Jan Sandesh Online hindi news website

‘Made In India’ कोरोना वैक्सीन की पूरी दुनिया में बढ़ी डिमांड, इन देशों ने भारत से मांगी कोरोना वैक्सीन

0

भारत शुरू से ही कोविड 19 महामारी के खिलाफ़ लड़ाई में वैश्विक प्रतिक्रिया में सबसे आगे रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद कहा है कि भारत दुनिया के लिए बड़ी उम्मीद बनकर उभरा है। कोरोना महामारी के बीच ‘मेड इन इंडिया’ कोविड वैक्सीन की मांग दुनिया मे बढ़ती जा रही है। भारत की वैक्सीन का पूरी दुनिया इंतजार कर रही है। कोरोना वैक्सीन के वितरण में भारत सरकार बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, श्रीलंका और अफगानिस्तान जैसे पड़ोसी देशों को तवज्जो देगी। साथ ही अन्य देशों से आने वाली डिमांड को भी पूरा करने का प्रयास किया जाएगा।

गरीब देशों के लिए डब्ल्यूएचओ में जाहिर की गई प्रतिबद्धता को भी भारत पूरा करेगा।  कई देशों ने भारत से अनुरोध किया है कि वे सरकारी स्तर पर (गवर्नमेंट टू गवर्नमेंट के आधार पर) या सीधे वैक्सीन डेवलपर्स के साथ समझौते के निर्देश दें, जो भारत में वैक्सीन का निर्माण कर रहे हैं।

और पढ़ें
1 of 3,162

अब तक करीब दस देश ऐसे हैं, जिन्होंने भारत में बनी वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए अनुरोध किया है। वैक्सीन की मांग आने वाले दिनों में कई गैर एशियाई देशों से भी आने वाली है। सूत्रों ने कहा, कम लागत और प्रभावी डेटा के आधार पर मांग लगातार बढ़ रही है।

सूत्रों ने कहा भारत अपनी जरूरतों को पूरा करने के साथ दुनिया के अन्य देशों को आपूर्ति सुनिश्चित करेगा। ब्राजील, मोरक्को, सऊदी अरब, म्यांमार, बांग्लादेश, दक्षिण अफ्रीका, मंगोलिया, श्रीलंका जैसे देशों ने भारत से वैक्सीन की आधिकारिक तौर पर मांग की है। कोरोना वायरस के कारण दुनिया भर में कई महत्वपूर्ण इवेंट को रद्द या स्थगित करना पड़ा है. आइए जानते हैं कौन-कौन से इवेंट इसकी वजह से रद्द हुए हैं.

उधर नेपाल ने भारत से 120 लाख कोरोना वैक्सीन के डोज की मांग की है। वहीं, भूटान ने पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में निर्मित की जा रही वैक्सीन की 10 लाख डोज की मांग की है। म्यांमार ने भी सीरम के साथ एक खरीद अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं। बांग्लादेश ने कोविशील्ड की तीन करोड़ डोज के लिए पहले ही अनुरोध किया है।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.