Jan Sandesh Online hindi news website

LaGravitea Cafe : चाय के शौकिनों के लिए यहां मिलती है 150 प्रकार की चाय, एक कप चाय की कीमत 50 से 1250 रुपये तक

0

जमशेदपुर । दुनियाभर में भारतीय चाय का कोई सानी नहीं है। सुबह उठते ही एक प्याला बढ़िया चाय मिल जाए तो हम एक नया जोश, नई उमंग महसूस करते हैं। चाय पीने से हम तरोताजा तो महसूस करते ही हैं साथ ही आलस्य भाग जाता है व नई चुस्ती-फुर्ती आ जाती है। वैसे भी चाय न सिर्फ सुबह की जरूरत है, बल्कि दिनभर में कभी भी पीने से यह हमें ताजगी से भर देती है। चाय न केवल एक पेय है, अपितु यह हमारे देश की संस्कृति का एक अंग है।

और पढ़ें
1 of 292

घर आए मेहमान का स्वागत चाय पिलाकर करना हमारी सभ्यता में शुमार है। भारत ही नहीं, बल्कि कई देशों में चाय पिलाने का रिवाज है। जापान उनमें से एक है, जहाँ चाय पिलाना उसकी मेहमान नवाजी में शामिल है। अब हम आपको एक ऐसी जगह चाय पीने के लिए ले चलते है जहां 150 तरह की चाय बनती है। झारखंड के जमशेदपुर जिले के सर्किट हाउस में स्थित ला ग्रेविटी में 150 प्रकार की चाय मिलती है।

चाय के शौकिनों के लिए यहां मिलती है 150 प्रकार की चाय, एक कप चाय की कीमत 50 से 1250 रुपये तक

यहां जापान के विश्व प्रसिद्ध जापानी माचा, जापानी फेंचा से लेकर दुनिया में नामी आसाम व दार्जिलिंग की प्रसिद्ध चाय मिलती है। इस चाय की दुकान में यदि आप पहुंच गए तो यहां चाय के साथ ही चाय की अनोखी कप, एक से बढ़कर एक पॉट देखने व समझने के लिए मिल जाएगा। यह दुकान एक प्रकार से चाय पर शोध करने वालों के लिए एक प्रयोगशाला से कम नहीं है। चाय के शौकिन ऐसे हैं कि टाटा स्टील के बड़े अधिकारी, बड़े व्यापारी से लेकर दूर-दराज से लोग यहां चाय की चुस्की लेने आते हैं। इसके साथ ही शहर के चाय के शौकिनों का तांता सुबह से शाम तक यहां लगा रहता है।

ला ग्रेवि‍टी में 50 रुपये से लेकर 750 रुपये तक का ग्लूमिंग चाय मिलता है। इसके साथ ही परिवार के लिए स्पेशल पॉट चाय की भी सुविधा है। इसमें अलग-अलग फ्लेवर की चाय को पॉट में डालकर दिया जाता है। इसका आनंद परिवार के लोग एक साथ लेते हैं। इसकी कीमत 300 रुपये से लेकर 1250 रुपये तक है। ला ग्रेवि‍टी के संचालक अविनाश दुग्गड़ कहते हैं कि उनकी इच्छा है कि अपने देश की सोंधी मिट्टी यानि कुल्हड़ चाय की खुशबू पूरे दुनिया में फैलाऊं। इनकी दुकान की एक खासियत यह भी है कि यहां सभी कर्मचारी मूक बधिर हैं। शेफ से लेकर सारे कर्मचारी। अव‍िनाश भारत की चाय की खुशबू दुनिया में फैलाने की इच्छा रखते हैं।

प्रति कप चाय का प्रकार व उसकी कीमत

मैंगो चाय – 100 रुपये

ऑरेंज चाय – 100 रुपये

वनिला चाय – 100 रुपये

पाइनएप्पल चाय – 100 रुपये

पीच चाय – 100 रुपये

बार्बन चाय – 100 रुपये

बनाना चाय – 100 रुपये

रेसबेरी चाय – 120 रुपये

कावा – चाय – 120 रुपये

कावा गिनसिंग चाय – 250 रुपये

जाफरानी चाय – 120 रुपये

सुलेमानी चाय – 120 रुपये

विक्टोरियन रॉयल जिनसिंग, सैफरान – 320 रुपये

ग्लूमिंग चाय – 750 रुपये

लॉ ग्रेवेटी में परिवार के साथ पॉट चाय

सेलेब्रेशन चाय – 700 रुपये

व्हाइट चाय – 700 रुपये

क्राउन ज्वेल – 700 रुपये

इम्रेल सन – 700 रुपये

फूल ब्लूम – 700 रुपये

हर्ट ऑफ हैप्पिनेस – 700 रुपये

राइजिंग स्टार – 700 रुपये

हर्ट ऑफ गोल्ड – 750 रुपये

लेमनग्रास – 300 रुपये

मां के हाथ का कड़क – 300 रुपये

सासू मां के हाथ का कड़क – 340 रुपये

जाफरानी – 450 रुपये

सुलेमानी – 450 रुपये

विक्टोरियन रॉयल जिनसिंग, सैफरान – 1250 रुपये

चाय की बढ़ी है मांग

ला ग्रेवि‍टी के संचालक अविनाश दुग्गड़ कहते हैं कि कॉफी की तुलना में चाय की मांग देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी बढ़ी है। इसका कारण यह है कि कॉफी में ज्यादा कैफिन रहता है। यह चाय की तुलना में दोगुनी रहती है। काॅफी की तुलना में चाय पीना सेहत के लिए फायदेमंद है। चाय को हम दूध के साथ, तुलसी, अदरक, लेमन ग्रास मिलाकर हर्बल चाय के रूप में सेवन करते हैं। शहर के ख्याति प्राप्त लोग सरकारी हो या गैर सरकारी, टाटा स्टील के बड़े अधिकारी कैमोमाइल नामक फूल को ग्रीन टी में डालकर पीते हैं। इसके सेवन से लोग ऊर्जावान तो होते ही हैं, उनकी कार्यक्षमता में वृद्धि भी होती है।

11 मूक बधिरों को लेकर चला रहे दुकान

ला ग्रेवि‍टी के संचालक अविनाश दुग्गड़ कहते हैं कि उनकी दुकान में शेफ से लेकर कर्मचारी तक मूक बधिर हैं। यहां कुल 11 कर्मचारी हैं। उनकी दुकान में सभी को समय पर वेतन से लेकर खाने-पीने की सुविधा दी जाती है। काम करने वालों में भी एक से बढ़कर एक खिलाड़ी व अपनी विद्या में माहिर लोग हैं। बिना सुने सारा काम इशारे ही इशारे में करते हैं।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.