Jan Sandesh Online hindi news website

हरदोई के कालाआम निवासी कुलपति बने प्रो. एडीएन वाजपेयी

0
और पढ़ें
1 of 20

हरदोई – जिले के गांव कालाआम के निवासी शिक्षाविद प्रोफेसर अरुण दिवाकर नाथ बाजपेयी को छत्तीसगढ़ की महामहिम राज्यपाल/कुलाधिपति डॉ. अनुसुइया उइके ने अटल बिहारी बाजपेयी विश्वविद्यालय बिलासपुर का कुलपति नियुक्त किया है। उनके चौथी बार कुलपति बनने पर श्री सरस्वती सदन, आप-हम चेतना मंच और संयुक्त ब्राह्मण महासभा सहित जिले की साहित्यिक व सांस्कृतिक संस्थाओं और शिक्षा-साहित्य जगत के लोगों ने उन्हें बधाई दी तथा खुशी जतायी।
विलासपुर विधि के नवनियुक्त कुलपति प्रोफेसर एडीएन वाजपेयी का कार्यकाल 5 वर्षों का होगा। एडीएन बाजपेयी के नाम से ख्यात प्रो. वाजपेयी वर्ष 2004 में अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति नियुक्त किए गए थे। उनकी कार्य क्षमता एवं प्रशासनिक कुशलता को देखते हुए तत्कालीन कुलाधिपति द्वारा उन्हें महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय का भी कुलपति का प्रभार सौंप दिया था।
हिमाचल प्रदेश की तत्कालीन कुलाधिपति उर्मिला सिंह द्वारा उन्हें वर्ष 2012 में हिमाचल विश्वविद्यालय का कुलपति नियुक्त किया जहां वे दो कार्यकाल तक कुलपति के पद पर बने रहे। इस दौरान उन्होंने वहां अनेक महत्वपूर्ण कार्यों का श्रीगणेश किया और हिमाचल विश्वविद्यालय को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित किया।
प्रो. वाजपेयी अर्थशास्त्र के विद्वान होने के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों के भी प्रकांड पंडित हैं।
कोरोना काल में उनके द्वारा सैकड़ों व्याख्यान वेबीनार के माध्यम से दिए। इनमें भारतीय संस्कृति, दर्शन, शिक्षा, नई शिक्षा नीति एवं विकासोन्मुखी योजनाओं से संबंधित विषय शामिल है।
प्रो. वाजपेयी एक उत्कृष्ट कवि के रूप में भी विख्यात हैं और दिवाकर सतसयी नाम से उनके दोहों का संग्रह भी प्रकाशित है।
प्रो. बाजपेयी ने अपने शैक्षणिक जीवन की शुरुआत छत्तीसगढ़ से ही की थी । तदुपरांत वे रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में प्राध्यापक, उपाचार्य और आचार्य के पद पर आसीन हुए। प्रो. वाजपेयी अखिल भारतीय अर्थशास्त्र परिषद के अध्यक्ष रहे । परिश्रम एवं मेधा के बल पर वे एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने 4 विश्वविद्यालयों के कुलपति का पद सुशोभित किया है। श्री सरस्वती सदन की ओर 2014 में हुए वार्षिकोत्सव में उन्हें सारस्वत सम्मान से सम्मानित किया गया था। वहीं आप और हम चेतना मंच की स्थापना पर वह बतौर मुख्य अतिथि आते थे। वहीं हरपालपुर में हुए भगवान परशुराम प्रेरणा ट्रस्ट के सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार में मुख्य अतिथि के रूप में एक सैकड़ा से अधिक वटुकों को उनका संस्कार दीक्षा पर व्याख्यान वह आशीर्वाद मिला था।
प्रो. बाजपेयी के कुलपति पद पर नियुक्त होने पर सरस्वती सदन अध्यक्ष अरुणेश वाजपेई, पुस्तकालयाध्यक्ष सीमा मिश्र, और चेतना मंच के संयोजक कमलेश पाठक, महासचिव महेश मिश्र, अवनि कांत बाजपेयी सहित जिले के बुद्धिजीवियों, शिक्षा और साहित्य क्षेत्र के लोगों ने उन्हें बधाई दी और खुशी जताई।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.