Jan Sandesh Online hindi news website

ऑनलाइन ट्रांसफर करते हैं बड़ी रकम? तो अगले महीने बदल जाएंगे इससे जुड़े नियम, आपको भी होनी चाहिए जानकारी

0

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। समय की जरूरत के हिसाब से नियमों में परिवर्तन देखने को मिलते हैं। बैंकिंग और फाइनेंस सेक्टर भी इससे अछूते नहीं हैं। अब बैंकिंग सेक्टर का जिक्र आते ही फंड ट्रांसफर की बात का सामने आना लाजमी है। हाल के वर्ष और खासकर पिछले कुछ महीनों में देश में पैसे को ऑनलाइन ट्रांसफर करने का चलन बढ़ा है। इसी कड़ी में RTGS की बात करते हैं। आप इस बात से अवगत होंगे कि दो लाख रुपये से अधिक की रकम ऑनलाइन ट्रांसफर करने के लिए लोग इस माध्यम का इस्तेमाल करते हैं। आरटीजीएस से जुड़े नियमों में दिसंबर की शुरुआत से बड़ा परिवर्तन होने वाला है।

समय की जरूरत के हिसाब से नियमों में परिवर्तन देखने को मिलते हैं। बैंकिंग सेक्टर भी इससे अछूता नहीं है। अब बैंकिंग सेक्टर का जिक्र आते ही फंड ट्रांसफर की बात का सामने आना लाजमी है। हाल के वर्ष में पैसे को ऑनलाइन ट्रांसफर करने का चलन बढ़ा है।

अब किसी भी समय किया जा सकेगा RTGS

एक दिसंबर से रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट की सुविधा सप्ताह के सातों दिन और साल के सभी दिन उपलब्ध रहेगा। इससे पहले महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर सभी कामकाजी दिनों में सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक इस सिस्टम के जरिए पैसे का हस्तांतरण किया जा सकता था। यह छोटे एवं बड़े कारोबारियों के लिए काफी राहत भरा फैसला है, जिन्हें अब बड़ी रकम ट्रांसफर करने के लिए बैंक के कामकाजी दिन का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। पिछले साल ही NEFT की सुविधा भी 24 घंटे मिलनी शुरू हुई थी।

और पढ़ें
1 of 1,246

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले महीने मौद्रिक नीति समिति की द्विमासिक बैठक के बाद यह जानकारी दी थी कि इस साल दिसंबर से रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट की सुविधा 24×7 उपलब्ध रहेगी।

उन्होंने कहा था, ”दिसंबर, 2019 में आरबीआई ने नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (NEFT) की सुविधा को 24x7x365 पर उपलब्ध कराया था और यह प्रणाली सुचारू तरीके से काम कर रही है। घरेलू कारोबारियों एवं संस्थाओं को रियल टाइम में भुगतान की सुचारु व्यवस्था उपलब्ध कराने के लिए आरटीजीएस सिस्टम को सभी दिन उपलब्ध कराने का निर्णय किया गया है।”

भारत चुनिंदा देशों में हो जाएगा शुमार

दास ने कहा था कि RTGS को 24x7x365 के आधार पर लागू करने के बाद ऐसा करने वाला दुनिया के बेहद चुनिंदा देशों में शुमार हो जाएगा, जहां किसी भी समय बड़ी रकम भेजी जा सकती है। इससे बड़े भुगतान के लिए उपयुक्त इको सिस्टम तैयार करने और कारोबारी सुगमता को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।

कैसे काम करता है यह सिस्टम

आरटीजीएस सिस्टम के तहत पैसे ट्रांसफर करने पर बेनिफिशियरी के बैंक की शाखा को रियल टाइम में पैसे प्राप्त होते हैं। इसके बाद बैंक को दो घंटे के भीतर बेनिफिशियरी के अकाउंट में पैसे क्रेडिट करने होते हैं।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.