Jan Sandesh Online hindi news website

Assembly Elections-2021: 5 राज्यों में एलान हुआ चुनाव तारीखों का, बज गया चुनावी बिघुल

0

चुनाव आयोग के मुक्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) सुनील अरोड़ा ने 5 राज्यों में चुनाव तारीखों का एलान करके चुनावी बिघुल बजा दिया। इस बार पश्चिम बंगाल में सबसे लंबा चुनाव होगा और यह 8 चरणों में होगा, जबकि पांचो राज्यों में 2 मई को परिणाम घोषित होंगे।

और पढ़ें
1 of 27

भारत के 4 राज्यों में 27 मार्च से विधानसभा चुनाव की तारीखों का एलान हो गया जिसमे पश्चिम बंगाल प्रमुख़ राज्य हैं और इसके साथ ही तमिलनाडु, असम, केरल और 1 केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी हैं। पांचो राज्यों में 27 मार्च से चुनाव है और चुनाव परिणाम घोषित 2 मई को होंगे।

चुनाव आयोग ने तारीखों का एलान करते हुए कहा कि तमिलनाडु में एक चरण में सभी 232 सीटों पर एक चरण में चुनाव होगा, जबकि केरल और पुडुचेरी में भी एक चरण में चुनाव होगा। लेकिन असम में 3 चरण और बंगाल ने सबसे ज्यादा 8 चरणों में चुनाव होने हैं।

तमिलनाडु में 6 अप्रैल को वोटिंग होगी, केरल और पुडुचेरी में भी 6 अप्रैल को वोटिंग होनी हैं, पर असस में 27 मार्च को पहले चरण में वोट डाले जाएंगे, जबकि दूसरे चरण में 1 अप्रैल और तीसरे और अंतिम चरण में 6 अप्रैल को वोटिंग होनी हैं।

पश्चिम बंगाल एकलौता राज्य है, जहाँ इसबार जो कोरोना महामारी में भी सबसे ज्यादा चरणों में वोटिंग होनी है, पहले चरण का मतदान 27 मार्च को, दूसरे चरण का मतदान 1 अप्रैल को, तीसरे चरण का मतदान 6 अप्रैल को, चौथे चरण का मतदान 10 अप्रैल को, पांचवे चरण का मतदान 17 अप्रैल को, छठे चरण का मतदान 22 अप्रैल को, 27 अप्रैल को सातवें चरण का मतदान और अंतिम चरण का मतदान 29 अप्रैल को होना हैं। मुख्य चुनाव आयोग ने यह भी बताया कि पश्चिम बंगाल में इसबार 1 लाख से ज्यादा केंद्रों में वोट डाले जाएंगे, कोरोना महामारी के चलते मतदान केंद्रों की संख्या भी बड़ाई हैं साथ ही इसबार 1 घंटे मतदान देने का समय भी बढ़ा दिया गया हैं।

क्यों ख़ास हैं पश्चिम बंगाल का मतदान?

इसबार का मतदान बीजेपी और TMC के लिए काफी अहम हैं, जहाँ एक तरफ बंगाल की CM ममता बनर्जी दीदी जीत की हैट्रिक लगाने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रही हैं तो वहीँ दूसरी ओर बीजेपी सियासी ज़मीन ढूंढने में लगी हैं। इसमें कोई शक नही हैं कि पिछले कुछ समय में बीजेपी एक बड़ी पार्टी बनके उभरी हैं बंगाल में परंतु इसबार यह टक्कर काफी अहम होने वाली हैं।

ज़ुबानी जंग हो या खुनी जंग सब राजनीतिक पार्टियों ने अपनी हदें पार कर दी है, जबकि बीजेपी ने सियासी संग्राम को देखते हुए अपनी कमर कास ली हैं और ताबड़तोड़ रैलियाँ कर रही हैं तो व्ही दूसरी तरफ ममता दीदी सड़क पे पैदल मार्च निकाल के लोगों से सीधा संवाद कर रही हैं। यह बात सबको पता हैं कि पिछले कुछ समय से बंगाल में बीजेपी के कई छोटे और बड़े नेताओं पे जानलेवा हमले हुए हैं जिसमे कई बीजेपी नेताओं ने अपनी जान तक खो दी। वहीँ पिछले हफ्ते ही ज़िंदा बम से वन विभाग मंत्री पश्चिम बंगाल के ऊपर भी भरी महफ़िल ने हमला हुआ। तो वहीँ पिछले महीने बीजेपी के राष्ट्र अध्यक्ष जेपी नड्डा जी पे भी जानलेवा हमला किया गया था।

क़ानून व्यवस्था को देखते हुए चुनाव आयोग ने केवल बंगाल में 8 चरणों ने चुनाव करवाने का फैसला लिया हैं ताकि किसी भी तरह की हिंसा ना हो सके और निष्पक्ष चुनाव हो सके। इसपर भी उंगलियाँ उठायी गई पर चुनाव आयोग अपने सर्वे के मुताबिक ही यह निर्णय लिया हैं कि बंगाल में 8 चरणों में चुनाव होगा।

यह चुनाव बीजेपी और TMC के बीच ही होना हैं और इसबार का चुनाव 2024 और आने वाले वक़्त का भी एक मुसैदा तैयार करेगा कि इसबार किसकी सरकार सबसे ज्यादा ताक़तवर और लोकप्रिय हैं।

इस लेख के जरिए मैं चुनाव आयोग से बस इतनी सी गुज़ारिश करूँगा कि निस्पक्ष चुनाव हो और साथ ही कानून व्यवस्था भी बने रहे। यह भारत का लोकतंत्र ही हैं जो हम्हे मतदान करने की इज़ाज़त देता हैं उम्मीद करता हूँ कि बंगाल और बाकि के 4 राज्यों को एक मजबूत और अच्छे सरकार मिले जो उस राज्य के लोगों के लिए काम करे।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.