कर रहे हैं। इसमें दो-तीन महीने का समय लग सकता है।

सभापति ने कहा कि एसआइटी ने पिछले दिनों बैंक में भर्तियों में हुई गड़बड़ियों की जांच शुरू कर चुकी है। इसके अलावा जरूरत पड़ी तो अन्य जांच के लिए भी संस्तुति की जाएगी। उन्होंने बताया कि बैंक किसानों को उनके खेती से जुड़े किसी भी कार्य या उद्योग लगाने के लिए 6 फीसद की दर से लोन देता है लेकिन इस योजना का कोई प्रचार-प्रसार नहीं किया गया। इसलिए इस पर जल्दी ही सभाएं की जाएंगी और होर्डिंग भी लगाई जाएंगी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.