Jan Sandesh Online hindi news website

चार दिन बाद थमा बढ़ते तापमान का ग्राफ, अगले दो दिन शुष्क रहेगा मौसम

0

 हल्द्वानी : तापमान में पिछले चार दिनों से जारी तेजी रविवार को थम गई। रविवार को हल्द्वानी का अधिकतम तापमान 31.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। न्यूतनम तापमान में भी मामूली गिरावट आई है। देहरादून मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक आगामी दो दिनों में कुमाऊं का तापमान शुष्क रहने की संभावना है। तराई-भाबर से लेकर पहाड़ों में मौसम साफ रहेगा। हालांकि सीमांत पिथौरागढ़ जिले में कुछ जगह आंशिक बादल छा सकते हैं। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि अगले दो दिनों में तापमान में थोड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। इससे एकाएक तेजी से बढ़ते तापमान से थोड़ी राहत मिलेगी।

और पढ़ें
1 of 259

हल्द्वानी में पारे की चाल (डिग्री सेल्सियस)

दिनांक         अधिकतम     न्यूनतम

25 फरवरी     30.0          8.0

26 फरवरी     31.3          10.1

27 फरवरी     31.9          13.4

28 फरवरी     31.8          12.9

तापमान में उतार चढ़ाव बना सकता है बीमार

मौसम में बदलाव सेहत को लेकर सही नहीं है। वरिष्ठ फिजिशियन डा. नीलांबर भट्ट का कहना है कि एकाएक तापमान में तेजी आने के बाद खुद की दिनचर्या में एकदम बदलाव लाना नुकशान देह साबित हो सकता है। गर्म कपड़ों को एकाएक नहीं छोड़ें। सुबह-शाम अभी भी ठंड है, जबकि दिन में तापमान 30 डिग्री के पार पहुंच रहा है। बदलते मौसम में सर्दी, जुकाम, खांसी आदि की समस्या देखने को मिल सकती है। श्वांस रोगियों की परेशानी बढ़ जाती है। ऐसे में सिर ढककर रखें, सावधानी बरतें। भोजन हल्का लें। गुनगुना पानी पीएं।

कुमाऊं के प्रमुख स्टेशनों का तापमान

स्टेशन          अधिकतम      न्यूनतम

हल्द्वानी         31.8            12.9

नैनीताल        20.0            7.0

मुक्तेश्वर        19.5            5.6

अल्मोड़ा        26.0            5.6

पिथौरागढ़      22.7             6.6

चम्पावत        20.0            5.4

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.