Jan Sandesh Online hindi news website

प्रदेश महामंत्री पंकज सक्सेना जीने समिति द्वारा स्कूल संचालकों के हितार्थ बनाए गए नियम पर सुझाव दिया

0

आज दिनांक 28 फरवरी 2021 को बेसिक शिक्षा समिति पीलीभीत की एक बैठक मुख्य अतिथि प्रदेश उपाध्यक्ष श्री सर्वेश पाठक की अध्यक्षता में गुरु नानक अकैडमी निकट रेलवे लाइन गुरुद्वारा पीलीभीत में संपन्न हुई बैठक में विशिष्ट अतिथि पंकज सक्सेना प्रदेश महामंत्री राजीव यादव प्रदेश मंत्री अवनींद्र स्नातक संगठन प्रदेश संगठन मंत्री प्रदीप गुप्ता ब्लॉक अध्यक्ष श्री बरेली तथा बैठक का संचालन राजेश पटेल जिला प्रभारी बेसिक शिक्षा समिति पीलीभीत ने किया.
बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश उपाध्यक्ष श्री सर्वेश पाठक ने कहा बेसिक शिक्षा समिति उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त विद्यालयों के हितार्थ पिछले 40 वर्षों से निरंतर कार्य कर रही है जब जब प्रशासन ने स्कूल संचालकों को डालने की कोशिश की है तब तक समिति ने आगे बढ़कर संघर्ष किया तथा सफलता हासिल की है जैसा की सर्वविदित है कि आज हम सभी लोग मौजूदा दौर में विश्व व्यापी कोरोना महामारी के प्रभाव से काफी आहत और ग्रस्त हैं जहां एक और हम सबके सामने स्कूल ना खुल पाने की वजह से रोजी-रोटी का संकट उत्पन्न हो गया है वही हम से जुड़े तमाम लोग बेरोजगार हो गए हैं हमारी सरकार जो पूंजी पतियों के हाथों की कठपुतली बनकर काम कर रही है तथा हमारे स्कूलों को बंद कराने के लिए नित नए नियम थोपने की कोशिश कर रही है ऐसे में आज हमको अपना अस्तित्व बचाना मुश्किल हो गया है हमारा आप सभी स्कूल संचालकों से विनम्र अनुरोध है कि ऐसे समय में अपना धैर्य बनाए रखें और संयम से काम ले अभी भी वक्त है कि हम लोग यदि थोड़ी सी समझदारी से काम लें तो आने वाले समय आर्थिक एवं मानसिक रूप से काफी मजबूत होगा हमारा सभी स्कूल संचालकों से अनुरोध है कि आप लोगों के द्वारा दिए गए सुझावों को दृष्टिगत रखते हुए निम्नलिखित नियम तय किए गए हैं जिसका अनुपालन करने से किसी व्यक्ति विशेष को नहीं वरन समस्त स्कूल संचालकों को लाभ पहुंचेगा.
प्रदेश महामंत्री पंकज सक्सेना जीने समिति द्वारा स्कूल संचालकों के हितार्थ बनाए गए नियम पर सुझाव दिया
नंबर 1.समस्त स्कूल संचालक कक्षा 2 से ऊपर की कक्षाओं में बिना किसी लिए एडमिशन नहीं लेंगे 2. स्कूल संचालकों की निर्धारित फीस में आ कारण किसी प्रकार की कटौती नहीं करेंगे
3. एक ही अभिभावक की दो या दो से अधिक संतान होने पर स्कूल संचालकों द्वारा उन्हें निर्धारित फीस में कोई रियासत नहीं दी जाएगी
4. प्रत्येक छात्र छात्रा से स्कूल द्वारा पूरे 12 माह की फीस ली जाएगी.
5.अभिभावकों द्वारा निर्धारित तिथि पर फीस जमा न करने पर स्कूल द्वारा बच्चों के नाम स्कूल से पृथक कर दिया जाएगा.
6. स्कूल संचालकों द्वारा अभिभावकों को किसी तरह का नियम विरुद्ध प्रलोभन नहीं दिया जाएगा.
7.फर्जी टीसी पाए जाने पर पीसी जारी करने वाले स्कूल संचालक तथा अभिभावक दोनों पर प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी.
8.कोरोना काल की पूरी फीस ली जाएगी यदि कोई स्कूल संचालक किसी अभिभावक को व्यक्तिगत रुप से ही इसमें कुछ रियायत करता है तो वह उसका सर्वजनिक प्रचार नहीं करेगा.
9.इसको रोना काल में टीसी जारी करने की तिथि 31 जुलाई तक की थी यदि इस तिथि के बाद कोई टीसी लेता है अभिभावक में अप्रैल से टीसी जारी करने की तिथि तक की ही स्कूल में जमा करनी होगी.
जिला प्रभारी राजेश पटेल जी की सहमति पर धर्मेंद्र सिंह गुरु नानक अकैडमी पीलीभीत को प्रदेश अध्यक्ष ने सहमति करते हुए नगर प्रभारी पीलीभीत व महेश कौशल प्रबंधक सुरभि शोभित पब्लिक स्कूल आपको मीडिया प्रभारी नियुक्त किया गया.
बैठक में राजीव यादव प्रदेश मंत्री अभिनेंद्र स्नातक प्रदेश संगठन मंत्री राजेश पटेल जिला प्रभारी पीलीभीत भूपेंद्र शर्मा सह प्रभारी सचिन सक्सेना जिला अध्यक्ष किशनलाल मौर्य जिला महासचिव पुष्पेंद्र कुमार वर्मा एडवोकेट जिला प्रवक्ता ईश्वरी प्रसाद प्रजापति प्रभारी मंत्री लोढ़ीखेड़ा श्याम बिहारी प्रभारी अमरिया सह प्रभारी देवीदास बर्मा अमरिया रामबाबू प्रभारी मरौरी वेद प्रकाश वर्मा सह प्रभारी मरौरी निरंजन लाल वर्मा प्रभारी बरखेड़ा शिव शंकर सह प्रभारी बरखेड़ा दुर्गेश यादव नरेश कुमार वर्मा देवकीनंदन मौर्य चंद्रसेन समीम उद्दीन खान श्याम बिहारी स्वरूप देने हरिशंकर राठौर रामपाल वर्मा सर्वेश कुमार शिव शंकर वेद प्रकाश शांति स्वरूप वर्मा प्रेम शंकर वर्मा अयोध्या प्रसाद रामबाबू वर्मा सेवा राम गंगवार हुकुमचंद गोकुल प्रसाद मौर्य दरखाशा बी आदि लोग मौजूद रहे.

और पढ़ें
1 of 268
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.