Jan Sandesh Online hindi news website

1993 से भाजपा में आकर राजनीति में किया था शुरुआत,टिकट ना मिलने से बागी बनकर चंद्रभान कुशवाहा ने लड़े थे चुनाव

0

उपेंद्र कुशवाहा

और पढ़ें
1 of 786

पडरौना,कुशीनगर : गुजरात से लौटने के कुशीनगर में भारतीय जनता पार्टी से राजनीति शुरुआत करने वाले चंद्रभान कुशवाहा ने 1993 से पडरौना से राजनीति शुरू की थी.लंबे समय तक भाजपा में पूरी मेहनत के साथ काम करने के बावजूद टिकट न मिलने के कारण वर्ष 2007 में पार्टी से बागी बन कर विधानसभा का चुनाव भी लडा.जबकि उन्हें चुनाव में जीत नहीं मिली तो श्री कुशवाहा ने पूर्वांचल भ्रष्टाचार मुक्त मंच के बैनर तले राजनीति किए.उन्होंने बड़ी रेल बनाओ संघर्ष समिति के तहत लंबी लड़ाई लड़कर बड़ी रेल बनाने के लिए धरना प्रदर्शन से लेकर रेलवे विभाग को ज्ञापन सौंपकर मांग पूरी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी.इतना ही नहीं अपनी राजनीति के कार्यकाल में उन्होंने समाज के लिए लड़ाई लड़ते रहे।

उधर इनके परिवार में 15 दिन के भीतर दो लोगों की हुई आकस्मिक मौत से अस्वस्थ हुए चंद्रभान कुशवाहा कोरोना चपेट में आने के बाद गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में कोविड वार्ड चल रहे इलाज के दौरान इनका निधन हो गया। चंद्रभान कुशवाहा की निधन की सूचना मिलते ही भाजपा जिला अध्यक्ष प्रेमचंद्र मिश्रा समेत तमाम राजनीतिक दलों के अलावा कुशवाहा समाज से जुड़े लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए इनकी आत्मा की दुआ मांग रहे थे।

गौरतलब हो कि भाजपा के जिला उपाध्यक्ष रहे चंद्रभान कुशवाहा के परिवार में इनके बड़े भाई की पिछले महीने ही आकस्मिक निधन हो गई थी,जबकि अभी बड़े भाई की मौत हुए 15 दिन भी नहीं बीते थे कि परिवार में एक और भाई की पत्नी रीना कुशवाहा का भी अचानक निधन हो गया। इसके बाद भाजपा नेता चंद्रभान कुशवाहा अस्वस्थ चलने लगे थे.श्री कुशवाहा का इलाज गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में जांच के दौरान कोरोना वायरस के चपेट में आ गए.इसके बाद भाजपा नेता श्री कुशवाहा का इलाज मेडिकल कॉलेज के ही कोविड वार्ड में चल रहा था.सोमवार को दोपहर बाद इनका निधन हो गया। भाजपा नेता मृतक चंद्रभान कुशवाहा के परिजनों की मानें तो इनका अंतिम संस्कार मंगलवार की सुबह गोरखपुर के ही राजघाट में किया जाएगा।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.