Jan Sandesh Online hindi news website

ऐसे हुआ था जेनिफर से प्यार, जानें उनके बारे में ये खास बातें, शशि कपूर ने कर ली थी शादी 20 साल की उम्र में

0

नई दिल्ली। बॉलीवुड के ऐसे बहुत से कलाकार हैं जो अब इस दुनिया में नहीं रहे, लेकिन आज भी फिल्मी पर्दे पर उनकी अमिट छाप की वजह से उन्हें याद किया जाता है। ऐसे ही एक कलाकार थे दिग्गज अभिनेता शशि कपूर। शशि कपूर का जन्म 18 मार्च 1938 को हिंदी सिनेमा के शानदार अभिनेता और फिल्मकार पृथ्वीराज कपूर के घर में हुआ था। वह अभिनेता राजकपूर और शम्मी कपूर के छोटे भाई थे।

और पढ़ें
1 of 949

शशि कपूर की मां का नाम रामशरणी कपूर था। शशि कपूर के बचपन का नाम बलबीर राज कपूर था। उन्होंने अभिनय का शुरुआत साल 1944 में पिता पृथ्वीराज कपूर के पृथ्वी थिएटर से की थी। पहली बार शशि कपूर नाटक ‘शकुंतला’ से नजर आए थे। वहीं बॉलीवुड फिल्मों में उन्होंने अभिनय की शुरुआत बाल कलाकार के तौर पर की थी। इसके बाद शशि कपूर ‘सत्यम शिवम सुन्दरम’, ‘जब-जब फूल खिले’, ‘दीवार’, ‘सुहाग’, ‘दो और दो पांच’, ‘शान’, ‘नमक हलाल’, ‘सिलसिला’ और ‘मुकद्दर का सिकंदर’ सहित कई शानदार फिल्मों में काम किया था।

हिंदी फिल्मों के अलावा शशि कपूर ने विदेशी फिल्मों में भी काम किया था। वह भारत के शुरुआती कलाकारों में से थे, जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ब्रिटिश और अमेरिकी फिल्मों में भी काम किया। शशि कपूर ने 10 से ज्यादा हॉलीवुड फिल्मों में काम किया था। हिंदी सिनेमा में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें पद्मश्री के अलावा दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से भी नवाजा गया। वह राष्ट्रीय पुरस्कार भी हासिल कर चुके हैं। फिल्मों के अलावा शशि कपूर अपनी लव लाइफ को लेकर भी काफी चर्चा में रहते थे।

उनकी शादी की कहानी भी काफी दिलचस्प है। पृथ्वी थिएटर में काम करने के दौरान वह भारत यात्रा पर आए गोदफ्रे कैंडल के थिएटर ग्रुप ‘शेक्सपियेराना’ में शामिल हो गए। थियेटर ग्रुप के साथ काम करते हुए उन्होंने दुनियाभर की यात्राएं कीं और गोदफ्रे की बेटी जेनिफर के साथ कई नाटकों में काम किया। इसी बीच उनका और जेनिफर का रिश्ता परवान चढ़ा और 20 साल की उम्र में ही उन्होंने खुद से पांच साल बड़ी जेनिफर से शादी कर ली। जेनिफर की मौत 1984 में हो गयी थी। उनकी असामयिक मृत्यु का शशि पर गहरा असर पड़ा। कुणाल, करण और संजना इस दम्पति की तीन संतानें हैं।

शशि कपूर का अमिताभ बच्चन के करियर में भी अहम योगदान रहा है। इन दोनों कलाकार की जोड़ी ने ‘दीवार’, ‘नमक हलाल’, ‘कभी कभी’, ‘सिलसिला’, ‘सुहाग’, ‘त्रिशूल’, ‘दो और दो पांच’, ‘शान’, ‘काला पत्थर’ जैसी एक दर्जन से भी ज्यादा फिल्मों में साथ नजर आए। अभिनय के इस शानदार कलाकार 4 दिसंबर 2017 को दुनिया को अलिवदा कह गया।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.