Jan Sandesh Online hindi news website

तमिलनाडु में तीसरे मोर्चे का विजयकांत के बेटे ने दिया संकेत

0

चेन्नई। आगामी विधानसभा चुनावों से पहले तमिलनाडु में राजनीतिक समीकरण बदलने की संभावना की ओर इशारा करते हुए डीएमडीके नेता विजयकांत के बेटे विजय प्रभाकरन ने कहा कि उनके पिता तीसरा मोर्चा बनाने के लिए काफी बोल्ड (स्पष्ट) हैं। उन्होंने कहा, अगर लोग बदलाव चाहते हैं और तीसरे मोर्चे का समर्थन करते हैं, तो हम निश्चित रूप से जीतेंगे।

त्रिची में पत्रकारों से बात करते हुए, प्रभाकरन ने ऐसा इशारा दिया कि सत्तारूढ़ अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (अन्नाद्रमुक) के साथ अपना गठबंधन जारी रखने को लेकर वह वचनबद्ध नहीं हैं। उन्होंने द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) के साथ गठबंधन से भी इनकार नहीं किया और कहा कि पार्टी लोगों के कल्याण के बारे में चिंतित किसी भी दल से हाथ मिला सकती है।

प्रभाकरन से सवाल पूछा गया कि क्या पूर्व पार्टी महासचिव वी.के. शशिकला को जेल से रिहा करने पर सत्तारूढ़ दल में फैले भ्रम के बावजूद डीएमडीके एआईएडीएमके के साथ गठबंधन जारी रखेगा। इस पर उन्होंने कहा, गठबंधन का फैसला समय करेगा।

और पढ़ें
1 of 10

उन्होंने कहा कि शशिकला का अभी चेन्नई लौटना बाकी है और वह अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखेंगी और अन्य मुद्दों पर गौर करेंगी। प्रभाकरन ने कहा, हम शशिकला मैडम का समर्थन करते हैं, क्योंकि एक महिला के तौर पर उन्होंने सभी बाधाओं के खिलाफ लड़ाई लड़ी। हालांकि उन्हें अभी खुद को एक नेता के रूप में साबित करना है।

प्रभाकरन की टिप्पणी से कुछ दिन पहले ही उनकी मां और डीएमडीके कोषाध्यक्ष प्रेमलता विजयकांत ने कहा था कि पार्टी एआईएडीएमके गठबंधन में बनी रहेगी। हालांकि उन्होंने गठबंधन में सीट बंटवारे में देरी को लेकर अपनी चिंता व्यक्त की थी।

उन्होंने यह भी टिप्पणी की थी कि एक महिला के तौर पर उन्हें शशिकला से सहानुभूति है। प्रेमलता ने कहा कि आप सभी की तरह मैं भी इंतजार कर रही हूं कि एआईएडीएमके में कोई बदलाव होगा या नहीं, लेकिन एआईएडीएमके नेतृत्व ने स्पष्ट किया है कि शशिकला पार्टी में शामिल नहीं होंगी।

डीएमडीके ने एआईएडीएमके के साथ गठबंधन में 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ा था। हालांकि पार्टी एक भी सीट जीतने में सफल नहीं हो पाई थी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.